यात्रियों पर हर वक्त मंडराता है खतरा, सुरक्षा के नहीं है पुख्ता इंतजाम

यात्रियों की सुरक्षा पर ध्यान नहीं और महाप्रबंधक को दिखाने के लिए कर रहे कवायद

By: shubham singh

Published: 18 Dec 2018, 05:04 PM IST

शहडोल। बी ग्रेड के रेलवे स्टेशन में इन दिनों चहुंओर खतरा मंडरा रहा है, क्योंकि यात्रियों की सुरक्षा की अनदेखी कर मरम्मतीकरण कार्य को अंजाम दिया जा रहा है। यहां सुरक्षा उपकरणों के बगैर जान जोखिम में डालकर मजदूर कार्य कर रहे हैं और यात्रियों की सुरक्षा के कोई पुख्ता इंतजाम नहीं किए गए हंै। हालात इतने ज्यादा बदतर हो चुके हैं कि मरम्मतीकरण के कार्यों के बीच से गुजर कर यात्रियों को ट्रेनें पकडऩी पड़ रही है। प्लेटफार्मोंे में पड़े मलवे में फंस कर यात्री चोंटिल हो रहे हैं। इसके अलावा रेलवे स्टेशन के मुख्य गेट और प्लेटफार्मों के इंड प्वाइंट पर काउकेचर भी नहीं लगाए गए हैं। जिससे प्लेटफार्मों में आसानी से मवेशी प्रवेश कर रहे है। रात्रिकाल में रेलवे स्टेशन के डार्क एरिया भी घोषित है। जहां भय के साये में यात्रियों को आवागमन करना पड़ता है। डार्क एरियोंं में सबसे ज्यादा महिलाओं पर खतरा मंडराता है। वर्तमान में रेलवे स्टेशन में ऐसी परिस्थितियां निर्मित हो गई हैं कि भविष्य में कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है। यात्रियों की इन सभी समस्याओं पर रेल प्रशासन का जरा भी ध्यान नहीं है, बल्कि वह आगामी नौ जनवरी को दपूमरे बिलासपुर जोन के महाप्रबंधक को बेहतर दिखाने की मशक्कत में लगा हुआ है।

यहां मंडराता है खतरा
-रेल पटरियों के बगल में नाली निर्माण कार्य में लगे पुरूष व महिला मजदूरों पर
-रात्रिकाल के अंधेरे में जीआरपी के बगल में ट्रेन के इंतजार पर खड़े यात्रियों पर
-प्लेटफार्म नम्बर दो और तीन में पड़े एस्बेस्टेड शीट के मलवे से चोंटिल हो रहे यात्रियों पर
-प्लेटफार्म नं. दो व तीन में पीपल पेड़ के पास ट्रेन के इंतजार पर खड़े यात्रियों पर
-बगैर सूचना के बंद एफओबी से आवागमन करने वाले रेल यात्रियों पर
-बगैर सुरक्षा उपकरणों के शेड की सीलिंग व खंभों की पुताई कर रहे मजदूरों पर

-सीएसएम व पार्सल ऑफिस के सामने रात्रिकाल में ट्रेन के इंतजार में खड़े यात्रियों पर

यह कार्य अत्यंत जरूरी है
-रेलवे स्टेशन में प्लेटफार्म के इंड पर काउकैचर की नितांत जरूरत
-यात्रियों को एमरजेन्सी में रुपयों के लिए एटीएम और उपचार के लिए मेडिकल स्टोर
-टिकट व इंक्वायरी काउंटर कक्ष के बाहर पुलिस जवानों की नियमित ड्यूटी
-स्टेशन परिसर के बाहर व अंदर ऑटो चालकों की दखलंदाजी पर रोक
-बिना टिकट यात्रा करने वाले यात्रियों के बाहर निकलने वाले अघोषित मार्ग बंद हो
-सेकेण्ड क्लास के वेटिंग रूम में यात्रियों लिए यूरिनल व शौचालय की व्यवस्था
-प्लेटफार्म के सभी डार्क एरियों में प्रकाश की समुचित व्यवस्था आवश्यक

केटल गार्ड हैं क्षतिग्रस्त
रेलवे स्टेशन के मुख्य द्वार में लगे केटल गार्ड कई जगहों से टूट गए है और दिव्यांगों के लिए बनाए गए पार्किंग स्थल का गेट खुला रहता है। जिससे आवारा मवेशी आसानी से अंदर घुस जाते हैं। इसके अलावा स्टेशन के दोनों इंड प्वाइंट पर भी काउकेचर लगाए जाने की जरूरत है।

कई जगह बने है अघोषित मार्ग
रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नम्बर एक में कई स्थानों पर अघोषित मार्ग और टैक्सी स्टैण्ड बने हुए हैं। जहां से बिना टिकट यात्रा करने वाले यात्री आसानी से बाहर हो जाते हैं और टिकट चेकर हाथ मलते रह जाते हैं। यह अघोषित मार्ग जीआरपी के बगल और लॉबी क्रू ऑफिस के पास है।

प्लेटफार्म में निमार्ण कार्यों की तैयारी (फोटो-१७)
प्लेटफार्म में नाली निर्माण के लिए छड़ों को काटने व सीधा करने का कार्य मजदूरों द्वारा किया जाता है। साथ ही प्लेटफार्म से ही मजदूर निर्माण सामग्री को लाते ले जाते है। जिससे यात्रियों केा आवागमन में काफी दिक्कतें होती हैं और उन पर खतरा मंडराता रहता है।

इनका कहना है
रेलवे स्टेशन में महाप्रबंधक के आगमन को लेकर नहीं बल्कि पुराने पेंडिंग पड़े कार्यों को कराया जा रहा है। जीएम के आगमन की तैयारी का कोई फंड नहीं होता है। वह वर्ष में एक बार वार्षिक निरीक्षण करने जाते ही है। वैसे भी जो भी कार्य कराए जा रहे हैं, उसका लाभ तो यात्रियों को ही मिलेगा।
अंबिकेश साहू, जनसंपर्क अधिकारी, दपूमरे, बिलासपुर

shubham singh Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned