हजारों शंखों व घंटों के स्वरों से कांप गया कोरोना

शाम पांच बजते ही शहर में गूंजने लगे थाली व ताली के स्वर, शंख व घंटे बजाकर लोगों ने कहा कोरोना-गो

By: brijesh sirmour

Published: 22 Mar 2020, 08:25 PM IST

शहडोल. रविवार को इतिहास मेें पहली बार किसी महामारी के खिलाफ लोगों ने एकजुट होकर अपनी एकता की मिसाल पेश की है। लोगों में कोरोना की दहशत कम और उसे भगाने का ज्यादा उत्साह दिखा। जनता कफ्र्यू में दिन भर पसरे सन्नाटे के बाद जैसे ही घड़ी में पांच बजे वैसे ही चहुंओर से थाली व ताली के स्वर गूंजने लगे। हर गली हर चौराहों पर लोग अपने-अपने घरों से बाहर निकलकर घंटे, घडिय़ालों व शंख के स्वरों के माध्यम कोरोना-गो के संदेश को प्रसारित किया। कई स्थानों पर लाउड स्पीकर से शंखों व घंटों के स्वरों को गुंजायमान हो किया। यह सिलसिला शाम पांच बजे से करीब आधे घंटे तक चलता रहा। जिसमें हर परिवार के प्रत्येक सदस्य ने अपनी सक्रिय भूमिका निभाई। शहर के मुख्य गांधी चौराहे से लेकर हर गली, मोहल्लों व चौराहों के हर घरों के बाहर लोगों ने थाली व ताली बजाई और कोरोना को भगाने के लिए सभी तत्पर दिखे। इस दौरान कुछ पलों के लिए ऐसा लगा जैसे कोरोना जैसी कोई महामारी इस संसार से विदा हो गई है।

Corona virus corona virus in india Corona Virus treatment
Show More
brijesh sirmour
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned