मरीज की अस्पताल में मौत, परिजनों ने डॉक्टरों पर लापरवाही का लगाया आरोप

अस्पताल में मचाया हंगामा

By: shubham singh

Published: 17 Jun 2020, 09:20 PM IST

शहडोल। धनपुरी निवासी मोहम्मद नसुरीद्दीन ४५ वर्ष को अचानक सीने में दर्द हुआ। इस पर परिजन उन्हें धनपुरी अस्पताल में लेकर गए। यहां डॉक्टरों ने ईसीजी जांच कर बताया कि उन्हें अटैक आया है। इस पर परिजन शाम पांच बजे उन्हें जिला अस्पताल में लेकर पहुंचे। यहां आकस्मिक में बैठे एक डॉक्टर से मरीज को देखने की बात कही तो उन्होंने दूसरे हृदय रोग विशेषज्ञ डॉक्टरों को बुलाने की बात कही। इस दौरान मरीज को आईसीयू में न ले जाकर वार्ड में भर्ती करा दिया गया। बाद में परिजनों ने दूसरे डॉक्टर को फोन किया तो वे एक घंटा बाद आए। इसके बाद मरीज को देखा और ईसीजी चेक किया और बोले कि मरीज ठीक है। नर्स से इंजेक्शन लगाने को कह दिया है। वे बाहर निकले ही थे कि मरीज की तबीयत खराब हुई। इस पर परिजन दौड़कर उनके पास पहुंचे और बोले कि फिर से तबीयत खराब हो गई है। आप देख लीजिए लेकिन वे कार में बैठते हुए बोले कि उन्हें आईसीयू में लेकर जाओ। ठीक हो जाएंगे मैंने उन्हें देख लिया है। इसके बाद चले गए। बाद में मरीज की मौत हो गई। मरीज की मौत के बाद परिजनों ने अस्पताल में हंगामा मचाना शुरू कर दिया। काफी सारे लोग अस्पताल में आ गए और डॉक्टरों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज करने की मांग करने लगे। सूचना पर कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंची और परिजनों को समझाया। परिजन देर रात तक अस्पताल में डटे रहे और दोनों डॉक्टरों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज नहीं होने पर अस्पताल में ही धरना देने की बात कहते रहे।
इनका कहना है
मरीज जब अस्पताल में आया तो डॉक्टर वसीम ने देखा और इलाज किया। इसके बाद वे गए हैं। इसमें डॉक्टरों की लापरवाही नहीं है।
डॉ राजेश पांडे, सीएमएचओ

shubham singh Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned