scriptShame on medical facilities of Madhya Pradesh | medical facilities of MP- मानवता शर्मसार: सरकारी अस्पताल से शव वाहन नहीं मिला तो पटिया से बांधकर ले गए मां का शव | Patrika News

medical facilities of MP- मानवता शर्मसार: सरकारी अस्पताल से शव वाहन नहीं मिला तो पटिया से बांधकर ले गए मां का शव

- बाइक से 80 किमी दूर घर ले गए शव

शाहडोल

Published: August 01, 2022 03:27:01 pm

शहडोल। मेडिकल कॉलेज अस्पताल में रविवार सुबह शव वाहन न मिलने से 70 वर्षीय जयमंत्री यादव का शव बाइक से ले जाना पड़ा। अनूपपुर के कोतमा गोडारू गांव तक 80 किमी का सफर तय करने के लिए बेटे सुंदर यादव और परिजन ने 100 रुपए के पटियों का सहारा लिया। पटियों पर अर्थी की तरह शव रखा और फिर बाइक से बांधकर ले गए। परिवार प्राइवेट वाहन से शव ले जाने में असमर्थ था, क्योंकि वाहन 4-5 हजार रुपए में मिल रहा था।

shameful_system.jpg

मेडिकल कॉलेज में नहीं है शव वाहन: मेडिकल कॉलेज अस्पताल के अधीक्षक नागेन्द्र सिंह के अनुसार एंबुलेंस की सुविधा नहीं है और न ही शव वाहन हैं। दो एंबुलेंस दी गई हैं, जिनके रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया की जा रही है। रजिस्ट्रेशन के बाद ही मरीजों को सुविधा दी जाएगी।

इस मामले पर मृतक के बेटे सुंदर का कहना है कि, मां की मौत के बाद उन्होंने शव वाहन के बारे में पता किया, लेकिन अस्पताल में शव वाहन ही नहीं था। ऐसे में प्राइवेट शव वाहन वालों से बात की तो वे शव ले जाने के लिए 5 हजार रुपए मांग रहे थे, लेकिन इतने पैसे उनके पास नहीं थे। काफी मन्नतें करने के बाद भी उनमें से किसी का दिल नहीं पसीजा। तो आखिरकार हम मां का शव बाइक पर रखकर ही ले गए।

जानकारों के अनुसार इसमें सबसे खास बात ये है कि MP में लगातार इस तरह की घटनाये सामने आने के बावजूद सरकार किसी कठोर निर्णय पर आज तक नहीं पहुंच पायी है, तभी तो स्थितियाँ खत्म होने का नाम नहीं ले रही हैं। वही यदि इस ओर ध्यान दिया जाता तो इन पर नियंत्रण पाया जा सकता था। वहीं जानकारों का ये भी कहना है कि यदि कहीं किसी मेडिकल कॉलेज में शव वाहन नहीं है, तो उसे उपलब्ध करना भी सरकार का ही काम है। ऐसे में यदि यहां के मेडिकल कॉलेज में शव वाहन नहीं है तो ये भी सरकार की ही विफलता है।

वहीं इस पूरे मामले की जानकारी मुख्यालय पहुंचते ही लगातार आ रहे दबाव के बीच मुख्यालय की ओर से मेडिकल कॉलेज के अधिकारियों से जवाब मांगा गया है।
साथ ही इस संबंध में जांच के आदेश भी जारी कर दिए गए हैं। मामले पर अधिकारियों द्वारा लापरवाही छिपाने के लिए इसपर पर्दा डाला जा रहा है। मेडिकल कॉलेज के डीन कहा कि, मृतक के बेटे द्वारा खुद ही शव वाहन लेने से मना किया गया था. हालांकि, शव वाहन अस्पताल के बाहर खड़ा है। मुख्यालय की ओर से यह भी कहा जा रहा है कि अगर प्रबंधन की लापरवाही सामने आती है तो इसके खिलाफ उचित कार्रवाई की जाएगी।

पहले भी हो चुकी हैं MP में कई ऐसे घटनाएं
इससे पहले साल 2017 में नौगांव नगर में टेलीफोन एक्सचेंज के सामने रहने वाली 90 वर्षीय शांति पति बाबूलाल रजक एक माह से बीमार थी। उसका इलाज नौगांव सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में चल रहा था। कुछ रोज से उसने खाना पीना भी बंद कर दिया था। बुधवार को दोपहर तीन बजे उसकी मौत हो गई। वृद्ध की मौत के बाद ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर द्वारा परिजनों से वृद्ध का शव घर ले जाने को कहा।

परिजनों के पास पर्याप्त पैसे नहीं थे। जिससे कि वह निजी वाहन से शव को ले जाते। इस दौरान उन्होंने अस्पताल से ही शव वाहन की व्यवस्था के लिए कोशिश की लेकिन नहीं सुनी। तब मजबूर होकर परिजन एक हाथ ठेला किराए पर लेकर आए। इसके बाद शाम करीब पांच बजे शव को ठेले पर रखकर घर ले गए। इस दौरान सभी सड़क पर हाथ ठेले पर शव जाता देखा।

मृतक के पुत्र धीरेन्द्र ने बताया कि जब उसकी मां की मौत हुई तो डॉक्टर का कहना था उसको घर ले जाओ नहंी तो रात भर यहीं रुकना होगा। इतना कहकर डॉक्टर ने अपनी जिम्मेदारी पूरी कर ली और नगर पालिका से भी कोई सहायता नहीं मिली। तब मजबूर होकर हाथ ठेले से शव को घर ले जाना पड़ा। उधर बताया जाता है कि क्षेत्रीय विधायक मानवेन्द्र सिंह के द्वारा विधायक निधि से शव वाहन नगर पालिका को दिया गया था लेकिन वृद्ध के परिजनों को शव वाहन उपलब्ध नहीं हो सका।
2- वाहन नहीं, कंधे पर मासूम की लाश
कुछ समय पहले छतरपुर जिले के बकस्वाहा में भी मानवता को शर्मसार करने वाली तस्वीर सामने आई थी। यहां जिला अस्पताल में चार वर्ष की राधा अहिरवार की मौत के बाद परिजन बकस्वाहा तक तो शव ले आए, पर वहां से 4 किमी दूर स्थित गांव पोंडी तक शव ले जाने के लिए शव वाहन नहीं मिला। ऐसे में चाचा ने शव को कंधे पर रखकर पैदल चलना शुरू कर दिया। खबर फैली तो बाद में नगर परिषद ने वाहन की व्यवस्था कर शव को गांव तक पहुंचाया। तब तक चाचा आधा फासला तय कर चुका था।
ऐसे समझें MP की ये व्यवस्था: गर्भवती की तक वाहन नहीं मिलने से हो गई थी मृत्यु...
ये तो मृत्यु के बाद की चंद घटनाये हैं मध्य प्रदेश की चिकित्सा सुविधाओं (व्यवस्थाओं) का तो यही से अनुमान लगा सकते हैं कि कुछ समय पहले भगवानपुरा (खरगोन) के कांजिया फाल्या छोटी सिरवेल में गर्भवती महिला शांतिबाई पति सियाराम खरते (32) को लेने के लिए एंबुलेंस नहीं पहुंची, तो परिजन उसे खटिया पर लेटाकर तीन किमी दूर तक पैदल-पैदल चले। किंतु अस्पताल पहुंचने से पहले महिला ने दमतोड़ दिया।
मौत के बाद शव को वापस घर तक लाने के लिए ग्रामीणों को बोझा ढोहते हुए आना पड़ा। ग्रामीण इनाराम सोलंकी आशाराम ओहरे, राजाराम ओहरे ने बताया कि शांताबाई को सोमवार रात्रि 10 बजे पेट में अचानक दर्द हुआ। इसकी सूचना परिजनों ने आशा कार्यकर्ता को दी और अस्पताल ले जाने के लिए एंबुलेंस बुलाने की बात कही। करीब 3 घंटे से रात एक बजे एंबुलेंस छोटी सिरवेल तक पहुंची।
इस दौरान परिजन गर्भवती को खटिया पर लेटाकर एंबुलेंस वाहन तक ले गए जहां से उसे चाचरिया के शासकीय अस्पताल लाया गया। यहां महिला की स्थिति गंभीर होने पर सेंधवा रेफर किया गया। अगले दिन तड़के चार बजे रास्ते में ही महिला की मौत हो गई। परिजनों ने बताया कि महिला को तीन किमी तक खटिया पर लेटाकर ले गए व उसके मृत शव को भी खटिया से घर तक ले गए। जिसके बाद गांव में अंतिम संस्कार किया था।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद बोले तेजस्वी यादव- 'नीतीश जी का हमसे हाथ मिलाना BJP के मुंह पर तमाचे की तरह''स्मोक वार्निंग' के कारण मालदीव जा रही 'गो फर्स्ट' की फ्लाइट की हुई कोयंबटूर में इमरजेंसी लैंडिंगHimachal Pradesh News: रामपुर के रनपु गांव में लैंडस्लाइड से एक महिला की मौत, 4 घायलMaharashtra Politics: चंद्रशेखर बावनकुले बने महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष, आशीष शेलार को मिली मुंबई की कमानममता बनर्जी को बड़ा झटका, TMC के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पवन वर्मा ने पार्टी से दिया इस्तीफामाकपा विधायक ने दिया विवादित बयान, जम्मू-कश्मीर को बताया 'भारत अधिकृत जम्मू-कश्मीर'गुजरात चुनाव से पहले कांग्रेस का बड़ा ऐलान, सरकार बनी तो किसानों का तीन लाख तक का कर्ज होगा माफBJP का महागठबंधन पर बड़ा हमला, सांबित पात्रा बोले- नीतीश-तेजस्वी के साथ आते ही बिहार में जंगलराज शुरू
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.