scriptRecruitment scam: In Anuppur's bodies also, the Bhopal team had search | भर्ती घोटाला: अनूपपुर के निकायों में भी भोपाल की टीम ने खंगाले थे दस्तावेज, कार्रवाई अटकी | Patrika News

भर्ती घोटाला: अनूपपुर के निकायों में भी भोपाल की टीम ने खंगाले थे दस्तावेज, कार्रवाई अटकी

locationशाहडोलPublished: Dec 08, 2021 01:04:34 pm

Submitted by:

Ramashankar mishra

भर्ती के बाद दूसरे निकायों में कराया ट्रांसफर, डूमरकछार, डोला, बनगवां में भी हुई भर्तियां सवालों के घेरे में

भर्ती घोटाला: अनूपपुर के निकायों में भी भोपाल की टीम ने खंगाले थे दस्तावेज, कार्रवाई अटकी
भर्ती घोटाला: अनूपपुर के निकायों में भी भोपाल की टीम ने खंगाले थे दस्तावेज, कार्रवाई अटकी

शहडोल. आदिवासी बहुल शहडोल संभाग में राशन से लेकर भूमि तक घोटाला करने वाले इन रसूखदारों और अधिकारियों ने अब रोजगार में भी युवाओं का हक मारना शुरू कर दिया है। संभाग की नवगठित नगरीय निकायों में हुई भर्तियों और संविलियन में किसी ने अपने पुत्र मोह में तो किसी ने रसूख के दम पर अपने नात-रिश्तेदारों को नियम विरुद्ध नौकरी दिला दी। शिकवा-शिकायत हुई तो ऊपर बैठे अधिकारियों ने इसकी खोज-खबर ली तो अकेले एक नगर पंचायत में किए गए संविलियन में पांच अधिकारी सहित आठ लोग नप गए। जबकि अभी अनूपपुर की तीन अन्य निकायों में की गई भर्तियां भी सवालों के घेरे में है। जिनके दस्तावेज भी भोपाल से आई दो सदस्यीय टीम ने खंगाले हैं। हालांकि अभी उक्त तीनों निकायों की फाइल नहीं खुली है। इनकी जांच फाइल भी खुली तो कई अधिकारी और रसूखदारों के चेहरे सामने आ सकते हैं।
रीवा की दो सदस्यीय टीम ने खंगाले थे दस्तावेज, कार्रवाई अटकी
तीनों निकायोंं में की भर्ती को लेकर लग रहे आरोप प्रत्यारोप को लेकर जिला प्रशासन, संभागायुक्त सहित संचालनालय द्वारा भी जांच कराई गई है। रीवा की दो सदस्यीय टीम ने बनगवां सहित डोला और डूमरकछार नगर परिषदों का निरीक्षण करते हुए यहां से आवश्यक दस्तावेज जब्त किए थे। जांच प्रतिवेदन भोपाल भेजा है। हालांकि एक माह बीतने को हैं और अभी तक मामले में कोई निष्कर्स समने नहीं आया है। अभी तक यह भी स्पष्ट नहीं हो पाया है कि यहां किन प्रावधानों, अनुमति, और प्रक्रियाओं के तहत किसकी नियुक्ति की गई है।
तीन संविलियन और दैनिक वेतन भोगियों की नियुक्ति
अनूपपुर जिले की उक्त तीनो नवगठित निकायों में किए गए संविलियन और भर्तियों को लेकर बड़े स्तर पर गड़बड़ी के आरोप लगे हैं। वहीं जिम्मेदारों का कहना है कि तीनों में सिर्फ तीन कर्मचारियों का संविलियन किया गया है। इसके अलावा बनगवां में 124, डोल में 90 और डूमरकछार में 90 दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों की नियुक्ति की गई है।
नियुक्ति के बाद करा लिया स्थानांतरण
जानकारों की माने तो नवगठित नगरीय निकायों में जिन रसूखदारों और अधिकारियों ने अपने चहेतों की भर्ती की है। उन्होने भर्ती के बाद उनका स्थानांतरण भी करा लिया है। बताया जा रहा है कि भर्ती के बाद कई कर्मचारी अपनी सुविधा के अनुसार रसूख और पहुंच के दम पर स्थानांतरण करा दूसरे जगह चले गए हैं। जिसमें कुछ प्रदेश स्तर के राजनैतिक पदाधिकारियों के जान पहचान वाले भी शामिल हैं। इसमें विभाग के मंत्री के निजी स्टाफ के बेटे की भी नियुक्ति हुई थी। हाल ही में राजस्व उप निरीक्षक पद से डूमरकछार से मंडीदीप रायसेन के लिए तबादला किया गया है।
यहां भी की गई भर्ती, गड़बड़ी के आरोप
शहडोल की नव गठित नगरीय निकाय बकहो के अलावा अनूपपुर जिले की डूमरकछार, डोला और बनगवां में भी कर्मचारियों के संविलियन और भर्ती प्रक्रिया अपनाई गई थी। जिसके बाद यहां भी बड़े स्तर पर गड़बड़ी के आरोप लगे थे। मामले को लेकर विरोध प्रदर्शन भी हुआ था। जिसके बाद संभागायुक्त और कलेक्टर ने पूरे मामले की जांच कराई थी। मामले में अभी तक किसी भी प्रकार की कार्रवाई नहीं हुई है। निकायों में भी अधिकारी कर्मचारियों के साथ ही राजनीतिक पहुंच रखने वालों के नात-रिश्तेदारों को भर्ती किए जाने के आरोप लग रहे हैं।
कमिश्नर ने भी मंगाई थी 21 निकायों की रिपोर्ट
नगरीय निकायों में हुई भर्तियों को लेकर लग रहे आरोप-प्रत्यारोपों को गंभीरता से लेते हुए दो माह पूर्व संभागायुक्त राजीव शर्मा ने जेडी नगरीय प्रशासन से संभाग की 21 निकायों में हुई भर्तियों की पूरी रिपोर्ट मांगी थी। जिसके बाद कई निकायों में बैठे अधिकारी रिपोर्ट देने से बचते नजर आए। किसी ने कहा हमने भोपाल रिपोर्ट भेज दी है तो कोई रिपोर्ट बनने में समय लगने का बहाना बनाते नजर आए। इधर लगातार हो रही शिकायतों के चलते संचालनालय नगरीय प्रशासन एवं विकास मध्य प्रदेश भोपाल ने भी जांच बैठा दी। जांच समिति ने नवगठित निकायों में पहुंचकर दस्तावेज खंगाले और रिपोर्ट तैयार कर संचालनालय को सौंपी है। जिसके आधार पर बकहो में की गई गड़बड़ी में अधिकारियों की कलई सामने आ गई है। जबकि अभी भी अनूपपुर जिले की तीन निकायों की फाइल खुलनी बाकी है। यहां विभाग के एक मंत्री के नजदीकी की भी भर्ती हुई है।

Copyright © 2023 Patrika Group. All Rights Reserved.