दो मशीन और 50 मरीज, सभी का नहीं हो पा रहा डायलिसिस

हर दिन 4 मरीजों का होता है डायलिसिस

By: shubham singh

Updated: 03 Dec 2019, 07:59 PM IST

शहडोल। जिला अस्पताल में डायलिसिस के मरीजों की संख्या बढ़ रही है लेकिन मशीनों की संख्या नहीं बढ़ रही है। इसके चलते सभी मरीजों का डायलिसिस नहीं हो पा रहा है। दो मशीनों में से एक मशीन खराब हो जाती है। इससे यह दिक्कत और बढ़ जाती है।


साल 2016 में डायलिसिस यूनिट की हुई स्थापना
जिला अस्पताल में डायलिसिस के मात्र दो मशीन है जबकि डायलिसिस कराने के लिए 50 मरीज पंजीकृत है। हर दिन 4 मरीजों का डायलिसिस होता है, ऐसे में सभी मरीजों का डायलिसिस नहीं हो पा रहा है। किसी न किसी मरीज का डायलिसिस छूट जाता है। अगर मरीज बढ़ जाएंगे तो यह दिक्कत और बढ़ जाएगी। जिला अस्पताल में डायलिसिस यूनिट की स्थापना 26 मई साल 2016 में हुई। उस समय दो मशीनों को डायलिसिस के लिए लगाया गया तब से लेकर आज तक दो ही मशीन हैं।


चार मशीनों की है आवश्यकता
मरीजों की संख्या को देखकर जिला अस्पताल में डायलिसिस के लिए कम से कम चार मशीनों की आवश्यकता है। अभी दो मशीनों से काम चलाया जा रहा है। उसमें भी एक मशीन खराब है। इससे डायलिसिस के लिए आने वाले मरीजों को कई बार वापस भी लौटना पड़ रहा है। डायलिसिसिस के एक मरीज का सप्ताह में दो बार डायलिसिस होना जरूरी है। एक मरीज का तब तक डायलिसिस होता है जब तक वह जीवित है या उसका किडनी ट्रांसप्लांट नहीं हो जाता है।

जिला अस्पताल में पंजीकृत मरीज 50
डायलिसिस के लिए उपलब्ध मशीन 2
वर्तमान में मशीन खराब है 1
हर दिन डायलिसिस होता है 4 मरीज
एक मरीज का सप्ताह में डायलिसिस होता है 2 बार

shubham singh Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned