छात्रावास बनाने के लिए उजाड़ दिया छात्राओं का खेल मैदान

बालिकाओं के छात्रावास के सामने बना रहे हैं बालकों का छात्रावास

शहडोल. पाण्डव नगर स्थित जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान (डाइट) परिसर के खेल मैदान में छात्रावास के निर्माण के लिए छात्राओंं के खेलने के लिए बने फुटबाल मैदान को उजाड़ दिया गया। जिससे परिसर में संचालित स्कूलों एवं निर्मित छात्रावासों में रहने वाली छात्राओं में आक्रोश व्याप्त है। आश्चर्य की बात तो यह है कि परिसर में बालिकाओं के छात्रावास व स्कूल है और दिव्यांग छात्रों का छात्रावास बनवाया जा रहा है। प्रधानाध्यापक और छात्रावास अधीक्षकों ने इसकी लिखित शिकायत कमिश्नर, कलेक्टर एवं शिक्षा विभाग के उच्चाधिकारियों से की गई है, मगर निर्माण एजेन्सी के खिलाफ आज तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है। गौरतलब है कि जहां एक ओर विविध स्कूलों में खेलकूद गतिविधियों के संचालन के लिए मध्यप्रदेश शासन द्वारा खेलों को प्रोत्साहित किया जाता है और स्कूलों में खेल केलेण्डर जारी किया जाता है। वहीं दूसरी ओर नित नये भवनों का निर्माण होने से संभागीय मुख्यालय के पाण्डव नगर स्थित डाइट परिसर का खेल मैदान समाप्त किया जा रहा है। जिससे खेल गतिविधियों के संचालन में सवालिया निशान लग रहा है।
स्कूली बच्चों को खेल की समस्या
बताया गया है कि डाइट के खेल मैदान के पास शासकीय कन्या माध्यमिक विद्यालय वार्ड नम्बर एक सोहागपुर, पिछड़ा वर्ग बालिका छात्रावास, प्राथमिक विद्यालय, सिंधी भाषा-भाषी प्राथमिक विद्यालय, कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय एवं बालिका छात्रावास और अनूसूचित जनजाति कन्या छात्रावास संचालित है। जहां के बच्चे डाइट के ही मैदान में हीं खेलते है। इसके अलावा आसपास के कॉलोनी के बच्चों को खेलने लिए एक बेहतर मैदान उपलब्ध था, मगर वहां कई विभागीय कार्यालय एवं वर्तमान में छात्रावास भवनों का निर्माण शुरू होने से खेल मैदान समाप्त हो गया है।
कई कार्यालयों के भवन भी बने हैं
डाइट के खेल मैदान में संयुक्त संचालक शिक्षा का कार्यालय भवन बनाया गया है। जिसकी वर्तमान में चहारदीवारी भी बनवा दी गई है। कई कमरों का एक दो मंजिला छात्रावास भी बनाया गया है। इसके अलावा विकास खण्ड शिक्षा अधिकारी का कार्यालय भी इसी खेल मैदान परिसर में संचालित हो रहा है और दो कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय भवन,पिछड़ा वर्ग कन्या छात्रावास एवं डाइट का एक छात्रावास भी खेल परिसर में ही बना हुआ है। डाइट के छात्रावास में तो जिला प्रौढ़ शिक्षा अधिकारी का कार्यालय भी संचालित हो रहा है।
पन्द्रह एकड़ जमीन में मनमाना आलम
बताया गया है कि डाइट का खेल मैदान करीब पन्द्रह एकड़ की जमीन पर फैला हुआ था। जिसमें बेतरतीब तरीके से विशाल भवनों का निर्माण करा दिया गया है। यदि पन्द्रह एकड़ की जमीन पर खेल मैदान को विस्तारित किया जाता तो यह संभागीय मुख्यालय के लिए एक विशेष उपलब्धि होती, लेकिन ऐसा नहीं किया गया। इसके अलावा यदि भवनों के निर्माण के साथ खेल मैदान को भी व्यवस्थित किया जाता तो और भी बेहतर होता, मगर ऐसा भी नहीं किया जा रहा है। इस तरह भवनों का निर्माण खेल मैदान को निगल रहा है।
इनका कहना है
दिव्यांग छात्रावास का निर्माण रमसा द्वारा करवाया जा रहा है। खेल मैदान समाप्त होने की शिकायत मिली है, लेकिन दिव्यांग छात्रावास का निर्माण शहर के अंदर कराना जरूरी है और शहर में अन्य कहीं शासकीय जमीन नहीं है।
सहदेव सिंह मरावी, संयुक्त संचालक, शिक्षा विभाग, शहडोल

दिव्यांग छात्रावास का निर्माण की एजेन्सी पीआईयू है और छात्रावास से संबंधित जानकारी पीआईयू से मिल सकती है। मैं उनसे पूंछकर आपको बताता हूं।
अरविन्द पाण्डेय, सहायक परियोजना समन्वयक, रमसा, शहडोल

Show More
brijesh sirmour Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned