अंबेडकर की प्रतिमा को लेकर दो पक्षों में विवाद, गांव में पुलिस फोर्स तैनात

अंबेडकर की प्रतिमा को लेकर दो पक्षों में विवाद, गांव में पुलिस फोर्स तैनात

Mukesh Kumar | Publish: Jan, 13 2018 07:29:35 PM (IST) Shahjahanpur, Uttar Pradesh, India

ग्रामीणों का कहना है कि अगर वक्त रहते विवाद का हल नहीं निकाला तो बहादुरपुर गांव में सहारनपुर जैसे हालात पैदा हो सकते हैं।

शाहजहांपुर। थाना निगोही क्षेत्र के बहादुरपुर गांव में अंबेडकर की प्रतिमा हटाने को लेकर दो जातियों के लोग आमने-सामने आ गए। सूचना मिलते ही पुलिस फोर्स के साथ आला अफसर मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने लाठी फटकारते हुए लोगों को खदेड़ा। दलित समाज के लोगों ने पुलिस व प्रशासन पर भी अंबडेकर की प्रतिमा का अपमान करने का आरोप लगाया है।

ग्रामसभा की जमीन पर लगाई प्रतिमा
जानकारी के मुताबिक बहादुरपुर गांव के रहने वाले खुशीराम यादव और दलित रघुवीर जाटव के बीच ग्रामसभा की जमीन को लेकर विवाद चल रहा था। शनिवार को दलित समाज के लोगों ने विवादित जमीन पर अंबेडकर की प्रतिमा लगा दी। यादव बिरादरी ने इसका विरोध किया। देखते ही देखते दोनों बिरादरियों के लोग आमने-सामने आ गए। यह देख गांव वालों के हाथ-पांव फूल गए। सूचना मिलते ही मौके पर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी पहुंचे गए। पुलिस ने लाठी फटकारते हुए लोगों को खदेड़ दिया। इस दौरान पुलिस की गांव को लोगों से तीखी झड़पें हुईं। जिसके बाद अधिकारियों की मौजूदगी में पुलिस ने अंबेडकर की प्रतिमा को विवादित जमीन से हटा दिया।

पुलिस और प्रशासन पर आरोप
दलित समाज के सुरेश कुमार गौतम का कहना है कि अंबेडकर की प्रतिमा हटाने के दौरान पुलिस ने उसे जमीन पर गिरा दिया और उसका अपमान किया है। इसी बात से नाराज तमाम लोगों ने कलेक्ट्रेट पहुंच कर हंगामा किया। साथ ही मामले में जांच कर कार्रवाई करने की मांग की। वहीं ग्रामीणों का कहना है कि अगर पुलिस और प्रशासन ने वक्त रहते इस विवाद का हल नहीं निकाला तो बहादुरपुर गांव में सहारनपुर जैसे हालात पैदा हो सकते हैं।

विवाद सुलझाने का प्रयास जारी
सिटी मजिस्ट्रेट विनय प्रकाश श्रीवास्तव का कहना है कि दोनों पक्षों के साथ बैठकर मामले को शांत करने का प्रयास किया जा रहा है। फिलहाल हालत को देखते हुए गांव में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। प्रशासन पूरे मामले पर नजर बनाए हुए हैं।

Ad Block is Banned