पलक झपकते ही ट्रेन से चोर पार कर देते है यात्री का सामान

सफर की समस्या : हर तीसरे दिन ट्रेन से हो रही है मोबाइल की चोरी, यात्री रेलगाडिय़ों में बढ़ रही चोरी की घटनाएं

By: brijesh sirmour

Updated: 06 Jan 2020, 01:05 PM IST

शहडोल. यात्री रेलगाडिय़ों में मोबाइल चोरों की सक्रियता काफी बढ़ गई है। संभागीय मुख्यालय के रेलवे स्टेशन से गुजरने वाली यात्री रेलगाडिय़ों से हर तीसरे दिन यात्रियों के मोबाइलों की चोरी हो रही है और पलक झपकते ही यात्रियों का सामान पार कर दिया जाता है। रेल थाना में पिछले 365 दिनों में ट्रेनों में चोरी के 126 मामले दर्ज हुए है। जिसमेें सर्वाधिक मामले मोबाइल चोरी के ही हैं। नववर्ष 2020 का आगाज भी मोबाइल चोरी की घटना से हुआ है। मोबाइल चोरी के अलावा गांजा की तस्करी व आम्र्स एक्ट में भी इजाफा हुआ है। जिससे रेल पुलिस के समक्ष अपराधियोंं की पकड़-धकड़ करने की चुनौतियां बढ़ गई है।
आधा क्ंिवटल से ज्यादा पकड़ा था गांजा
यात्री रेलगाडिय़ों से गांजा की तस्करी की सूचना पर रेलवे पुलिस ने पिछले तीन वर्षों में पहली बार नारकोटीय एक्ट के तहत विशेष मुहिम छेड़ी थी। जिसके परिणामस्वरूप आठ अलग-अलग प्रकरणों में आधा क्ंिवटल से भी ज्यादा गांजा बरामद कर आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की है। जानकारों की माने तो गांजा तस्करों को सडक़ मार्ग से ज्यादा सुविधा रेलमार्ग पर गांजा की तस्करी ज्यादा सुविधा जनक लगती है, मगर रेल पुलिस के चौकन्ना होने पर अब उनके अरमानों पर पानी फिर रहा है।
आम्र्स व आबकारी के मामले भी सामने आए
यात्री रेलगाडिय़ों व रेलवे स्टेशन में रेल पुलिस के धर-पकड़ अभियान के तहत पिछले एक साल में आम्र्स एक्ट के आठ मामले सामने आए है। साथ ही अवैध शराब के परिवहन के दस मामले दर्ज किए गए है। जिसमें मंहगी ब्रांडेड शराब के मामले भी शामिल है। जानकारों का कहना है कि रेलगाडिय़ों की जनरल बोगियों में नियमित सर्चिंग नहीं होने से अवैध हथियार व शराब का परिवहन आसानी से हो जाता है। इस पर अब रेल पुलिस को और भी ज्यादा ध्यान देने की जरूरत है।
इनका कहना है
रेलगाडिय़ों में यात्रियों की लापरवाही की वजह से ही अपराधियों के हौसले बढ़ते हैं। यदि यात्रा के दौरान यात्री एलर्ट रहे तो अपराध पर काफी हद तक अंकुश लग सकता है। पुलिस द्वारा अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए रेलयात्रियों को एलर्ट किया जाएगा और संदेहियों पर पैनी नजर रखी जाएगी।
एलपी कश्यप, रेल थाना प्रभारी, शहडोल

Show More
brijesh sirmour
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned