नपा ठेकेदार की मनमानी, फुटपाथ व्यापारियों से मनमानी वसूली

10 रुपए की जगह 20 और 50 की जगह 10-10 की पांच पर्ची

By: lavkush tiwari

Published: 10 Apr 2019, 08:00 AM IST

शहडोल. फुटपाथ और ठेला व्यापारियों से नगरपालिका परिषद द्वारा बाजार बैठकी की वसूली के लिए दिए गए ठेके में ठेकेदार के आदमियों द्वारा मनमानी वसूली की जा रही है। जिससे नगर के ठेला और फुटपाथ पर छोटी -छोटी दुकान लगाने वाले ग्रामीण सब्जी व्यापारी परेशान हैं। ठेकेदार की मनमानी का आलम ऐसा है कि साइकल में फेरीकर सब्जी और मूमफली व्यापारियों तक से जोर जबरजस्ती कर 10 से 20 रुपए से लेकर 50 रुपए तक की वसूली की जा रही है। वहीं व्यापारियों द्वारा विरोध करने पर उनके साथ विवाद और गाली गलौज की स्थिति निर्मित हो रही है। इस मामले को लेकर नपा अधिकारी और कर्मचारी गंभीर नहीं हैं, जबकि कुछ व्यापारियों द्वारा इस मामले को लेकर सीएमओ से शिकायत भी दर्ज कराई है, बावजूद इसके अवैध वसूली पर रोक नहीं लगाई जा रही है।
50 की पांच और 10 रुपए की दो पर्ची-
नगर में संचालित किए जा रहे फुटपाथ और ठेला व्यापारियों से ठेकेदार द्वारा किसी दुकानदार से 50 रुपए की वसूली के लिए 10 रुपए की पांच तो किसी से 10 रुपए की दो पर्ची काटकर 20 रुपए इस तरह 10 से 50 रुपए तक की वसूली नियमों को दरकिनार कर की जा रही है। बताया गया है कि नगर के बुढ़ार रोड़, सब्जी मण्डी, रेलवे कालोनी ग्राउंड, गांधी चौक से जयस्तंभ, सोहागपुर गढ़ी, बस स्टैंड, गल्ला मण्डी स्थित गंज सहित अन्य नगर के छोटे और ठेला फुटपाथ व्यापारियों से मनमानी वसूली की जा रही है।
बाक्स
36लाख का ठेका-
बताया गया है कि वर्ष 2019-20 के लिए नपा को लगभग 36 लाख का ठेका खुली बोली के तहत किसी मनोज पाठक नामक व्यक्ति को दिया गया है। वहीं बीते वर्ष 2018-19 के लिए उक्त ठेका 21 लाख रुपए में दिया गया था। अब ठेकेदार द्वारा ज्यादा रेट पर ली गई बोली की राशि वसूल करनें में परेशानी आने के कारण वसूली में लगाए गए ठेकेदार के आदमी मनमानी दुकानदारों से वसूली कर रहे हैं।
की जाएगी कार्रवाई
ठेकेदार द्वारा बीते साल की तुलना में इस साल खुली बोली के तहत ज्यादा दर पर ठेका लिया गया है।अधिक राशि वसूली मामले की जांच कराने के बाद ठेका निरस्त करने की कार्रवाई की जाएगी।
अमित तिवारी
सीएमओ
नपा-शहडोल

lavkush tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned