विश्वविद्यालय की वेबसाइट में एरर, रिजेक्ट हो रहे फार्म, प्रवेश के लिए छात्र-छात्राएं परेशान

अभाविप ने समस्याओं को लेकर सौंपा ज्ञापन

By: Ramashankar mishra

Published: 02 Sep 2020, 12:42 PM IST

शहडोल. पं. शंभूनाथ शुक्ल विश्वविद्यालय में प्रवेश प्रक्रिया को लेकर छात्र-छात्राओं को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। बताया जा रहा है कि वेबसाइट में लगातार आ रहे एरर की वजह से प्रवेश प्रक्रिया पूरी नहीं हो पा रही है और छात्रों के फार्म रिजेक्ट हो जा रहे हैं। इसके साथ ही छात्र-छात्राओं को अन्य परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जिसे लेकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा पं. शंभूनाथ शुक्ल विश्वविद्यालय प्रबंधन को छह सूत्रीय मांगो का ज्ञापन सौंपकर समस्याओं का समाधान कराने की मांग की है। विवि प्रबंधन को सौंपे गए ज्ञापन में कहा गया है कि कोरोना संक्रमण के चलते पूरा समाज आर्थिक मंदी से गुजर रहा है। छात्रों के परिवार की आर्थिक स्थिति को ध्यान में रखते हुए विगत वर्षों तक जितनी प्रवेश शुल्क ली जाती रही है इस बार उसका 50 प्रतिशत शुल्क ही प्रवेश फीस के तौर पर ली जाए। प्रवेश प्रक्रिया से छात्र परेशान है। फार्म बार-बार रिजेक्ट कर दिए जा रहे हैं जिस कारण नया रजिस्ट्रेशन कराना पड़ता है। वेबसाइट में हर दिन नए एरर आ जाते हैं वेबसाइट में आधे से ज्यादा प्रोफार्मा खुलते ही नहीं है इसलिए या वेबसाइट बदली जाए या फिर उसे बेहतर की जाए। वेबसाइट पर उपलब्ध हेल्पलाइन नंबर भी बंद है। जिसके चलते छात्रों को किसी भी प्रकार की जानकारी उपलब्ध नहीं हो पा रही है। विश्वविद्यालय की जो प्रवेश प्रक्रिया है उसमें पहले राउंड के बाद सीधे स्पॉट राउंड होना है जिस कारण छात्रों को रजिस्ट्रेशन के लिए बहुत कम समय मिल पाएगा। इसलिए या तो पहले राउंड की डेट बढ़ाई जाए अन्यथा स्पॉट राउंड के पहले दूसरा राउंड का समय दिया जाए। साथ ही अतिथि विद्वानो की नियुक्ति किए जाने की मांग अभाविप द्वारा की गई है। ज्ञापन सौंपते समय मनोज यादव, अरुणेन्द्र पाण्डेय, डॉक्टर सिंह मार्को, उत्कर्ष द्विवेदी, शिवम वर्मा, सुजीत खटीक, ऋषि गुप्ता, आयुष गुप्ता, आकाश कुशवाहा, रोशन गुप्ता, अभिषेक गुप्ता, मोनू रजक, सौरभ गुप्ता, बालकृष्ण साहू आदि कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

Show More
Ramashankar mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned