बिना अनुमति काट दिए हरे भरे पेड़

राजस्व विभाग और एनएचआई की मिली भगत

By: lavkush tiwari

Updated: 04 Apr 2019, 12:50 PM IST

शहडोल. उमरिया से शहडोल एनएच 43 निर्माणाधीन सड़क बनाने के लिए मनमानी तरीके से ठेकेदार के माध्यम से लाखों रूपए के बेस कीमती पेडों की कटाई की जा रही है। ऐसा ही मामला कुदरी चांपा ग्राम पंचायत का सामने आया है, जिसमें रीवा रोड़ स्थित राजाबाग से निकलने वाली एनएच सड़क बेलबहरा वीरान गांव होकर मेडिकल कालेज और सेंट एलायसिस स्कूल के बीच पडऩे वाले लगभग 100 वृक्षों की कटाई दिन दहाड़े चोरी छिपे कर दी गई और बेस कीमती की बिक्री कर शासन को लाखों रुपए की चपत लगा दी। मामले की जानकारी राजस्व विभाग के अधिकारियों सहित वन विभाग के अमले को नहीं लगी। बताया गया है कि पेडों की कटाई में राजस्व विभाग के अमले और एनएचआई के अधिकारियों की मिली भगत बताई जा रही है। बताया गया है कि निर्माणाधीन सड़क के पास स्थित तालाब की मेढ़ पर लगे हरे मोटे पुराने वृक्षों की कटाई कर लकड़ी पिकप के माध्यम से परिवहन कर ली गई और इसकी भनक राजस्व विभाग के अमले को नहीं लगी। अब इस बात को लेकर राजस्व विभाग के अमले तथा एनएचएआई के अधिकारियों की कार्यशैली पर सवाल उठाए जा रहे हैं।
कटर मशीन लगाकर वक्षों का कत्लेआम-
बताया गया है कि सड़क के किनारे पडऩे वाले वृक्षों की कटाई कटर मशीन से की गई है, जिसकी अनुमति किसने दी इस बात की जानकारी राजस्व विभाग के अधिकारियों को नहीं है। बताया गया है कि पेड़ों की कटाई के दौरान वहां स्थित तालाब की मेढ़ को भी छति पहुंचाते हुए मेढ़ को तोड़ दिया गया है, जिससे अब तालाब में आम निस्तार के लिए पानी का भराव नहीं हो सकेगा।
कराई जा रही मामले की जांच
पेड़ कटाई मामले की जानकारी होने के बाद मौके पर आरआई पटवारी को जांच करने के निर्देश दिए गए हैं। तहसीलदार को भी वास्तविकता की जानकारी देने को कहा गया है। मामले की जांच के बाद द्रोषियों पर कार्रवाई की जाएगी।
सुरेश अग्रवाल
एसडीएम
सोहागपुर

lavkush tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned