हितग्राहियों को नहीं बांटा खाद्यान्न, ऑनलाइन में दिखा रहा पर्याप्त स्टॉक, मौके में नहीं मिला अनाज

मौके में नहीं मिला स्टॉक और वितरण रजिस्टर, केरोसीन और शक्कर वितरण में भी गड़बड़ी

By: amaresh singh

Published: 14 Oct 2021, 11:28 AM IST

शहडोल. नगर के राशन दुकान संचालित हितग्राहियों के हक के राशन में बटॅटा लगा कर अपना स्वार्थ सिद्ध कर रहे थे। कहीं नि:शुल्क राशन वितरण में गड़बड़ी तो कहीं केरोसीन और शक्कर वितरण में हेरा-फेरी दुकान संचालकों की फितरत में शामिल हो गया है। गरीबों के अनाज से अपनी जेबे भरने वाले इन राशन दुकान संचालकों की शिकायतें लगातार प्रशासनिक मोहकमे के पास पहुंच रही थी। हतग्राहियों को कम राशन दिया जाना, नि:शुल्क राशन वितरण में हेर-फेर, केरोसीन और शक्कर वितरण नहीं किए जाने, कई हितग्राहियों को राशन न दिए जाने के मामले लगातार संज्ञान में आ रहे थे। जिसे गंभीरता से लेते हुए प्रशासनिक अधिकारियों के निर्देश पर खाद्य और राजस्व विभाग की टीम ने नगर की तीन दुकानों का औचक निरीक्षण किया। जहां टीम ने दुकान से संबंधित स्टॉक रजिस्टर वितरण रजिस्टर, मौके पर मौजूद स्टॉक संबंधी आवश्यक दस्तावेज खंगाले। साथ ही हितग्राहियों को भी बुलाकर राशन, केरोसनी और शक्कर वितरण के संबंध में जानकारी ली और उनके बयान दर्ज किए। टीम द्वारा की गई इस जांच में दुकानों में प्रथम दृष्टया कई गडग़डिय़ां सामने आई है। कहीं हितग्राहियों को राशन वितरण की वजाय गोदाम में स्टॉक करके रखा गया था, कहीं हितग्राहियों को नि:शुल्क राशन वितरण नहीं किया गया तो कहीं मौके से स्टॉक रजिस्टर, वितरण रजिस्टर के साथ ही स्टॉक भी गायब मिला। टीम ने तीनो दुकानों का पंचनामा तैयार किया है। इसके बाद ऑनलाइन आवंटन, वितरण और स्टॉक संबंधी जानकारी से मिलान करने के बाद ही यह स्पष्ट हो पाएगा कि कहां कितनी गड़बड़ी की गई।
मेटेंन नहीं था रजिस्टर, स्टॉक भी कम मिला
नगर के वार्ड क्रमांक 17 में संचालित राशन दुकान में निरीक्षण करने पहुंची टीम ने दस्तावेज खंगाले तो रजिस्टर मेंटेंन नहीं मिला। वहीं स्टॉक व वितरण संबंधी रजिस्टर भी मौके पर मौजूद नहीं मिला। वहीं दुकान में खाद्यान्न का जो स्टॉक था उसमें भी गबड़बी मिली है। कई हितग्राहियों ने पूछताछ के दौरान राशन न मिलने व पैसे लेकर राशन देने की बात कही गई। दीनदयाल रसोई के लिए जो अनाज आवंटन हुआ था वह दुकान में न होकर रेलवे कॉलोनी स्थित दुकान में रखा होना बताया गया। जिसकी भी जांच कराई गई। साथ ही सभी दस्तावेज टीम ने दुकान संचालक से मंगाए हैं।
नि:शुल्क राशन में हेर-फेर, नमक का स्टॉक भी कम
खाद्य और राजस्व विभाग की टीम दोपहर में नगर के वार्ड क्रमांक 24-25 की राशन दुकान पहुंची। जहां राशन दुकान संचालक से स्टॉक के संबंध में जानकारी जुटाई गई साथ राशन की बोरियों का वजन भी कराया गया। हितग्राहियों से पूछताछ के दौरान यह बात सामने आई कि जिन हितग्राहियों को राशन वितरण किया गया है उसका पूरा पैसा लिया गया है। साथ ही नमक का स्टॉक भी कम मिला है। जिसके वितरण व ऑनलाइन इन्ट्री से मिलान के बाद स्थिति स्पष्ट हो पाएगी। साथ ही हितग्राहियों ने केरोसीन व शक्कर न मिलने की भी बात कही है। दुकान संचालक का कहना था कि आवंटन नहीं जारी हुआ। टीम ने स्टॉक, वितरण सहित अन्य जानकारी जुटाने के साथ हीं पंचनामा तैयार किया है।
दुकान में नहीं थे दस्तावेज, स्टॉक भी नहीं मिला
नगर के वार्ड क्रमांक 29/30 की दुकान पहुंची टीम को दुकान में ताला लगा मिला। दुकान खुलने का समय सुबह 9 बजे से 12 बजे तक और दोपहर में 2 बजे से 5.30 बजे तक लिखा हुआ था। जबकि 2.50 में टीम पहुंची तो दुकान बंद थी। दुकान संचालक ने गोदाम अनाज लेने जाने की बात कही। जब टीम ने दुकान के अंदर निरीक्षण किया तो दुकान में सिर्फ गेहूं का स्टॉक ही मिला। वहीं मौके में किसी भी प्रकार के दस्तावेज टीम को नहीं मिले। दुकान संचालक द्वारा घर पर स्टॉक व वितरण रजिस्टर होने संबंधी दस्तावेज होने की बात कही गई। साथ ही यह आरोप भी लगाया गया कि पिछले माह का राशन आवंटन ही नहीं हुआ। जो राशन आवंटन होता भी है तो वह 60 प्रतिशत ही होता है। वहीं ऑनलाइन जांच करने पर दुकान में पर्याप्ट स्टॉक होना दर्शा रहा था। वहीं हितग्राहियों से पूछताछ के दौरान यह बात सामने आई कि पिछले महीने से उन्हे राशन ही नहीं मिला। वहीं केरोसीन और शक्कर भी नहीं मिलती।
ऐसी भी गड़बडियां आई सामने
टीम द्वारा निरीक्षण के दौरान की गई पूछताछ के दौरान राशन कार्ड में हितग्राहियों के नाम न जुड़े होने, कार्ड होने के बाद भी ऑनलाइन फीडिंग के अभाव में राशन न मिलने, हितग्राहियों के नाम कटने, कम राशन देने, केरोसीन और शक्कर वितरण न किए जाने और मौके पर कोई स्टॉक भी न मिलने जैसे मामले सामने आए हैं।
यह रहे टीम में शामिल
नगर की राशन दुकानों में की जा रही गड़बडिय़ों की लगातार मिल रही शिकायतों के बाद नगर के वार्ड क्रमांक 17 में अपर कलेक्टर अर्पित वर्मा स्वयं टीम के साथ पहुंच स्थितियों का जायजा लिया। वहीं अन्य वार्डो में संचालित राशन दुकानों में नायब तहसीलदार के एल पनिका, कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी दीप्ती सिंह, कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी आरएन जाटव व पटवारी विजय विश्वकर्मा ने राशन वितरण व्यवस्था की बारीकी से जांच की।
इनका कहना है
रजिस्टर मेंटेन न होने के साथ ही कम राशन वितरण और स्टॉक में कमी जैसी कमियां सामने आई हैं। जांच पूरी होने के बाद ही स्थिति स्पष्ट हो पाएगी। गड़बड़ी मिलती है तो उचित कार्रवाई की जाएगी।
अर्पित वर्मा, अपर कलेक्टर शहडोल
.............................
स्टॉक के साथ ही अन्य कमियां सामने आई है। दुकान संचालकों से आवश्यक दस्तावेज मंगाए गए हैं। दस्तावेजों के परीक्षण और मिलान करने के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा कि कहां क्या गड़बड़ी है।
दीप्ती सिंह, कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी शहडोल

amaresh singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned