scriptInternational Labor Day: Employment was snatched out of hand in Corona | अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस : कोरोना में हाथ से छिन गया था रोजगार, मनरेगा से गांव में ही मिला रोजगार तो नहीं गए परदेश | Patrika News

अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस : कोरोना में हाथ से छिन गया था रोजगार, मनरेगा से गांव में ही मिला रोजगार तो नहीं गए परदेश

12 हजार मजदूरों की हुई स्किल मैपिंग, 10 हजार से ज्यादा मजदूर मनरेगा व दूसरे काम में लगे

शाहडोल

Published: May 01, 2022 12:08:01 pm

शहडोल. कोरोना काल में हाथ से रोजगार छिनने के बाद गांव लौटे मजदूर दोबारा पलायन कर परदेस नहीं गए हैं। 12 हजार से ज्यादा मजदूर अभी भी मनरेगा सहित दूसरे कार्यों में काम कर रहे हैं। गांव लौटने के बाद घर बैठे मजदूरी मिली तो फिर मजदूरों का पलायन कम हो गया। शहडोल मेें प्रवासी मजदूरों के लिए श्रमिक पोर्टल में ऑनलाइन पंजियन करने का काम शुरू किया गया था। जिसमेंं जिले के बाहर गए हुए प्रवासी मजदूरों का ऑनलाइन पंजियन करके मजदूरों को उनके नजदीकी क्षेत्र में काम दिया जाना था। कोरोना के पहले चरण मई 2020 में प्रवासी श्रमिक पोर्टल की शुरुआत की गई थी। जिसमें श्रम विभाग के द्वारा 11 हजार 562 श्रमिकों का ऑनलाइन पंजियन किया गया था। कोरोना की दूसरी लहर में पोर्टल का नाम बदलकर रोजगार सेतु के नाम से ऑनलाइन पंजियन किया गया था। इसमें 733 मजदूरों का पंजियन किया था। तीसरी लहर में सरकार ने दोनों पोर्टल को मर्ज करते हुए माय एमपी पोर्टल की शुरुआत की थी। जिसमें बाहर से आए मजदूरों को जोड़ा था। बाद में रोजगार उपलब्ध कराया था।
नरेगा व अन्य जगहों में काम पर लगाया
श्रम विभाग के अनुसार, प्रवासी श्रमिकों का पंजियन माय एमपी पोर्टल में पंजियन किया गया था। अभी तक 15 हजार से ज्यादा का पंजियन किया गया। जिसमें 12 हजार से ज्यादा मजदूरों की स्किल मैपिंग की गई। 8 हजार को नरेगा में लगाया गया।
श्रमिकों का हुआ स्किल मैपिंग
श्रम विभाग के अनुसार कोरोना के पहली लहर से लेकर अब तक 12 हजार से ज्यादा प्रवासी मजदूरों का स्किल मैपिंग विभाग ने की है। जिसमें मजदूरों को नजदीकी क्षेत्र में रोजगार दिलाने का प्रयास किया गया। अधिकांश मजदूर रोजगार के लिए बाहर चले जाते थे, जिनकी समस्या को देखते हुए 12 हजार से ज्यादा मजदूरों की मैपिंग कराई गई और स्थानीय रोजगार से जोड़ा गया।
जिले में स्थिति
पहली लहर में 11562 श्रमिक
दूसरी लहर में 733 श्रमिक
तीसरी लहर में 500 से अधिक श्रमिक
मैपिंग की स्थिति
स्किल मैपिंग 12000 श्रमिक
नरेगा में काम 8000 श्रमिक
अन्य जगह काम 1000 श्रमिक
अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस : कोरोना में हाथ से छिन गया था रोजगार, मनरेगा से गांव में ही मिला रोजगार तो नहीं गए परदेश
अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस : कोरोना में हाथ से छिन गया था रोजगार, मनरेगा से गांव में ही मिला रोजगार तो नहीं गए परदेश

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

BJP राष्ट्रीय पदाधिकारी बैठक: PM नरेंद्र मोदी ने दिया 'जीत का मंत्र', जानें प्रधानमंत्री के संबोधन की बड़ी बातेंRaj Thackeray Ayodhya Visit: राज ठाकरे की अयोध्या यात्रा स्थगित, पांच जून को रामलला का दर्शन करने वाले थे मनसे प्रमुखलालू के ठिकानों पर CBI Raid; सामने आई RJD की पहली प्रतिक्रिया, मात्र 5 शब्द में पूरे सिस्टम को लपेटाअनिल बैजल के इस्तीफे के बाद कौन होगा दिल्ली का उपराज्यपाल? चर्चा में हैं ये 5 नामRoad Rage Case: नवजोत सिंह सिद्धू ने सरेंडर के लिए कोर्ट से मांगा वक्त, खराब सेहत को बताया कारणबेंगलुरू हवाईअड्डे को बम से उड़ाने की धमकी, अधिकारियों ने शुरू की जांचलालू यादव पर फिर शिकंजा, सीबीआई ने राजद सुप्रीमो से जुड़े 17 ठिकानों पर मारा छापाAzam Khan Release: दो साल बाद जेल से रिहा हुए आजम खान, दोनों बेटों ने किया रिसीव, शिवपाल भी पहुंचे
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.