परीक्षा के दौरान छात्रों ने लैब का किया ऐसा इस्तेमाल

नवीन कॉलेज में अलग-अलग तीन पालियों में परीक्षा, करीब 2900 परीक्षार्थियों ने परीक्षा दी

By: Lalit Saxena

Published: 02 Mar 2019, 09:15 AM IST

शाजापुर. नवीन कॉलेज में शुक्रवार से वार्षिक परीक्षा प्रणाली के तहत परीक्षाओं की शुरुआत हो गई। सुबह 7-10 बजे तक, 11 से दोपहर 2 बजे और दोपहर 3 से शाम 6 बजे तक अलग-अलग तीन पालियों में परीक्षा। इन तीनों पालियों में मिलाकर करीब 2900 परीक्षार्थियों ने परीक्षा दी। सबसे अंतिम पाली दोपहर 3 से शाम 6 बजे में करीब 1600 परीक्षार्थी शामिल हुए। ऐसें में कॉलेज के सभी कक्षों के अतिरिक्त लैब में भी रोल नंबर डालकर परीक्षार्थियों को बैठाकर परीक्षा ली गई।
इधर वार्षिक परीक्षा प्रणाली में पहली बार परीक्षर्थियों को उत्तर पुस्तिका पर लगे प्रथम पृष्ठ पर संपूर्ण जानकारी भरना पड़ी। जो किसी प्रतियोगी परीक्षा की तरह ओएमआर शीट की तरह थी। इसमें परीक्षार्थियों को खासी परेशानी का भी सामना करना पड़ा। इसमें 1 से 11 तक के कॉलम की पूर्ति विद्यार्थियों ने की।
इसके लिए बॉल पाइंट पेन का प्रयोग करना अनिवार्य था। 40 पृष्ठ की उत्तर पुस्तिका में परीक्षार्थियों को अपने प्रश्नों के उत्तर लिखना पड़े। क्योंकि विवि ने पूरक उत्तर पुस्तिका की व्यवस्था को समाप्त कर दिया है।
संस्कृत के साथ बोर्ड परीक्षाएं हुईं आरंभ
आगर-मालवा. माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा आयोजित की जाने वाली बोर्ड परीक्षा की शुरुआत शुक्रवार से हुई। पहले दिन कक्षा १०वीं की संस्कृत परीक्षा का आयोजन हुआ। पहला प्रश्न पत्र संस्कृत विषय का रहा। परीक्षा के लिए जिले में ३२ परीक्षा केन्द्र बनाए गए। प्रथम दिन कुल दर्ज ७ हजार ७१८ परीक्षार्थियों में से ७ हजार १७७ परीक्षार्थियों ने भाग लिया ५०५ अनुपस्थित रहे। नकल रोकने के लिए जिला अधिकारियों का दल सतत् निगरानी करता रहा।

सुसनेर. शुक्रवार से माध्यमिक शिक्षा मंडल की बोर्ड परीक्षाओं का श्रीगणेश हो गया है। पहले दिन छात्रों ने विकासखंड के 9 परीक्षा केंद्रों पर सुबह 9 से 12 बजे की पाली में सामान्य उर्दू व संस्कृत का पेपर हल किया। सभी जगह पर पुलिस का पहरा रहा तो केंद्राध्यक्ष व सहायक केंद्राध्यक्ष भी चौकन्न रहे। केंद्रों पर परीक्षा सीसीटीवी कैमरों के साये में हुई। केंद्रों पर विभाग के निर्देशानुसार कक्षों में घडिय़ां नहीं लगी थीं तो पीने का पानी छात्रों की टेबल पर ही पहुंचाया गया। परीक्षा में किसी भी प्रकार से विद्यार्थी नकल न कर सकें, इसलिए परीक्षार्थियों के पदवेश भी कक्षों के बाहर ही खुलवाए गए थे। अब 2 मार्च शनिवार से 12वीं के हिंदी के पहले पेपर से परीक्षा का शुभारंभ करेंगे।

Lalit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned