scriptEducation Committee scam: Earlier, late-lapping was done in the name o | शिक्षा समिति घोटोला : पहले जांच के नाम पर करते रहे लेट-लतीफी, अब जांच रिपोर्ट में हेरा-फेरी | Patrika News

शिक्षा समिति घोटोला : पहले जांच के नाम पर करते रहे लेट-लतीफी, अब जांच रिपोर्ट में हेरा-फेरी

पुरानी रिपोर्ट भेजनी थी इसलिए मुख्य रिपोर्ट के लिए नहीं दिया रिमाइंडर
जिस रिपोर्ट से कार्रवाई होनी थी, उसे अधिकारियों ने लोकायुक्त को नहीं भेजा

शाहडोल

Published: May 04, 2022 12:22:38 pm

शहडोल. शिक्षकों की नियुक्ति, छात्रों की उपस्थिति और एरियर में करोड़ों रुपए के हेरफेर मामले में क्लीनचिट दी गई पुरानी रिपोर्ट लोकायुक्त को भेजने के मामले में नया मोड़ सामने आया है। अधिकारियों ने मामले में पर्दा डालने के लिए पहले जांच कराने में लेटलतीफी की। बाद में जांच टीम सदस्यों को बिना रिमाइंडर दिए ही पुरानी रिपोर्ट लोकायुक्त को आगे की कार्रवाई के लिए भेज दी गई। इसके लिए प्रशासन ने रिपोर्ट न देने पर जांच टीम के अधिकारियों को न तो रिमाइंडर दिया और न ही लेटलतीफी करने पर जवाब तलब किया। दो माह तक मामले में पर्दा रखने के बाद पुरानी रिपोर्ट भेज दी। दरअसल शिक्षा समिति में शहडोल में करोड़ों रुपए का हेरफेर के आरोप लगे थे। प्रभारी मंत्री ने कलेक्टर और अधिकारियों को पत्र लिखकर जांच और कार्रवाई की बात कही थी। मामले में लोकायुक्त भी जांच कर रही थी। लोकायुक्त ने शहडोल प्रशासन से रिपोर्ट मांगी तो अधिकारियों ने एक माह तक कोई जांच ही नहीं की। डेढ़ माह बाद अपर कलेक्टर को जांच अधिकारी बनाते हुए रिपोर्ट मांगी। सूत्रों के अनुसार, जांच में वित्तीय अनियमितता सामने आई तो रिपोर्ट दबा दी गई। अधिकारियों ने शिक्षा समिति को पूर्व में क्लीनचिट दी गई रिपोर्ट ही लोकायुक्त को भेज दी। जबकि अपर कलेक्टर की रिपोर्ट को शामिल ही नहीं किया गया। अधिकारी मामले में रिपोर्ट में लेटलतीफी की दलील दे रहे हैं लेकिन सवाल उठता है कि रिपोर्ट देने देरी हुई तो अधिकारियों ने रिमाइंडर और जवाब तलब क्यों नहीं किया। कलेक्टर वंदना वैद्य का कहना है कि जांच टीम बनाई थी लेकिन समय पर रिपोर्ट नहीं मिली। मालुम नहीं था कि पहले रिपोर्ट बन चुकी है। पुरानी रिपोर्ट ही भेजनी थी, जिसे लोकायुक्त को भेजा गया है। उल्लेखनीय है कि शिक्षा समिति में अनुदान के नामों पर करोड़ो की हेर-फेर की गई थी। मामला उजागर होने के बाद जांच समिति तो बैठाई गई लेकिन कार्रवाई के नाम पर अभी तक कोई ठोस निर्णय नहीं लिया गया।

शिक्षा समिति घोटोला : पहले जांच के नाम पर करते रहे लेट-लतीफी, अब जांच रिपोर्ट में हेरा-फेरी
शिक्षा समिति घोटोला : पहले जांच के नाम पर करते रहे लेट-लतीफी, अब जांच रिपोर्ट में हेरा-फेरी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: राजस्थान ने बैंगलोर को 7 विकेट से हराया, दूसरी बार IPL फाइनल में बनाई जगहपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.