श्मशान की राह पर लापरवाही की रोड़े

अंतिम यात्रा में लोगों को हो रही परेशानी, श्मशान घाट मार्ग तक पहुंचना मुश्किल

By: Lalit Saxena

Published: 24 Jul 2018, 07:45 AM IST

अरन्याकलां/शुजालपुर. आजादी के बाद कितना विकास हुआ इसका उदाहरण कालापीपल विकासखंड के ग्राम अरनियाकलां के अंतर्गत आने वाले गोरधनिया गांव में देखने को मिलता है। बारिश के दिनों में यहां यदि किसी के घर मौत हो जाए तो मृतक की व परिजनों की फजीहत हो जाती है।
कारण गांव से लेकर श्मशान घाट तक पहुंच मार्ग की हालत बहुत खराब है। शव को अंतिम संस्कार के लिए घाट तक ले जाने के लिए परेशानी का सामना करना पड़ता है। मार्ग को बनवाने के लिए ग्रामीणों ने अनेक बार पंचायत में आवेदन दिया लेकिन समस्या जस की तस है। ग्रामीण अनिल सूर्यवंशी ने बताया अनेक बार पंचायत को समस्या से अवगत कराया लेकिन किसी ने भी इस ओर ध्यान नहीं दिया। सिर्फ चुनाव के समय ही जनप्रतिनिधि वोट मांगने आते हैं और जीतने के बाद नहीं आते। बारिश में शव श्मशान घाट तक ले जाने के लिए काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।
ग्रामीणों ने नाराजगी जताते हुए कहा अगर मांगों को पूरा नहीं किया तो आने वाले चुनावों का बहिष्कार करेंगे। सरंपच दुर्गा प्रसाद सोनानिया का कहना है कि ग्रामीणों की समस्या को ध्यान में रख कर इस मार्ग को बनाने के लिए उचित कदम उठाया जाएगा।
खरपतवार नाशक से 30 बीघा की फसल नष्ट
मक्सी. ग्राम सामगी बोर्डी में खरपतवारनाशक का छिड़काव करने से 3 किसानों के सोयाबीन फसल नष्ट हो गई। खरपतवार नाशक चारा आदि को नष्ट करने के लिए किसानों पने दवाई का छिड़काव किया था। किसान भेरूसिह ने बताया कि मैंने गॉड क्रिस्टल कंपनी की दवाई का 15 बीघा में छिड़काव किया था। खरपतवार के साथ ही सोयाबीन की फसल भी सूख कर नष्ट हो गई। रतनसिंह एवं एक अन्य किसान के भी कीटनाशक का छिड़काव किया था। इससे उनकी भी फसल नष्ट हो गई। भेरूसिंह ने बताया कि वकील के माध्यम से दवा कंपनी को नोटिस भिजवाया है। मक्सी टप्पा में भी आवेदन दिया है। इससे फसल का मुआवजा और बीमा मिल सके।

Lalit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned