अधिकारियों के इंतजार में 30 घंटे कमरे में पड़ी रही लाश

अधिकारियों के इंतजार में 30 घंटे कमरे में पड़ी रही लाश

Lalit Saxena | Publish: Apr, 17 2018 12:08:35 PM (IST) | Updated: Apr, 17 2018 12:19:43 PM (IST) Shajapur, Madhya Pradesh, India

पुलिस ने कमरे को सीलकर सूचना वरिष्ठों को दी। मामले में मायके वालों ने ससुराल पक्ष पर हत्या का आरोप लगाया है।

शाजापुर. जिला मुख्यालय से 30 किमी दूर सुंदरसी में एक विवाहिता की संदिग्ध परिस्थिति में मौत हो गई। पुलिस के मौके पर पहुंचने से पहले ही परिजनों ने शव दूसरे कमरे में रख दिया। पुलिस ने कमरे को सीलकर सूचना वरिष्ठों को दी। मामले में मायके वालों ने ससुराल पक्ष पर हत्या का आरोप लगाया है।

राजगढ़ जिले के सिलक्टीभाई निवासी ऋतु पिता मनोहरसिंह का विवाह 29 अप्रैल 2017 को सुंदरसी निवासी वीरेंद्रसिंह हुआ था। मनोहरसिंह ने बताया शादी के बाद से ही ऋतु कई बार फोन कर सास द्वारा परेशान करने की बात कहती थी। दो-तीन दिन पहले भी मां को कहा था सास परेशान कर रही है। मनोहरसिंह ने बताया रविवार शाम 6 बजे ऋतु के ससुराल पक्ष के कुछ लोग सीधे गांव आए और कहा बेटी की तबीयत खराब है। इस पर दो लोग सुंदरसी जाने के लिए गाड़ी में बैठ गए। मनोहरसिंह के बताया आधा रास्ता तय करने के बाद बताया बेटी ने फांसी लगा ली है। इसके बाद रात 11 बजे वे लोग सुंदरसी पहुंचे। यहां देखा तो बेटी का शव दूसरे कमरे में रखा था। सूचना उन्होंने परिजनों को दी। सोमवार सुबह 11 बजे जब अन्य परिजन अए तब मनोहरसिंह सुंदरसी थाने पहुंचे और मामले की जानकारी दी। पुलिस मौके पर पहुंची और शव वाले कमरे को सील कर दिया।

30 घंटे बाद पीएम
मनोहरसिंह के अनुसार बेटी की मौत रविवार दोपहर में ही हो गई थी। इसके बाद सोमवार को जब पुलिस को सूचना दी तो उन्होंने यह कहकर कमरा सील कर दिया कि अभी वरिष्ठ अधिकारी सीएम के कार्यक्रम में व्यस्त हैं। वहां से लौटने के बाद पीएम कराया जाएगा। ऐसे में अधिकारियों के यहां पहुंचकर पंचायतनामा कार्रवाई करने के बाद शाम ६ बजे शव को पीएम के लिए जिला अस्पताल पहुंचाया।

कवरेज करने गए मीडियाकर्मियों को पीटा
घटना की जानकारी मिलने पर गुलाना से सुनील बोयल व राकेश सौराष्ट्रीय सुंदरसी कवरेज करने के लिए पहुंचे। जब ये लोग मृतका के घर पहुंचे तो वहां पर जिला एफएसएल अधिकारी डॉ. आरसी भाटी, नायब तहसीलदार जीएल राजोरिया, सुंदरसी टीआई आजादसिंह चौधरी कागजी कार्रवाई कर रहे थे। सुनील व राकेश ने घटनास्थल के फोटो और वीडियो बनाए। इसके बाद ये दोनों घर से बाहर निकलकर जाने लगे। सुनील ने बताया घर से कुछ कदम दूर ही उन्हें भाजपा मंडल अध्यक्ष का वाहन दिखा। उन्होंने जब वाहन के फोटो खींचे तो वाहन के ड्राइवर ने हुज्जत की। तभी यहां करीब दो दर्जन लोगों ने आकर हमला कर दिया। इस दौरान सुनील और राकेश के साथ मुक्के, पत्थर और लोहे की राड से मारपीट की गई। दोनों के पास से कैमरा, मोबाइल छीनकर तोड़ दिए। साथ ही बाइक में भी तोडफ़ोड़ की। सूचना मिलने पर सुंदरसी पुलिस का आरक्षक सहित कुछ अन्य लोग मौके पर पहुंचे और दोनों को भीड़ से बचाया। इसके बाद दोनों को सुंदरसी अस्पताल में भर्ती कराया गया। समाचार लिखे जाने तक पुलिस ने विवाहिता की संदिग्ध हालत में मौत पर मर्ग कायम कर जांच शुरू कर दी। मारपीट में घायल हुए सुनील और राकेश के बयान दर्ज किए जा रहे थे। मीडियाकर्मियों के साथ मारपीट की सूचना मिलने पर एसपी शैलेंद्रसिंह चौहान ने एसडीओपी को भी मौके पर जांच के लिए भेज दिया।

जांच कर रहे हैं
विवाहिता की मौत की सूचना सुबह मिली। वरिष्ठों को सूचित कर दिया। मुख्यमंत्री के कार्यक्रम में व्यस्तता के चलते अधिकारियों को यहां पहुंचने में देर हो गई। इसके बाद पंचायतनामा बनाकर शव को पीएम के लिए भेज दिया। कवरेज करने पहुंचे दो मीडियाकर्मी कमरे से बाहर निकल गए थे, जबकि हम अंदर ही कार्रवाई कर रहे थे। बाद में पता लगा कि उनके साथ मारपीट हुई है और उनका कैमरा आदि भी तोड़ दिया है। घटनास्थल पर जाकर देखा तो वहां कैमरा या कुछ नहीं मिला। घायलों के बयान दर्ज किए जा रहे हैं। इसके आधार पर आगामी कार्रवाई होगी।
- आजादसिंह चौधरी, टीआई-सुंदरसी

Ad Block is Banned