सीएम हेल्प लाईन के प्रकरणों के निराकरण के लिए जिले के एल-1 एवं एल-2 अधिकारियों को दिया गया प्रशिक्षण

सीएम हेल्प लाईन के प्रकरणों के निराकरण के लिए जिले के एल-1 एवं एल-2 अधिकारियों को दिया गया प्रशिक्षण

Shiv Mangal Singh | Publish: Jul, 13 2018 05:14:07 PM (IST) Shahdol, Madhya Pradesh, India

प्रकरणों को फोर्स क्लोज न किया जाये


सीएम हेल्प लाईन के प्रकरणों के निराकरण लिए जिले के एल-1 एवं एल-2 अधिकारियों को दिया गया प्रशिक्ष
प्रकरणों को फोर्स क्लोज न किया जाये
शहडोल .सीएम हेल्प लाईन प्रदेश शासन का सुशासन की दिशा में किया गया अभिनव प्रयास है। जिसके माध्यम से आवेदक काल करके अथवा ऑन लाईन शिकायतें दर्ज करा सकते हैं। सीएम हेल्प लाईन पोर्टल से जिले से लेकर राज्य स्तर तक मॉनीटरिंग की व्यवस्था है। जिले के समस्त पदाभिहित अधिकारी प्रशिक्षण के माध्यम से अपने दायित्वों की जानकारी प्राप्त करें तथा अनुशरण करते हुये समय-सीमा में संतुष्टिकरण के साथ आवेदनों का निराकरण करे। उक्ताशय के विचार कलेक्टर अनुभा श्रीवास्तव ने कलेक्टर सभागार में दो दिवसीय तीन सत्रों में आयोजित प्रशिक्षण कार्यक्रम में एल-1 एवं एल-2 अधिकारियों को दिये। प्रशिक्षण में पुलिस उप महानिरीक्षक शहडोल जोन पीएसउइके, पुलिस अधीक्षक कुमार सौरव, अपर कलेक्टर सरोधन सिंह, उपायुक्त राजस्व दिलीप पाण्डेय, एसडीएम रमेश सिंह, सतीश राय, नगर निरीक्षक शहडोल रावेन्द्र कुमार द्विवेदी एवं वन विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।
लोकसेवा प्रबंधन भोपाल से आये मास्टर ट्रेनर एवं उप संचालक ने बताया कि सीएम हेल्प लाईन में शासन द्वारा जनसुनवाई, समाधान ऑन लाईन तथा लोककल्याण शिविरों में प्राप्त होने वाले आवेदनों को भी जोड़ दिया गया है। एल-1 अधिकारियों का दायित्व हैं कि वे अपने पोर्टल में शिकायत दर्ज होते ही अटेंड अवश्य करें। शिकायतों को अटेंड नहीं करना कार्य के प्रति लापरवाही माना जाता है। आपने कहा कि हर आवेदन में कार्यवाही प्रदर्शित होना चाहिए तभी ग्रेडिंग के दौरान माक्र्स दिये जाते हैं। जिन प्रकरणों में समय सीमा से ज्यादा समय लगना संभावित हो उन प्रकरणों को फोर्स क्लोज नहीं किया जाये अन्यथा वे प्रकरण मॉनीटरिंग से हट जाते हैं तथा बाद में समाधान ऑन लाईन में आते हैं। पोर्टल में मान्य, अमान्य हेतु लंबित शिकायतों की जानकारी की सुविधा समय सीमा से बाहर प्रकरणों की जानकारी की सुविधा फोर्स क्लोज प्रकरणों की जानकारी की सुविधा भी उपलब्ध है। कई बार शिकायतकर्ता द्वारा शिकायत दर्ज कराने के बाद अपना मोबाईल नम्बर बदल लेता है या उसका मोबाईल गुम जाता है तो एल-1 अधिकारी को एक बार मोबाईल नम्बर बदलने की सुविधा है। आपने कहा कि यदि किसी अधिकारी का स्थानांतरण या लंबे अवकाश मेंज जा रहे हों तो उनके स्थान पर दायित्व निर्वहन करने वाले अधिकारी की प्रोफाईल, फोटो, मोबाईल नम्बर तथा ईमेल एड्रेस पोर्टल में फीड कराया जाये। प्रशिक्षण में कार्य के दौरान आने वाली समस्याओं से संबंधित प्रश्नों का प्रशिक्षक द्वारा निराकरण किया गया। इस अवसर पर जिला लोकसेवा प्रबंधक अवनीश दुबे भी उपस्थित थे।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned