यही है पीने का पानी, जिसमें तैर रही गंदगी...

Lalit Saxena

Publish: Mar, 14 2018 07:29:30 PM (IST)

Shajapur, Madhya Pradesh, India
यही है पीने का पानी, जिसमें तैर रही गंदगी...

घरों में सप्लाई होने वाला गंदा और बदबूदार पानी पीने को मजबूर हैं शहरवासी, नदी को स्वच्छ रखने के नहीं कोई उपाय।

शाजापुर। सड़ांध मारता बदबूदार पानी पीने को मजबूर हैं शहरवासी। इस पानी को पीकर घर-घर लोग बीमार पड़े हैं। नहर और नदी के माध्यम से वाटर वक्र्स तक और फिर यही पानी लोगों के घरों तक सप्लाई होता है। नगर पालिका के पास नदी को स्वच्छ रखने के कोई इंतजाम नहीं हैं।

मुख्य जल स्तोत्र है चीलर बांध
शहर का मुख्य जल स्तोत्र चीलर बांध है। चीलर बांध में स्वच्छ पानी भरा हुआ है, लेकिन पानी नहर और नदी के माध्यम से वाटर वक्र्स तक पहुंचता है। वाटर वक्र्स तक पहुंचते-पहुंचते यह पानी मटमेला, गंदा व बदबूदार हो जाता है। लोग नहर और नदी में कपड़े धोने, मवेशियों को नहलाने सहित अन्य कार्य करते हैं, जिससे पानी गंदा हो गया है। यही पानी वाटर वक्र्स तक पहुंचता है, जिसे फिल्टर कर शहर में सप्लाई किया जाता है। लेकिन नगर पालिका द्वारा पानी को स्वच्छ रखने के कोई इंतजाम नहीं किए गए हैं।

मामला गर्माता जा रहा है

शहर में गंदा व बदबूदार पानी सप्लाई करने का मामला गर्माता जा रहा है। पत्रिका में नपा के गंदे पानी को एक्सपोज करने के बाद नगरपालिका की बैठक में भी यह मुद्दा छाया रहा। आम आदमी पार्टी भी गंदे व काई वाले पानी को लेकर सड़क पर उतर गई और प्रदर्शन किया। मंगलवार को वाटर वक्र्स के पास नदी में मरा मिला। इसका पानी वाटर वक्र्स तक पहुंच रहा था। इसी नदी के पानी को वाटर वक्र्स में फिल्टर कर शहर में प्रदाय किया जाता है।

नदी का पानी वाटर वक्र्स में
जिस नदी का पानी वाटर वक्र्स में फिल्टर कर शहर में प्रदाय किया जाता है, मंगलवार को वहां मरा मिला। नदी किनारे पड़े मृत की फोटो जैसे ही सोशल मीडिया पर वायरल हुई नपा का विरोध शुरू हो गया। दोपहर से देर रात तक शहर भर में फोटो को लेकर कमेंट्स चलती रही। शहरवासी पहले ही गंदे पानी से परेशान हैं। ऐसे में मृत की फोटो वायरल होने से परेशानी बढ़ गई। शहर में प्रदाय किए जाने वाले पानी में सप्लाई के एक घंटे बाद ही काई जम जाती है, साथ ही पीने में कड़वा लगता है। ये स्थिति लगातार एक-डेढ़ माह से बनी हुई। इससे शहरवासी खासे परेशान है। जलप्रदाय के बाद शहरवासियों को पानी शुद्ध करने के लिए फिटकरी डालकर पानी साफ करना पड़ता है।

नहीं सुधरी व्यवस्था तो करेंगे आंदोलन
भाजपा नगर अध्यक्ष शीतल भावसार ने परिषद पर आरोप लगाते हुए कहा शहर के अधिकांश वार्डों में गंदा व बदबूदार पानी आ रहा है। इससे जनता के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल असर पड़ रहा है। नलों में पानी का प्रेशर भी पर्याप्त नहीं आ रहा है। अधिकांश वार्डों में जल वितरण 5 से 8 घंटे देरी से हो रहा है। उन्होंने कहा नपा के जिम्मेदारों को जनता की तकलीफ से सरोकार नहीं है। भावसार ने नपा को चेतावनी देते हुए बताया अगर नपा ने सुधार नहीं किया गया तो भाजपा नगर मंडल एवं भाजपा नपा उपाध्यक्ष मनोहर विश्वकर्मा व नेता प्रतिपक्ष राजेश तोमर के नेतृत्व में आंदोलन करेंगे।

पत्रिका ने उठाया था मुद्दा
शहर में गंदे और काई जमने वाले पानी का मुद्दा पत्रिका द्वारा उठा गया था। ८ मार्च के अंक में पत्रिका ने 'काई व कड़वे पानी से शहरवासी परेशान, स्वच्छ पानी देने में नगर पालिका नाकामÓ शीर्षक से खबर प्रकाशित की थी। इसमें बताया था कि किस तरह का पानी शहरवासियों को नपा द्वारा पानी प्रदाय किया जा रहा है।

आप ने मांगा नपाध्यक्ष का इस्तीफा
परिषद बैठक में भी गंदे पानी का मामला उठा था। सांसद प्रतिनिधि मनोज शिवहरे प्रदाय किए जाने वाला पानी लेकर नपा पहुंचे थे और विरोध दर्ज कराया था। मंगलवार को आम आदमी पार्टी ने बस स्टैंड पर प्रदर्शन कर प्रदाय किए जाने वाले गंदे पानी का विरोध दर्ज कराया। नपा का विरोध किया। संयोजक विवेक शर्मा ने बताया नपा लगातार शहर में गंदा पानी सप्लाई कर रही है। नपाध्यक्ष से इस्तीफे की मांग भी की। उन्होंने कहा चीलर नदी में एक मरा पड़ा है, इस प्रकार के पानी का प्रदाय करने से अच्छा है कि नपाध्यक्ष शहर की जिम्मेदारी छोड़ अपने पद से इस्तीफा दे दें। कार्यकर्ताओं ने तख्तियों पर गंदे पानी को लेकर नारे लिखकर और प्रदाय किए जाने वाला पानी लेकर प्रदर्शन किया।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned