आवेदक द्वारा प्रमाणित प्रमाण पत्र होगा मान्य

आवेदक द्वारा प्रमाणित प्रमाण पत्र होगा मान्य

Ramashankar mishra | Publish: Sep, 09 2018 08:28:16 PM (IST) Shahdol, Madhya Pradesh, India

अशासकीय विद्यालयों में नि:शुल्क प्रवेश के लिए दिशा निर्देश जारी

शहडोल। शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अंतर्गत गैर-अनुदान मान्यता प्राप्त अशासकीय स्कूलों में वंचित समूह एवं कमजोर वर्ग के बच्चों की ऑनलाइन प्रवेश प्रक्रिया के संबंध में संचालक राज्य शिक्षा केन्द्र द्वारा आवश्यक दिशा निर्देश जारी किए गए हैं। राज्य शिक्षा केन्द्र द्वारा जारी किए गए यह निर्देश बच्चों के दस्तावेजों के सत्यापन के संबंध में जारी किए गए हैं। इसके साथ ही अध्ययनरत् बच्चों की फीस प्रतिपूर्ति के लिए समय सारणी भी जारी की गई है। निर्देश में कहा गया है कि चयनित आवेदक द्वारा पोर्टल पर प्रविष्टि करते समय अगर त्रुटिवश जन्म तिथि गलत हो गई है, तो आवेदक द्वारा प्रमाणित जन्म प्रमाण-पत्र प्रस्तुत करने पर इसे मान्य किया जाए। इसके लिए आवेदक से लिखित में शपथ-पत्र ले लिया जाए। इसी तरह, चयनित आवेदक द्वारा वंचित समूह एवं कमजोर वर्ग के प्रमाण-पत्र की पोर्टल पर प्रविष्टि करते समय अगर गलत आरक्षित समूह अंकित हो गया हो, तो आवेदक द्वारा वास्तविक प्रमाण-पत्र प्रस्तुत करने पर इसे मान्य किया जाये। इसके लिए भी आवेदक से शपथ-पत्र लिये लिया जाये। कलेक्टर्स को अधिनियम के अंतर्गत सत्र- 2018-19 के लिए गैर-अनुदान प्राप्त अशासकीय विद्यालयों में नि:शुल्क प्रवेश की कार्यवाही समय-सीमा में सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है।
फीस प्रतिपूर्ति की समय-सारणी जारी
राज्य शिक्षा केन्द्र ने नि:शुल्क और अनिवार्य बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम में प्राइवेट स्कूलों में 2016-17 सत्र में अध्ययनरत बच्चों की फीस प्रतिपूर्ति के लिए समय-सारणी जारी की है। प्राइवेट स्कूलों में नि:शुल्क अध्ययनरत बच्चों का आधार नम्बर 15 सितम्बर तक तैयार किया जाएगा। आधार सत्यापन का कार्य 20 सितम्बर तक किया जायेगा। प्राइवेट स्कूलों द्वारा 25 सितम्बर तक नोडल अधिकारी को प्रपोजल भेजा जायेगा। नोडल अधिकारी प्रपोजल का सत्यापन करने के बाद इसे 30 सितम्बर तक जिला परियोजना समन्वयक को भेजेंगे। डी.पी.सी. 5 अक्टूबर तक संबंधित प्राइवेट स्कूलों में प्रतिपूर्ति राशि ट्रांसफर करेंगे। प्राइवेट स्कूल संचालकों से समय-सारणी के अनुसार आवश्यक कार्यवाही करने के लिए कहा गया है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned