शाहजहांपुर। प्रदेश में नगर निकाय चुनाव का बिगुल बजते ही दावेदारों ने शाहजहांपुर नगर पालिका के अध्यक्ष पद के लिए ताल ठोक दी है। लेकिन इस नगर पालिका का जो हाल ढाई तीन दशक पहले था, वही हाल आज भी है। सड़कों पर लगे कूड़े के ढेर, बजबजाती नालियां इस नगर पालिका की पहचान बन चुकी हैं।


राजनीतिक रंजिश बनी विकास का रोड़ा
नगर पालिका शाहजहांपुर में विकास के लिए हमेशा ही विधायक व नगर पालिका अध्यक्ष की राजनीतिक रंजिश रोड़ा बनती रही। जिसका खामियाजा सीधे तौर पर शहरवासियों को भुगतना पड़ रहा है। बता दें कि शहर विधानसभा पर पिछले लगभग तीन दशक से भाजपा का कब्जा है। यहां से भाजपा विधायक सुरेश खन्ना इस बार योगी सरकार में नगर विकास मंत्री भी है। वहीं नगर पालिका पर पिछले तीन चुनावों से सपा नेता तनवीर खान बरकरार है। सुरेश खन्ना और तनवीर खान के बीच हमेशा राजनैतिक रंजिश रही है।


शहर पर गंदगी का बदनुमा दाग
शाहजहांपुर शहर के लोग आजादी के सात दशक बाद आज भी अच्छी सड़कों पर चलने और साफ-सफाई में रहने को मोहताज है। शहर में जगह जगह कूड़े के ढेर, नालियों से सड़कों पर बहता गंदा पानी, इस शहर की सबसे पहचान बन चुका है। अतिक्रमण भी शहर की प्रमुख समस्या है।


पायजामा उठाकर चलना पड़ा
हाल ही में नगर विकास मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने शहर के कई इलाकों का जायजा लिया। गंदगी का आलम यह था कि नगर विकास मंत्री को अपने ही शहर में कीचड़ से बचने के लिेए पायजामा उठाकर चलना पड़ा। इस दौरान उन्होंने फावड़ा लेकर नालियों को भी साफ किया और सफाई कर्मियों को सख्त निर्देश दिेए थे। अब इसी गंदगी को मुद्दा बनाकर एक बार फिर निकाय चुनाव की तैयारियों शुरू हो गई हैं।

 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned