नहीं बनी पानी की टेस्टिंग की प्रयोगशालाएं

बिना पानी टेस्टिंग पानी पी रहे लोग

शहडोल. जिले में पीएचई विभाग द्वारा पानी के परीक्षण के लिए बनवाई जा रही तीन प्रयोगशालाएं दो साल बीतने के बाद भी अब तक नहीं बन पाई हैं। इस मामले में ठेकेदारों की लापरवाही सामने आने पर पीएचई विभाग ने ठेकेदार को समय पर कार्य पूरा करने के लिए दोनों ठेकेदारों को आठ नोटिस जारी किए हैं। जिसमें बुढ़ार और शहडोल के ठेकेदार को तीन और ब्यौहारी के ठेकेदार को पांच नोटिस जारी किए गए हैं। वहीं विभाग द्वारा नोटिस के अलावा अन्य कोई कारगर कार्रवाई नहीं किए जाने के कारण मामला पेंडिंग है।
2018 में हुआ था वर्क आर्डर-
जानकारी में बताया गया है कि पीएचई विभाग द्वारा 15-15 लाख रुपए की लागत से संभागीय मुख्यालय और बुढ़ार तथा ब्यौहारी में प्रयोगशाला भवन निर्माण का ठेका दिया गया, जिसमें शहडोल और बुढ़ार में शकील और ब्यौहारी में फूलबाई सोनी को जून और फरवरी 2018 में दिया गया और इसके निर्माण को पूरा कराने के लिए तीन महीने का समय दिया गया, लेकिन शहडोल और बुढ़ार को छोड़ ब्यौहारी का निर्माण कार्य आधा अधूरा कराया गया है।
आठ नोटिस के बाद भी काम अधूरा-
जानकारी में बताया गया है कि शहडोल और बुढ़ारके ठेकेदार को तीन और ब्यौहारी ठेकेदार को पांच नोटिस अब तक जारी किए हैं। बताया गया है कि अंतिम नोटिस अभी जनवरी महीने में जारी किया गया है।
अनुबंध होगा समाप्त
शहडोल और बुढ़ार प्रयोगशालाओं का निर्माण लगभग पूरा हो चुका है, ब्यौहारी का अभी अधूरा है। ठेकेदार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया है। अब अनुबंध समाप्त करने की तैयारी की जा रही है।
एचएस धुर्वे
कार्यपालन यंत्री
पीएचई

Show More
lavkush tiwari Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned