ट्रेन के लम्बे सफर में मजदूरों को महज शहडोल में मिलती है राहत

अब तक सात ट्रेनों के 11 हजार मजदूरों को दिया गया भोजन व पानी, शहडोल से गुजरने वाली तीन श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में सेवादारों ने की भोजन, नाश्ता व पानी की व्यवस्था

By: brijesh sirmour

Published: 23 May 2020, 08:14 PM IST

शहडोल. संभागीय मुख्यालय से कोविड-19 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के गुजरने का सिलसिला जारी है। इसी कड़ी में मंगलवार को मुख्यालय के रेलवे स्टेशन में तीन श्रमिक स्पेशल ट्रेनो का ठहराव दिया गया। जिसमें नगर के कई सेवादारों ने ट्रेन में सवार मजदूरों के लिए भोजन, नाश्ता व पानी की व्यवस्था की। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष ध्यान रखा गया। मंगलवार को सबसे पहले शाम करीब पौने पांच बजे सूबेदारगंज से दुर्ग जाने वाली श्रमिक स्पेशल टे्रन आई। जिसमें 1800 श्रमिक सवार थे। यह ट्रेन एक दिन पहले सूबेदार से रवाना हुई थी और मजदूरों को रास्ते में कहीं भी भोजन की व्यवस्था नहीं हुई और शहडोल पहुंचने पर उन्हे कुछ राहत मिली। इसके अलावा मेहसाणा से चांपा जाने वाली टे्रन रात में 19.57 बजे आई। जिसमें 1600 मजदूर सवार थे। रात 20.07 बजे नागलपल्ली से रीवा जाने वाली श्रमिक स्पेशल ट्रेन प्लेटफार्म नम्बर तीन पर आई। इन ट्रेनों में भी मजदूरों के लिए भोजन, नाश्ता व पानी की व्यवस्था कराई गई। इस कार्य में रोटरी क्लब, सांझा चूल्हा और सांझी रसोई की टीम ने अपनी सक्रिय भूमिका निभाई। इसके अलावा हीरो गुप्ता ऑटोमोबाइल के राजेश गुप्ता, समीर यादव, मुकेश जेठानी, सुशील सिंघल, विकास सिंह और उनके मित्र मंडली, राहुल सिंह व उनके सहयोगी भी काफी सक्रिय रहे।
सामग्रियों के वितरण में यात्रियों की दी समझाइश
रेलवे स्टेशन में मंगलवार को आई तीन श्रमिक ट्रेनों में मजदूरों को सामग्री वितरण कराने में जीआरपी के थाना प्रभारी एलपी कश्यप व आरपीएफ के थाना प्रभारी एचएल सिंह, केके दुबे और उनका पूरे स्टाफ ने सक्रिय भूमिका का निर्वहन किया। इसके अलावा रेलवे विभाग के क्षेत्रीय रेल प्रबंधक प्रभात कुमार, मुख्य स्टेशन प्रबंधक केडी गुप्ता, सीटीआई एके मोहंती, मुख्य स्वास्थ्य निरीक्षक केडी मिश्रा, वाणिज्यिक निरीक्षक प्रकाश साहू सहित अन्य कई अधिकारी भी सक्रिय भी रहे।

brijesh sirmour Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned