scriptIn this medical college of the state, one has to make efforts for wate | प्रदेश के इस मेडिकल कॉलेज में पानी के लिए करनी पड़ती है मश्क्कत | Patrika News

प्रदेश के इस मेडिकल कॉलेज में पानी के लिए करनी पड़ती है मश्क्कत

मरीज व परिजनों को नहीं मिल रहा पर्याप्त पानी

शाहडोल

Updated: May 16, 2022 12:10:36 pm

शहडोल. दूर-दराज से आए मरीजों को मेडिकल कॉलेज में इन दिनों पानी की किल्लत से जूझना पड़ रहा है। चिकित्सालय में आए मरीजों के परिजनों को बाहर से पानी लाकर अपना प्यास बुझाना पड़ता है। चिकित्सालय प्रबंधन ने बीते कुछ दिनों पहले पेयजल संकट को दूर करने ट्यूब वेल कराया था। लेकिन बढ़ते मरीजों की संख्या के कारण पानी की किल्लत निरंतर बनी हुई है। मरीज और उनके परिजन पीने के पानी के लिए दर-दर भटक रहे हैं। वार्डों में पानी की सप्लाई न होने की वजह से परिजनों को मशक्कत करनी पड़ रही है। गर्मी के दिनों में पानी की व्यवस्था को लेकर शहडोल मेडिकल कॉलेज सुर्खियों में बना है। उपचार के लिए भर्ती मरीज और उनके परिजन खरीदकर पानी पीने को मजबूर हो रहे है। मरीजों के परिजनों का कहना है इलाज कराएं या पानी लाएं। आलम ये है कि मेडिकल कॉलेज की बोरिंग भी मरीजों की प्यास बुझाने में असफल हो रहे हैं। । पानी की किल्लत को जिला प्रशासन सहित चिकित्यसालय प्रबंधक कोई ठोस प्रयास नहीं कर पा रहा है जिससे मरीजों व परिजनों को राहत मिल सके। वहीं मेडिकल कॉलेज के आसपास के नलों से गर्म पानी निकलता है जिसे परिजन परेशान हो रहे हैं। दूर दराज के गांव से मरीज को लेकर आने वाले परिजन अपने साथ खाना बनाने के लिए राशन भी लेकर आते है जो इलाज में ज्यादा समय लगने पर चिकित्सा परिषर में ही स्वंय खाना बना कर खाते। लेकिन पानी की कमी के कारण वह काफी परेशान देखे जाते है उन्हे अपने मरीज की देखरेख करने साथ ही खाना भी बनाना पड़ता है। जिससे वह खुले आसमान के नीचे तेज धूप में खाना बनाते है। वहीं पानी के लिए उन्हे दूर जाना पड़ता है। परिजनों की माने तो चिकित्सालय में मरीजों की भीड़ गर्मी के कारण बढ़ रही है वहीं उनके साथ आने वाले परिजन की संख्या भी हर दिन बढ़ रही है।
हैंण्ड पंप का नहीं करा रहे सुधार
मेडिकल कॉलेज में तीनो जिले के साथ-साथ छत्तीसगढ़ की सीमा तक से मरीज यहां उपचार के लिए आते है। अच्छे उपचार की आस में आए मरीजों को पानी की किल्लत से दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। अस्पताल परिषर में परिजन खाना बनाने के लिए अपने साथ सामान तो ले आते पर पानी की कमी के कारण उन्हे यहां वहां भटकना पड़ता है। चिकित्सा परसिर के अंदर दो हैण्ड पंप लगा हुआ है जो इन दिनों दोनों बंद हालत में पड़ा हुआ है। जिसके सुधार कार्य न हाने से पानी की किल्लत और भी बढ़ गई है। मरीजों की माने तो सुबह पानी के लिए बोर मशीन को 1 से 2 घंटे के लिए चालू किया जाता है। जिससे पूरा दिन मरीजों व परिजनों को पानी उपलब्ध नहीं हो पाता है।
हैंण्ड पंप का नहीं करा रहे सुधार
मेडिकल कॉलेज में तीनो जिले के साथ-साथ छत्तीसगढ़ की सीमा तक से मरीज यहां उपचार के लिए आते है। अच्छे उपचार की आस में आए मरीजों को पानी की किल्लत से दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। अस्पताल परिषर में परिजन खाना बनाने के लिए अपने साथ सामान तो ले आते पर पानी की कमी के कारण उन्हे यहां वहां भटकना पड़ता है। चिकित्सा परसिर के अंदर दो हैण्ड पंप लगा हुआ है जो इन दिनों दोनों बंद हालत में पड़ा हुआ है। जिसके सुधार कार्य न हाने से पानी की किल्लत और भी बढ़ गई है। मरीजों की माने तो सुबह पानी के लिए बोर मशीन को 1 से 2 घंटे के लिए चालू किया जाता है। जिससे पूरा दिन मरीजों व परिजनों को पानी उपलब्ध नहीं हो पाता है।
इनका कहना है
यहां पानी को लेकर समस्या बनी हुई है पर्याप्त पानी न मिलने के कारण दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। नहाने व कापड़ा धोने के लिए पानी नहीं मिलता है। कई बार बाहर से खरीद कर ठंडा पानी पीने को मजबूर होना पड़ता है।
रामपाल तिवारी, परिजन, बिरसिंहपुर पाली।
--------
मेडिकल कॉलेज में दो हैंण्ड पंप लगे हैं वर्तमान में दोनो खराब पड़े हुए हंै। जिसका सुधार कार्य नहीं कराया गया है। पानी बाहर के नलों से लाने की मजबूरी है । नल से भी गरम पानी निकल राह है। उसी को पीने को मजबूर हो होना पड़ता है। पानी की व्यवस्था टीक नहीं है।
रामकेश, परिजन, जयसिंहनगर।
---------
हम अपने मरीज को लेकर एक हफ्ते से मेडिकल कॉलेज में पड़े लेकिन यहां पर पीनेे के पानी की किल्लत इतनी ज्यादा है कि बाहर से पानी लाकर प्यास बुझानी पड़ती है। अपने साथ छोटी सी बाल्टी रखे है उसमें बार-बार पानी लेने बाहर जाना पड़ता है।
राम प्रसाद पटेल, परिजन, ब्योहारी।

प्रदेश के इस मेडिकल कॉलेज में पानी के लिए करनी  पड़ती  है मश्क्कत
प्रदेश के इस मेडिकल कॉलेज में पानी के लिए करनी पड़ती है मश्क्कत

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis में दाऊद की भी एंट्री, आज 10.30 पर सुप्रीम सुनवाई में Harish Salve का Abhishek Manu Singhvi से सामना, जानें 5 UpdatesMaharashtra Political Crisis: दाऊद से संबंध रखने वाले को बालासाहेब की शिवसेना समर्थन कैसे कर सकती है? एकनाथ शिंदे ने ट्वीट कर बोला हमलाअग्निपथ योजना: कांग्रेस आज सभी विधानसभा क्षेत्रों में करेगी ‘सत्याग्रह’भारतीय टीम ने आयरलैंड को पहले टी-20 में 7 विकेट से रौंदा, हार्दिक पांड्या और दीपक हूडा का दमदार प्रदर्शन'होता है, चलता है, ऐसे ही चलेगा' की मानसिकता से निकलकर 'करना है, करना ही है और समय पर करना है' का संकल्प रखता है भारतः PM मोदीराशिफल 27 जून 2022: आज भाग्य साथ देने से कुंभ राशि वालों को कोई बड़ी सफलता मिल सकती है, जानें अपनी राशि का हालअगरतला उपचुनाव में जीत के बाद कांग्रेस नेताओं पर हमला, राहुल गांधी बोले- BJP के गुड़ों को न्याय के कठघरे में खड़ा करना चाहिएसिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद, फिर से सामने आया कनाडाई (पंजाबी) गिरोह
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.