लापरवाही: सामान्य मरीज घटे, लेकिन गंभीर मरीज लगातार पहुंच रहे मेडिकल कॉलेज

लेटलतीफी से सीधे आइसीयू पहुंच रहे कोरोना मरीज, हालत बिगडऩे पर करा रहे भर्ती

By: amaresh singh

Published: 21 Oct 2020, 12:23 PM IST

शहडोल. कोरोना संक्रमण का ग्राफ भले ही घट रहा हो लेकिन थोड़ा भी लापरवाही जान पर बन रही है। पहले मरीज खुद होम आइसोलेट होकर ठीक होने की कोशिश कर रहे हैं। स्वस्थ न होने पर डॉक्टरों से सलाह ले रहे हैं। बाद में इलाज के लिए हालत बिगडऩे पर मेडिकल कॉलेज पहुंच रहे हैं। हालत नाजुक होने पर आइसीयू में सीधे भर्ती किया जा रहा है।
जिले में सितंबर माह से कोरोना के गंभीर मरीज मिलने लगे थे। इसके बाद मेडिकल कॉलेज में इलाज के दौरान इनकी मौत होने लगी थी। कोरोना के गंभीर मरीजों की मौत के पीछे उनका देरी से मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया जाना है। जिन कोरोना मरीजों की मौत हुई है, उनमें से अधिकतर मरीजों को परिजन तब मेडिकल कॉलेज में लेकर भर्ती कराने आए जब उनकी हालत बिगड़ चुकी थी। इसके बाद इलाज के बाद भी उनकी हालत में सुधार नहीं हुआ और मौत हो गई। अक्टूबर माह में भी कोरोना के गंभीर मरीज हर दिन मिल रहे हैं। मेडिकल कॉलेज में पिछले 20 दिन में कोरोना के 30 से ज्यादा गंभीर मरीज मिले हैं।


हर दिन 100 आक्सीजन सिलेंडर की खपत
मेडिकल कॉलेज में वर्तमान में हर दिन एक से लेकर दो कोरोना के गंभीर मरीज भर्ती हो रहे हैं। इन गंभीर मरीजों को सांस लेने में दिक्कत की शिकायत हो रही है। इस पर उन्हें ऑक्सीजन पर रखा जा रहा है। इससे ऑक्सीजन की खपत हर दिन 100 सिलेंडर की हो रही है। एक मरीज को प्रतिमिनट अधिकतम 60 लीटर ऑक्सीजन दिया जा रहा है। वहीं कोरोना के सामान्य मरीज भी हर दिन 6 से 7 मेडिकल कॉलेज में भर्ती हो रहे हैं। जिले में अब तक 2530 कोरोना संक्रमित मरीज मिल चुके हैं।


बार-बार जांच करवाने पर लग रहा शुल्क
अब कोरोना की बार-बार जांच करवाने पर शुल्क लगेगा। ऐसे लोग जिनकी एक बार जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई है या जांच रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी है। इसके बाद भी फिर से जांच करवाना चाहते हैं। कई बार जांच करवाने की मांग करते हैं। उनको जांच करवाने के लिए शुल्क देना पड़ेगा। यह शुल्क 1200 रुपए निर्धारित किया है।

coronavirus How do you treat coronavirus? What is Coronavirus?
amaresh singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned