प्रसूता की मौत पर डेढ़ साल बाद कार्रवाई: तीन डॉक्टरों पर गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज

प्रसव में लापरवाही पर तीन डॉक्टरों कार्रवाई, पुरानी फाइल खुली, 15 माह बाद कार्रवाई

By: shubham singh

Published: 03 Jan 2021, 11:33 PM IST

शहडोल. जिला अस्पताल में प्रसव के दौरान प्रसूता की मौत मामले में पुलिस ने तीन डॉक्टरों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। रीवा विशेषज्ञों की टीम रिपोर्ट मिलने पर कोतवाली पुलिस ने तीन डॉक्टरों के खिलाफ लापरवाही पूर्वक इलाज करने पर मौत का मामला दर्ज किया है। पुलिस ने बताया कि खैरहा निवासी सुधा गुप्ता को परिजनों ने प्रसव के लिए 22 अक्टूबर 2019 को जिला अस्पताल में भर्ती कराया था। प्रसव के दौरान इलाज में लापरवाही के चलते सुधा गुप्ता की 23 अक्टूबर को मौत हो गई थी। इस पर परिजनों ने शिकायत दर्ज कराई थी। मामले में कई संगठन और समाज के लोगों ने भी ज्ञापन सौंपकर कार्रवाई की मांग की थी।


कांग्रेस सरकार में भी जनवरी 2020 में स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट के दौरे के वक्त भी परिजनों ने लापरवाही का आरोप लगाते हुए जांच और कार्रवाई की मांग की थी। मामले में कलेक्टर ने एसडीएम को जांच सौंपी। वहीं कमिश्नर ने रीवा संभाग के डॉक्टरों की टीम को जांच कर रही थी। रीवा संभाग के डॉक्टरों ने जांच के बाद जिला अस्पताल के तीन डॉक्टरों डॉ क्षितिजा मणि, डॉ रीना गौतम तथा डॉ डीके सिंह को इलाज में लापरवाही पाने की रिपोर्ट पुलिस अधिकारियों को सौंपी थी। इसके बाद पुलिस ने तीनों डॉक्टरों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। डॉ डीके सिंह के खिलाफ हाल ही में प्रशासन की टीम ने भी कार्रवाई की थी। क्लीनिक पर दबिश देकर बिना पंजीयन जांच करने पर सील किया था। गौरतलब है कि हाल ही में डॉ डीके सिंह ने सिविल सर्जन को लेकर चल रही डॉक्टरों की हड़ताल में भी शामिल रहे हैं।

shubham singh Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned