घर में बैठकर बाहरी मजदूरों को दिलाया वेतन, सैनेटाइजर यूनिट को दिलाई मंजूरी

मजदूरों को उपलब्ध करावाया मास्क

By: shubham singh

Published: 29 Jun 2020, 10:24 PM IST

शहडोल। कोरोना संकट और लॉकडाउन की स्थिति में जिला उद्योग केन्द्र के अधिकारी कर्मचारियों ने भी बड़ी भूमिका निभाई है। कोरोना संक्रमण की चेन तोडऩे जहां अधिकांश कर्मचारी घर में रहकर कई महत्वपूर्ण कार्यों को निपटाया तो वहीं दूसरी ओर घर से ही बाहर फंसे मजदूरों को वेतन भी दिलाया। इतना ही नहीं सैनेटाइजर यूनिट के लिए एक दिन के भीतर ही मंजूरी भी दिलाई। उद्योग केन्द्र में कुल 12 अधिकारी और कर्मचारी पदस्थ हैं। इसमें से प्रतिदिन 33 प्रतिशत कर्मचारी आफिस में काम करने आते हैं बाकी कर्मचारी घर से ऑनलाइन काम करते थे ताकि कोरोना संक्रमण दफ्तर तक न पहुंचे। इस तरह से चार से पांच कर्मचारी प्रतिदिन आफिस में काम करने आते थे। वर्क फ्राम होम के तहत अधिकारियों ने घर बैठे उद्योगों में लगे प्रदेश के बाहरी मजदूरों को वेतन दिलाने में भूमिका निभाई है। इसके साथ ही सैनेटाइजर यूनिट को शुरू कराने के लिए कलेक्टर से अनुमति दिलवाई।


मजदूरों को उपलब्ध करावाया मास्क
लॉकडाउन में वर्क फ्राम होम के तहत श्रम अधिकारियों ने मजदूरों सहित उद्योगों के लिए कई काम किए। इसमें कितने उद्योग लगे हुए हैं। उनका डाटा तैयार कराया। इन उद्योगों में कितने मजदूर हैं, उनको मास्क मिला है या नहीं अगर नहीं मिला है तो उपलब्ध करवाया जा रहा है। लगातार मॉनिटरिंग भी की जा रही है। कौन-कौन सी यूनिट बंद है और कौन-कौन सी चालू है। उनका डाटा तैयार किया गया है। उद्योगों में अगर प्रदेश के बाहर कोई मजदूर काम कर रहे हैं तो उनको वेतन मिल रहा है कि नहीं, अगर नहीं मिल रहा है तो दिलवाया गया। जिल में कुल कितने यूनिट हैं। मैनुफेक्चरिंग यूनिट का डाटा तैयार किया गया। उसे भोपाल भेजा गया, जहां से केन्द्र सरकार को डाटा भेजा गया।


110 यूनिट में की बात, मजदूरों के लिए कराई व्यवस्थाएं
उद्योग विभाग के अधिकारियों के अनुसार, जिले में 110 यूनिट हैं। लॉकडाउन से लेकर अब तक लगातार उद्योगों से संपर्क किया जा रहा है। यहां काम करने वाले मजदूरों से भी चर्चा की जा रही है। मजदूरों के रहने, खाने-पीने और अन्य सुविधाओं को लेकर व्यवस्थाएं कराई गई हैं ताकि यहां काम करने वाले दूसरे प्रांतों के मजदूरों को दिक्कतों का सामना न करना पड़े।

कोरोना संक्रमण की चेन तोडऩा हम सबकी जिम्मेदारी है। कर्मचारियों की सुरक्षा के लिहाज से लॉकडाउन के दौरान घर से भी काम किया था। अधिकारियों के साथ मिलकर बाहर फंसे मजदूरों को वेतन भी दिलाया है। शहडोल में सैनेटाइजर की कमी के बीच हमने जल्द फाइल तैयार करते हुए यूनिट को अनुमति दिलाई थी। कलेक्टर के निर्देशन में स्किल मजदूर और उद्योगों की जानकारी जुटा रहे हैं। रोजगार उपलब्ध कराने का भी प्रयास रहेगा।
पुष्पांजली सिंह, सहायक प्रबंधक उद्योग केन्द्र

shubham singh Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned