पांच पार्षदों की मौजूदगी में नपा का बजट पेश

उपाध्यक्ष सहित कांग्रेस के पार्षद रहे नदारद,

By: lavkush tiwari

Published: 02 Mar 2019, 08:00 AM IST

शहडोल. नपा परिषद का सालाना बजट शुक्रवार को पांच पार्षदों की मौजूदगी में पेश किया गया, यह घटना क्रम लगतार दो दिनों तक चलता रहा। बजट पेश करने के दौरान नपा उपाध्यक्ष सहित कांग्रेस के एक भी पार्षद उपस्थित नहीं हुए और भाजपा के भी लगभग 17 पार्षद शामिल नहीं हुए। बैठक के दौरान अध्यक्ष के प्रति कामकाज को लेकर नाराजगी स्पष्ट नजर आई इस दौरान कैडऱ वाली पार्टी माने जाने वाली सत्ताधारी दल भाजपा के ही 17 पार्षद बैठक में शामिल नहीं हुए। बता दें कि गुरुवार को आयोजित बजट संबन्धी बैठक सदस्यों के कोरम पूरा नहीं होने के कारण अध्यक्ष उर्मिला कटारे ने बैठक स्थगित कर दी थी और शुक्रवार को बैठक का आयोजन नगरीय निकाय के नियमों का हवाला देते हुए पेश किया गया, दोपहर 2.30 बजे तक जब पार्षद बैठक में शामिल नहीं हुए तब नपा अध्यक्ष उर्मिला कटारे ने ने 5 पार्षदों की मौजूदगी में सदन की कार्रवाई शुरू करने की घोषणा की और राजस्व सभापति महेश भागदेव ने 158 करोड़ 11 लाख 86 हजार 800 रुपए का अनुमानित बजट पेश किया, और 20 मिनट के अन्दर 2.50 बजे बजट बैठक समाप्त हो गई। यह ऐसा पहली बार हुआ है कि जब अति महत्वपूर्ण बजट बैठक के दौरान 39 पार्षदों में से ज्यादातर पार्षदों ने बैठक का बहिष्कार किया है। अब इस मामले को लेकर भाजपा में अन्दर ही अन्दर नपा अध्यक्ष उर्मिला कटारे को पद से हटाने और अविश्वास लाने की गुपचुप तैयारी की जा रही है। जिसमें भाजपा के ही कुछ पार्षद सक्रिय होकर अपनी ही पार्टी के अनुशासन को तार-तार करने में लगे हुए हैं।
यह पार्षद रहे उपस्थित-
बजट बैठक के दौरान सदन में कार्यवाही के दौरान सभापति राजस्व महेश भागदेव, शालिनी शुक्ला, विन्ध्येश्वरी परस्ते, प्रीती बत्रा, गीता यादव उपस्थित रहे, जबकि नपा उपाध्यक्ष कुलदीप निगम के अलावा कांग्रेस का एक भी पार्षद नहीं पहुंचे वहीं भाजपा के 17 पार्षद भी बैठक में शामिल नहीं हुए।
दिनभर चला घटना क्रम-
सूत्रों की मानें तो शुक्रवार को बजट पेश होने के पहले भाजपा सत्ताधारी भाजपा पार्षदों के बीच पूर्व भाजपा नगर अध्यक्ष संतोष लोहानी के आवास पर बैठक का आयोजन कर बैठक में शामिल नहीं होने का निर्णय कांग्रेस पार्षदों की सहमति से लिया गया और बैठक में भाजपा के 17 पार्षद उपस्थित नहीं हुए। वहीं विपक्षी दल कांग्रेस ने गुरुवार को आयोजित बैठक के दौरान ही अपनी तस्वीर बैठक का बहिष्कार करते हुए साफ कर दी थी। वहीं इस मामले को लेकर दिनभर नगर में गहमा गहमी के बीच घटना क्रम चलता रहा।
इधर कांग्रेस पार्षदों ने लगाए मनमानी का आरोप-
बजट बैठक में शामिल नहीं होने वाले कांग्रेस पार्षदों और नेता प्रतिपक्ष इशहाक खान ने नपा अध्यक्ष उर्मिला कटारे पर मनमानी का आरोप लगाते हुए कहा कि अध्यक्ष द्वारा संविधान का बिना पालन और नियम तथा कानून को दरकिनार करते हुए पांच पार्षदों की मौजूदगी में बजट पास कर लिया गया जो सरासर नियमों के विरुद्ध है, उन्होने कहा कि हम कानूनी सलाहकारों से मदद लेकर आगे की कार्रवाई करेंगे।
नियमों के तहत बजट हुआ पेश-
पार्षदों के कोरम पूरे नहीं होने और उसके बाद बजट पेश करने के मामले को नपा अध्यक्ष उर्मिला कटारे ने कहा कि नगरीय प्रशासन के दिशा निर्देशों को ध्यान में रखते हुए बजट पेश किया गया है, इसमें कोई संवैधानिक संकट नहीं है। अगर कोई बैठक पहले दिन स्थगित की जाती है तो दूसरे दिन बिना कोरम बैठक करना नियमों के अधीन है।
यह है आया और व्यय का व्यौरा -
कुल अनुमानित राजस्व आय -58,81,76,250 रुपए
कुल पूंजीगत आय -1,12,31,81,872 रुपए
कुल आय -1,58,13,58,122 रुपए
कुल राजस्व व्यय -45,81,72,800 रुपए
कुल पूंजीगत व्यय -1,12,3014,000 रुपए
कुल व्यय -1,58,11,86,800 रुपए
कुल बचत -1,71,322 रुपए
कुल संपत्तिकर की राशि -2,04,30,848 रुपए
कुल जलकर की राशि -2,61,59,200 रुपए
अन्य कर से प्राप्त राशि -1,10,,14,600 रुपए
राजस्व कर से आय -22,40,00,000 रुपए
संपत्तियों से आय -6,63,96,000 रुपए
शुल्क और उपभोक्ता से आय -2,45,65,850 रुपए
केन्द्र सरकार से अनुदान -40,02,50,000 रुपए
राज्य सरकार से अनुदान -18,18,91,872 रुपए
जनभागीदारी से अनुदान -60,00,000,00 रुपए
जमा अमानत राशि -3,30,40,000,00 रुपए
अन्य अनुदान -50,20,00,000,00 रुपए

lavkush tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned