scriptOfficials of all three national parks of the state were involved with | पांच राज्यों के विशेषज्ञों के साथ प्रदेश के तीनों राष्ट्रीय उद्यान के अधिकारी हुए शामिल, कार्यशाला का हुआ आयोजन | Patrika News

पांच राज्यों के विशेषज्ञों के साथ प्रदेश के तीनों राष्ट्रीय उद्यान के अधिकारी हुए शामिल, कार्यशाला का हुआ आयोजन

सोलर फेंसिंग, खंती व कटीली झााडिय़ों से हाथियों का मूवमेंट रोकने की तैयारी

शाहडोल

Updated: August 06, 2022 01:16:30 pm

शहडोल. बांधवगढ़ नेशनल पार्क में हाथियों के चार वर्ष से स्थायी रहवास व आस-पास के जिलों व जबलपुर, रीवा वृत्त में हाथियों के बढ़ते मूवमेंट को लेकर मानव-हाथी द्वंद की संभावना बढ़ गई है। जिसे देखते हुए हाथियों के प्रबंधन, स्वभाव को समझने व उनसे बचने के उपायों को जानने के लिए बांधवगढ़ नेशनल पार्क में दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। जिसका शुभारंभ शुक्रवार को किया गया। जिसमें मध्यप्रदेश के चीफ वाइल्ड लाइफ वार्डन जेएस चौहान, डब्ल्यूडब्ल्यूआई के सांइटिस्ट डॉ पराग निगम, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, कनार्टक झारखण्ड एवं पश्चिम बंगाल के मुख्य वन्यप्राणी अभिरक्षक, वाइल्ड लाइफ इंस्टीटूट देहरादून के विशेषज्ञ, एनजीओ के प्रतिनिधि, बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व, कान्हा टाईगर रिजर्व एवं संजय टाईगर रिजर्व तथा जबलपुर, शहडोल एवं रीवा वृत्त के क्षेत्र संचालक, मुख्य वन संरक्षक, वनमण्डलाधिकारी, परिक्षेत्र अधिकारी सहित अन्य विशेषज्ञों की टीम शामिल हुई।
कार्यशाला में विशेषज्ञों ने बताया कि प्रदेश के उत्तर पूर्वी जिलों में जंगली हाथियों का आगमन हो चुका है और उन्होंने यहां के जंगलों में अपना रहवास बना लिया है। इनकी संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। इनके प्रबंधन के लिए आवश्यक है कि इनके स्वभाव व उनसे बचाव के संबंध में पार्क प्रबंधन के साथ ही हाथी प्रभावित क्षेत्रों के वन अमले को हो।
कार्यशाला में बांधवगढ़ नेशनल पार्क के फील्ड डायरेक्टटर बीएस अन्नेगिरी के साथ ही संजय टाइगर रिजर्व व कान्हा टाइगर रिजर्व के फील्ड डायरेक्टर व अधिकारियों ने हाथी के यहां पहुंचने से लेकर अब तक की गतिविधियों के साथ ही उन्होने अभी तक जो नुकसान किया, उन्हे रोकने किए गए प्रयासों के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। कार्यशाला में विशेषज्ञों ने भी अपनी बात रखी। उन्होने बताया कि मानव-हाथी द्वंद्व को रोकने के लिए सबसे पहले तो रहवास क्षेत्र में उनके मूवमेंट को रोकना है। हम सोलर फेंसिंग, हाथी अवरोधक खंती, कटीली झाडियों की मदद से रिहायसी क्षेत्रों की ओर मूवमेंट को रोक सकते हैं। इसके साथ ही लोगों को जागरुक करना सबसे ज्यादा आवश्यक है।

पांच राज्यों के विशेषज्ञों के साथ प्रदेश के तीनों राष्ट्रीय उद्यान के अधिकारी हुए शामिल, कार्यशाला का हुआ आयोजन
पांच राज्यों के विशेषज्ञों के साथ प्रदेश के तीनों राष्ट्रीय उद्यान के अधिकारी हुए शामिल, कार्यशाला का हुआ आयोजन

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon : राजस्थान में 3 अगस्त से बारिश का नया सिस्टम, पूरे प्रदेश में होगी झमाझमNSA डोभाल की मौजूदगी में बोले मुस्लिम धर्मगुरु- 'सर तन से जुदा' हमारा नारा नहीं, PFI पर प्रतिबंध की बनी सहमतिकीमत 4.63 लाख रुपये से शुरू और देती हैं 26Km का माइलेज! बड़ी फैमिली के परफेक्ट हैं ये सस्ती 7-सीटर MPV कारेंराजस्थान में भारी बारिश का दौर जारी, स्कूलों की तीन दिन की छुट्टी, आज इन जिलों में झमाझम की चेतावनीWeather Update: राजस्थान में झमाझम बारिश को लेकर अब आई ये खबरराजस्थान में आज यहां होगी बारिश, एक सप्ताह तक के लिए बदलेगा मौसमएमपी में 220 करोड़ से बनेगा 62 किमी लंबा बायपास, कम हो जाएगी कई शहरों की दूरी, जारी हो गए टेंडरसरकारी नौकरी लगवा देंगे कहकर 10 युवाओं को लगाई 75 लाख रुपए की चपत, 2 गिरफ्तार

बड़ी खबरें

Vice President Election 2022 Live Updates : केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, पीयूष गोयल, जेपी नड्डा ने अपना वोट डालाVice President Election 2022: उपराष्ट्रपति को वेतन से लेकर मिलती हैं ये रॉयल सरकारी सुविधाएं, ऐसे होता है चुनावचीन से बढ़ी टेंशन के बीच ताइवान के मिसाइल डेवलपमेंट से जुड़े अधिकारी का मिला शवMaharashtra: शिंदे सरकार ने महाराष्ट्र के सचिवों को दी स्पेशल 'पावर', अब मंत्रियों की तरह ले सकेंगे फैसलेंअपने क्रोध का बोध जरूरी है, कभी गुस्सा नहीं आएगा, 'गीताविज्ञान' पर डॉ. गुलाब कोठारी का संबोधन, देखें LiveDahi Handi 2022: दही हांडी को लेकर MNS और BJP का बड़ा फैसला, गोविंदाओं को दी फ्री बीमा की सौगातCWG 2022 हिमा दास 0.01 सेकेंड से चूकीं, 200 मीटर रेस के सेमीफाइनल में हुई बाहरCyber Crime: लोगों को फंसाकर ऐंठ लिए 2 मिलियन डॉलर, जानिए क्या है 'Hi Mum' कोड?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.