शाहजहांपुर में आसाराम यौन पीड़िता के घर पूरे दिन रही गहमागहमी

 

कोर्ट का फैसला आने के बाद सबने संतोष की सांस ली। बड़ी बात यह है कि कोर्ट के फैसले के बाद कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई।

By: Bhanu Pratap

Published: 25 Apr 2018, 06:26 PM IST

Shahjahanpur, Uttar Pradesh, India

शाहजहाँपुर। आसाराम यौन शोषण मामले में राजस्थान के जोधपुर कोर्ट ने आसाराम को पहले दोषी ठहराया। उसके कुछ देर बाद कोर्ट ने आसाराम को उम्रकैद की सजा सुना दी। आज फैसला आने का दिन था। पीङिता शाहजहाँपुर की रहने वाली है। इसके चलते शाहजहांपुर में सुबह से ही गहमागहमी रही। सबकी निगाह कोर्ट की ओर लगी हुई थी। कोर्ट का फैसला आने के बाद सबने संतोष की सांस ली। बड़ी बात यह है कि कोर्ट के फैसले के बाद कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई। शांति रही।

मीडिया का जमावड़ा

पीङिता के घर के बाहर कड़ी सुरक्षा रही। सुबह आठ बजे से ही सुरक्षाकर्मी गेट से बाहर निकल आए। उसके बाद धीरे-धीरे मीडिया का जमावड़ा होने लगा। धीरे धीरे न्यूज चैनलों की ओवी वैन भी घर के बाहर आने लगी। दिलचस्प बात यह है कि पीङिता के घर के आसपास रहने वाले लोग न्यूज चैनलों की ओवी वैन को निहारते रहे। मीडियाकर्मी सुबह से ही पीङिता के परिवार से बात करने की कोशिश करता रहा, लेकिन पीङिता के पिता घर के बाहर नहीं आए। साथ ही आसपास के लोग मीडियाकर्मियों से पूछते नजर आए कि क्या फैसला आया। ही जब फैसले आया और कोर्ट ने आसाराम को दोषी ठहराया तो उसके दस मिनट बाद पीङिता के पिता सुरक्षा घेरे में गेट से बाहर निकले और मीडियाकर्मियों से बात की। उस वक्त उनकी खुशी थी कि उनकी साढे चार साल की मेहनत रंग लाई। पीङिता के पिता ने सिर्फ पांच मिनट तक मीडिया से बात की और उसके बाद वह घर के अंदर चले गए। मीडियाकर्मी सवाल करते रहे गए।

सुरक्षा घेरा बरकरार
आसाराम को दोषी ठहराए जाने के बाद प्रतिक्रिया देने के बाद पीङिता के पिता घर के अंदर चल गए। उसके बाद फिर मीडियाकर्मियों ने कई घंटे गेट के बाहर बैठकर पीङिता के पिता का इंतजार किया। पीङिता के पिता सजा होने के बाद ही मीडियाकर्मियों से बात करना चाहते थे। जब कोर्ट ने आसाराम को उम्रकैद का फैसला सुनाया तो अचानक गेट खुला। लगा कि पीङिता के पिता बाहर आ रह हैं। घर में बैठे पुलिस क्षेत्राधिकारी सिटी सुमित शुक्ला, इंस्पेक्टर कोतवाली अशोक सोलंकी और एलआईयू इंस्पेक्टर घर के बाहर आए। सीओ ने कहा कि पीङिता के पिता परेशान हैं। थोड़ा ररुककर बात करेंगे। उसके बाद करीब बीस मिनट तक मीडियाकर्मी गेट के पास खङे रहे। कुछ देर बाद गेट खुला और पीङिता के पिता ने गेट के अंदर खङे होकर ही मीडिया से बात की। खुशी जाहिर करके गेट बंद कर लिया। अभी सुरक्षा का घेरा बरकरार है। जब तक सबकुछ सामान्य नहीं हो जाता है, तब तक सुरक्षा जारी रहेगी।

 

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned