इन दिब्यांगो की कला देख सब रह गए दंग

उत्साह कार्यक्रम में 57 बच्चों ने किया प्रतिभा का प्रदर्शन

By: Ramashankar mishra

Published: 07 Jan 2019, 08:38 AM IST

शहडोल। शरीरिक कमजोरी को दर किनार कर अपने भावों को प्रकट कर दिब्यांग बच्चों ने यह बता दिया कि दृढ़ इच्छा शक्ति हो तो कुछ भी हासिल किया जा सकता है। अवसर था प्रेरणा फाउण्डेशन द्वारा आयोजित उत्साह सांस्कृतिक कार्यक्रम का। जिसमें मूक, बधिर व मान्सिक नि:शक्त बच्चों ने सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति देकर सबको मंत्रमुग्ध कर दिया। कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि नगर पालिका अध्यक्ष उर्मिला कटारे, उपाध्यक्ष कुलदीप निगम द्वारा दीप प्रज्वलन कर किया गया। प्रेरणा फाउण्डेशन द्वारा आयोजित उक्त कार्यक्रम में जिले से लगभग 57 नि:शक्त बच्चों ने अपनी-अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। जिसमें स्वागत गीत के साथ कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। इसके उपरांत मूक बधिर बालक एवं मानसिक नि:शक्त बच्चों द्वारा सामूहिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी गई। कार्यक्रम में दृष्टि बाधित बालिका द्वारा गीत, बाल श्रम पर लघु नाटिका, पेड़ संरक्षण पर लघू मूक नाटिका, सामूहिक नृत्य, जल संरक्षण पर लघु नाटिका, सोच नाट्य एकडमी द्वारा वयस्क, प्रौढ़ तथा अभिभावक / पालक विहीन मानसिक नि:शुक्तों की समस्या पर एक लघु नाटिका की प्रस्तुति दी गई साथ ही नेत्र दान महादान पर भी कार्यक्रम का मंचन किया गया। प्रेरणा फाउण्डेशन की मधु श्री राय ने बताया कि इस अवसर पर भावना गुप्ता द्वारा बच्चों के उत्साहवर्धन के लिए टी शर्ट वितरित किया गया। इस सांस्कृतिक कार्यक्रम में सभी बच्चों ने बढ़चढ़कर भाग लिया। अपने-अपने कार्यक्रमों को प्रस्तुत करने को लेकर सभी में एक अलग ही उत्साह देखने मिल रहा था। उपस्थित जन समुदाय ने भी इन बच्चों के उत्साह को कम नहीं होने दिया और बच्चों की प्रस्तुति की सभी ने जमकर सराहना की। जिसके चलते बच्चों को बल मिलता गया और उन्होने अपनी प्रस्तुति को बेहतर से बेहतर बनाने का प्रयास किया। कार्यक्रम में मंचासीन अतिथियों के साथ ही दर्शक दीर्घा ने भी जमकर सराहा। बच्चों द्वारा प्रकृति को लेकर विशेष कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी गई। जिसके माध्यम से पर्यावरण व जल संरखण का संदेश भी दिया गया।

Ramashankar mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned