आजादी के बाद पहली बार पहाड़ पर पहुंची बोरिंग मशीन, अब वनवासियों को मिलेगा स्वच्छ पानी

झिरिया, ताल तलैया का पी रहे थे पानी

By: shivmangal singh

Published: 24 Apr 2018, 05:21 PM IST

आजादी के बाद पहली बार पहाड़ पर पहुंची बोरिंग मशीन, अब वनवासियों को मिलेगा स्वच्छ पानी
शहडोल. कमिश्नर रजनीश श्रीवास्तव की पहल रंग लाई है। कमिश्नर की पहल से अनूपपुर जिले के पुष्पराजगढ़ तहसील के दुर्गम मलरमट्टा गांव के आदिवासी परिवारों को अब शुद्ध और स्वच्छ जल मिलेगा। कमिश्नर की पहल पर गांव में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा चार हैण्डपंपों का उत्खनन किया गया है, जिसमें पर्याप्त पानी ग्रामीणों को मुहैया हो रहा है जिससे गांव के आदिवासी ग्रामीण काफी खुश हैं। गौरतलब है कि मंगलवार को कमिश्नर शहडोल संभाग रजनीश श्रीवास्तव की जनसुनवाई में अनूपपुर जिले के ग्राम मलरमट्टा के आदिवासी परिवारों ने गांव में पेयजल व्यवस्था करने की व्यवस्था सुनाई थी। ग्रामीणों का कहना था कि ग्राम मलरमट्टा में हैण्डपंप खुदाई के लिये मशीने नहीं पहुंचपाने के कारण गांव में पेयजल की स्थिति बहुत खराब है। गांव वालों को समुचित पेयजल नहीं मिल रहा है। ग्रामीणों का कहना था गांव मलरमट्टा में समुचित हैण्डपंप खुदवाये जायें, ग्रामीणों की शिकायत पर कमिश्नर शहडोलने कलेक्टर अनूपपुर एवं लोक स्वास्थ्य विभागों से दूरभाष पर चर्चा की थी तथा निर्देश दिये थे कि आदिवासी बहुल मलरमट्टा गांव में तत्काल पेयजल की व्यवस्था की जाये, पेयजल की व्यवस्था के लिये गांव में समुचित हैण्डपंपों का उत्खनन किया जाये। कमिश्नर के निदश पर ग्राम पंचायत मलरमट्टा में चार हैण्डपंप खुदवाये गये हैं जहां से ग्रामीणों को समुचित पेयजल उपलब्ध हो रहा है। कमिष्नर द्वारा एक सप्ताह समयावधि में आदिवासी बहुल गांव मलरमट्टा के आदिवासियों बहुल ग्राम मे पेयजल की समुचित व्यवस्था किये जाने पर ग्रामीणों ने खुशी जाहिर की है।
प्रशिक्षण का सचिव स्वास्थ्य ने किया निरीक्षण
शहडोल . प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जनहितकारी एवं महत्वाकांक्षी आयुष्मान योजना 15 अगस्त 2018 से पूरे देश में लागू है। इसके अंतर्गत वर्ष 2011 की सामाजिक एवं आर्थिक जनगणना के आधार पर वंचित परिवार कटेगरी डी-1 से डी-7 तक (डी-6 को छोड़कर) में चिन्हित परिवार जिनकी संख्या मध्यप्रदेश में 68 लाख है इन परिवारों के अद्यतन स्थिति का सर्वेक्षण कार्य का प्रशिक्षण 22 अपै्रल से 26 अपै्रल तक जिले में आयोजित किया जा रहा है। इस योजना में चयनित परिवार को 5 लाख रुपये तक स्वास्थ्य बीमा का लाभ दिया जायेगा। रविवार को जिले के पंचायत भवन लालपुर में आयोजित सेक्टर स्तरीय प्रशिक्षण में कवीन्द्र कियावत सचिव स्वास्थ्य भोपाल द्वारा प्रशिक्षण का निरीक्षण भी किया गया। सर्वेक्षण का कार्य जिले की आशा कार्यकर्ता द्वारा किया जायेगा एवं सत्यापन महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता तथा पंचायत सचिव द्वारा एवं रोजगार सहायक द्वारा पोर्टल में इंट्री की जायेगी। 30 अपै्रल को जिले में आयोजित ग्राम सभा में वाचन किया जायेगा तथा 1 मई से 8 मई तक सर्वेक्षण कार्य एवं 9 मई से 15 मई तक पोर्टल में इंट्री की जायेगी। जिले में मलेरिया अधिकारी को स्वास्थ्य विभाग में नोडल अधिकारी बनाया गया है। जिले में जयसिंहनगर, गोहपारू, चन्नौड़ी-बुढ़ार में भी प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। लालपुर के सेक्टर स्तरीय प्रशिक्षण में सचिव स्वास्थ्य भोपाल कवीन्द्र कियावत, कलेक्टर नरश पाल, मुख्य कार्यपालन अधिकारी शहडोल एसकृष्ण चैतन्य, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी शहडोल डॉ.राजेश पाण्डेय, नोडल अधिकारी आईबी सिंह व जिले के अन्य अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।

shivmangal singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned