घटिया स्तर की है मत्स्य पालन की गतिविधियां, कमिश्नर ने कहा- यहां नहीं चलेंगे फर्जी आंकड़े

औषधीय फसलों को करें प्रोत्साहित, हर तालाब में हो मछली पालन

By: amaresh singh

Published: 28 May 2021, 12:25 PM IST

शहडोल. संभाग के किसानों को उन्नत खेती के साथ ही औषधीय फसलों की खेती के लिए प्रोत्साहित किया जाए। साथ ही संभाग के सभी तालाबों में मत्स्य पालन की गतिविधियां प्रारंभ कराई जाएं। संभाग में धान की दो फसलें लेने के लिए अच्छा वातावरण है जिसका लाभ शहडोल संभाग के किसानों को मिलना चाहिए। किसानों को धान की दो फसल लेने के लिए समुचित तकनीकी ज्ञान मुहैया कराएं। उक्त निर्देश संभागायुक्त राजीव शर्मा ने गुरुवार को आयोजित मत्स्य पालन विभाग, कृषि विभाग और उद्यानिकी विभाग की समीक्षा बैठक के दौरान दिए।
मत्स्यपालन विभाग की संभागीय बैठक में उन्होन निर्देशित किया है कि संभाग में सेटेलाइट सर्वें के आधार पर चिन्हित किए गए तालाबों का भौतिक सत्यापन तत्काल कराएं तथा सभी तालाबों में मछली के बीज डालकर मछली पालन की गतिविधियां प्रारंभ कराएं। मत्स्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए है कि संभाग में बडी मात्रा में तालाब है इन तालाबों में मत्स्य पालन होना चाहिए तथा मत्स्य उत्पादन दो गुना होना चाहिए।
क मिश्नर ने संभाग में धान की दो फसलें लेने के लिए किसानों को प्रोत्साहित करने के निर्देश कृषि विभाग के अधिकारियों को दिए है। उन्होने सभी मैदानी कृषि अमले को निर्देश दिए है कि वे ग्रामीण क्षेत्रों में जाकर किसानों से जीवन्त सम्पर्क स्थापित करें तथा किसानों को उन्नत खेती करने के लिए प्रोत्साहित करें।
उन्होने कहा कि खेती को लाभ का धंधा कैसे बनाया जाए तथा कृषि लागत को कैसे कम किया जाएं कृषि वैज्ञानिकों का ध्यान इस पर केन्द्रित होना चाहिए तथा इसका लाभ किसानों को मिलना चाहिए। खरीफ सीजन की बोनी के लिए किसानों को खाद, बीज की उपलब्धता की जाएं। प्रतिदिन मार्केट में खाद और बीज किस दर पर प्राप्त हो रही है इसकी भी जानकारी उपलब्ध कराएं। किसानों को उच्च गुणवत्ता का खाद और बीज उपलब्ध हों इसकी व्यवस्था करें। कहीं पर भी अमानक स्तर का खादए बीज विक्रय की सूचना मिलने पर संबंधित जिले के उप संचालक कृषि पर सख्त कार्यवाही होगी। जो संस्थान संभाग में अमानक स्तर का खाद एवं बीज बेचने में संलग्न होगी उनके विरूद्ध सख्त कार्यवाही करें। कमिश्नर ने यह भी निर्देश दिए कि संभाग में प्रतिदिन कितने किसानों के खेतों की मिट्टी का परीक्षण किया गया इसकी जानकारी भी उन्हें प्रतिदिन मुहैया कराया जाएं।
सं भागायुक्त ने मत्स्य विभाग द्वारा संचालित योजनाओं की समीक्षा करते हुए कहा कि शहडोल संभाग में मत्स्य पालन की गतिविधियां घटिया स्तर की है। किसी भी स्थिति में फर्जी ऑकडे नही चलेगें। मुझे वास्तविक कार्य से मतलब है मत्स्य पालन की गतिविधियों में आगामी 15 दिवसों में सुधार होना चाहिए अन्यथा उदासीन एवं लापरवाह अधिकारियों के विरूद्व सख्त कार्यवाही की जाएगी। मत्स्य पालन विभाग द्वारा संचालित योजनाएं मत्स्य पालक किसानों को मिलना चाहिए।
मछुआरों के लिए विभिन्न कल्याणकारी योजनाएं संचालित की जा रही है इन योजनाओं का व्यापक प्रचार-प्रसार कराएं तथा योजनाओं का लाभ मत्स्य पालक किसानों को दिलाएं।
कमिश्नर राजीव शर्मा ने संभाग में विशेषकर अमरकंटक क्षेत्र में औषधीय फसलों की खेती को प्रोत्साहित करने के निर्देश उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों को दिए है। उन्होने कहा है कि अमरकंटक क्षेत्र में गुलवकावली सहित कई अन्य औषधीय पौधे प्राकृतिक रूप से जंगलों में पाये जा रहे हैं। इस क्षेत्र में प्राकृतिक तौर से पाये जाने वाले औषधीय फसलों की खेती को प्रोत्साहित किया जाए। क्षेत्र के किसानों को औषधीय पौधो की खेती का समुचित प्रशिक्षण दिया जाए तथा औषधीय फसलों के लिए प्रोत्साहित किया जाएं। सभी तालाबों में सिघाड़े की खेती और कमल की खेती के लिए किसानों को प्रोत्साहित किया जाए इसके लिए किसानों को जरूरी प्रशिक्षण एवं अन्य संसाधन मुहैया कराए जाएं। सभी उद्यानिकी अधिकारी कृषि विज्ञान केन्द्रो के वैज्ञानिकों से सतत सम्पर्क में रहें तथा कृषि एवं उद्यानिकी से संबंधित आधुनिकतम खेती की तकनीकी जानकारी किसानों तक पंहुचाने का कार्य कराएं। बैठक में संयुक्त संचालक उद्यान ने बताया कि संभाग में 13 नर्सरियां संचालित की जा रही है। वर्षाकाल में पौधरोपण के लिए 1 लाख 18 हजार फलदार वृक्षों के पौध तैयार किये गए है। संभाग में 1375 कृषकों को प्रशिक्षण दिया गया है।

amaresh singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned