दो दशक से जनता कर रही मांग, नागपुर तक चलाएं नई ट्रेन

संसद में भी उठाया मुद्दा लेकिन नहीं हुई कोई सुनवाई

By: amaresh singh

Published: 21 Jun 2021, 11:31 AM IST

शहडोल. नागपुर तक सीधी ट्रेन को लेकर लंबे समय से मांग की जा रही है। संभाग की जनता पिछले दो दशक से मांग कर रही है। इलाज के लिए नागपुर तक सीधी ट्रेन न होने की वजह से जनता का दर्द और बढ़ जाता है। इधर गोंदिया ट्रेन का रूट भी बदल दिया गया है। बरौनी-गोंदिया ट्रेन का रूट बदल दिए जाने से सांसद हिमाद्री सिंह आगे आई हैं। उन्होंने रेल मंत्री को पत्र लिखते हुए कहा कि दो दशक से जनता शहडोल से सीधे नागपुर के लिए ट्रेन की मांग कर रही है। इसके बाद भी ट्रेन शुरू नहीं की गई है। उन्होंने पत्र में लिखा है कि संसदीय क्षेत्र शहडोल चार जिले में विभाजित है। अनुसूचित जन जाति बाहुल्य व पिछड़ा जिला है। क्षेत्र में पावर प्लांट व कोयला खदानों के कारण कई राज्य के लाखों कर्मचारी कार्यरत है। संसदीय क्षेत्र से नागपुर के लिए कोई सीधी ट्रेन नहीं होने ेस चिकित्सा एवं शिक्षा की दृष्टि से महती आवश्यकता है। लगभग दो दशक से यह मांग व आवश्यकता की पहल किया गया लेकिन आज तक रेल प्रशासन ने जन भावना व जन आवश्यकता की पूर्ति नहीं किया है। बजट सत्र में मेरे द्वारा रेल विभाग के माध्यम से चर्चा कर नागपुर तक नियमित ट्रेन चलाने की चर्चा संसद में उठाया गया था। तब आश्वासन मिला था। इसलिए वर्तमान समय में बरौनी-गोंदिया एक्सपे्रेस का रूट परिवर्तन कर देने के कारण और परेशानी यात्रियों को हो रही है।


वाराणसी, प्रयागराज से नागपुर चलाएं ट्रेन
सांसद ने पत्र लिखकर विकल्प भी बताया है। इसके विकल्प में वाराणसी से प्रयागराज, सतना, कटनी, शहडोल, बिलासपुर होते हुए नागपुर तक नई एक्सप्रेस ट्रेन चलाने की मांग की है।

amaresh singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned