scriptPatriotic slogan on the mouth and tearful eyes gathered to bid farewel | मुंह पर देशभक्ति का नारा और डबडबाई आंखों से शहीद को अंतिम विदाई देने उमड़ा जनसैलाब | Patrika News

मुंह पर देशभक्ति का नारा और डबडबाई आंखों से शहीद को अंतिम विदाई देने उमड़ा जनसैलाब

विशाखापट्टनम में सडक़ हादसे में शहीद हुए अरनियाकलां के लाल नौसेना के जवान मनोज वर्मा का गृह ग्राम में हुआ अंतिम संस्कार

शाजापुर

Updated: December 31, 2021 11:05:06 pm

शाजापुर.
विशाखापट्टनम में सडक़ हादसे में शहीद हुए शाजापुर के अरनियाकलां के लाल मनोज वर्मा की पार्थिव देह सैन्य वाहन से जैसे ही गांव की सीमा में दाखिल हुई, तो भारत माता की जय और मनोज वर्मा अमर रहे के जयकारे गूंज उठे। देशभक्ति गीतों के साथ पूरे मार्ग पर पुष्पवर्षा कर शहीद को अंतिम विदाई दी गई। गृह ग्राम अरनियाकलां में राजकीय एवं सैन्य सम्मान के साथ छोटे भाई मनीष ने शहीद को मुखाग्नि दी। मनोज को अंतिम विदाई देने के लिए हजारों की संख्या में लोग पहुंचे। वहीं अपने लाल के अंतिम दर्शन के लिए लोग घर की छतों पर भी चढ़ गए। भावुक मंजर देख सभी की आंखें छलक पड़ीं।

Patriotic slogan on the mouth and tearful eyes gathered to bid farewell to the martyr
अरनियाकलां। शहीद के पिता को शहीद मनोज वर्मा की कैप और तिरंगा देते नौसेना के अधिकारी

गौरतलब है कि छह दिन पहले मनोज वर्मा विशाखापट्टनम के पहाड़ी क्षेत्र में एक सडक़ हादसे में घायल हो गए थे। उनका विशाखापट्टनम में ही नौसेना अस्पताल में इलाज चल रहा था। मंगलवार देर रात उन्होंने आखिरी सांस ली। शहीद मनोज वर्मा का पार्थिव शरीर तय समय पर विशाखापट्टनम से भोपाल पहुंच गया था। यहां पार्थिव शरीर को मिलेट्री अस्पताल में रखवाया गया। बलिदानी मनोज की पत्नी व स्वजन अरनियाकलां आने के लिए विशाखापट्टनम से हैदराबाद पहुंचे थे। यहां से उन्हें भोपाल के लिए प्लेन में सवार होना था, लेकिन मनोज की पत्नी का स्वास्थ्य ठीक नहीं होने के कारण उन्हें प्लेन में सवार होने की अनुमति नहीं मिली। इससे शहीद का शव गुरुवार को गांव नहीं लाया गया और पत्नी व स्वजन के शुक्रवार को गांव पहुंचने पर अंतिम संस्कार करने का फैसला लिया गया। शुक्रवार सुबह 11 बजे शहीद मनोज वर्मा की पार्थिव देह आर्मी के ट्रक से भोपाल से आष्टा के रास्ते अरनियाकलां लाई गई। शहीद को अंतिम विदाई देने के लिए लोग सुबह से ही गांव से 1 किलोमीटर पहले खड़े थे। डीजे, बैंड और नगाड़ों के साथ शहीद की अंतिम विदाई का जुलूस निकाला गया। करीब 11.30 बजे शहीद का पार्थिव शरीर उनके घर पहुंचा। जहां परिवार वालों ने शहीद के अंतिम दर्शन किए। यहां से बस स्टैंड होते हुए अंतिम यात्रा रैली हाट बाजार के समीप श्मशान घाट पर पहुंची। रास्ते में हर नुक्कड़ व चौराहे पर ग्रामीणों ने पुष्पवर्षा कर के शहीद का स्वागत किया। शहीद की अंतिम संस्कार रैली में हजारों की संख्या में लोग श्रद्धांजलि देने पहुंचे। श्मशान घाट पर नेवी प्रोटोकॉल तथा हिंदू रिवाजों के द्वारा शहीद का अंतिम संस्कार किया गया। शहीद को उनके छोटे भाई मनीष वर्मा ने मुखाग्नि दी।

रो-रोकर बेहोश हो गई पत्नी
मनोज की देह को देखते ही पत्नी वर्षा चीख पड़ी। रोते-रोते वह बेहोश हो गई। उसे परिजन ढांढस बांध रहे थे। शहीद जवान का एक चार साल का बेटा अथर्व वर्मा मासूम निगाहों से पिता को खोज रहा था। मनोज का अंतिम संस्कार गृह गांव अरनियाकलां के श्मशान घाट में सैनिक सम्मान के साथ किया गया। मातमी धुन के बाद जवानों ने वर्मा को अंतिम सलामी दी। बता दें मनोज वर्मा ने कालापीपल के एक निजी स्कूल से प्रारंभिक शिक्षा ग्रहण की थी। उसके बाद इंदौर के होलकर कॉलेज से उच्च शिक्षा ग्रहण की। मनोज का भारतीय नौसेना में एलएमई लीडिंग मैकेनिकल इंजीनियर के पद पर चयन हुआ था। वर्तमान में वह विशाखापट्टनम में पदस्थ थे।

शहीद का स्मारक बनेगा
कालापीपल विधायक कुणाल चौधरी ने सैनिक मनोज वर्मा की स्मृति में 5 लाख रुपए विधायक निधि से देने की घोषणा की। इस निधि से अरनियाकलां में शहीद का स्मारक बनाया जाएगा। स्कूल शिक्षा मंत्री इंदरसिंह परमार ने मनोज वर्मा को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि जो राष्ट्र के लिए अपने प्राणों की आहुति देता है, वह कभी मरता नहीं है। हमारे समाज में, हमारे देश में वह सदैव जिंदा रहता है। श्रद्धांजलि सभा में देवास-शाजापुर लोकसभा क्षेत्र सांसद महेंद्रसिंह सोलंकी, पूर्व विधायक बाबूलाल वर्मा, पूर्व विधायक फूलसिंह मेवाड़ा, पूर्व विधायक आगर लालजीराम मालवीय, घनश्याम पटेल भाजपा किसान मोर्चा प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य, धनसिंह जाट भाजपा किसान मोर्चा जिला मंत्री, सुनील देथल भाजपा जिला उपाध्यक्ष, भंवरलाल पंवार मंडल अध्यक्ष अरनियाकलां, दिग्विजय सिंह बेस, करण अंकल भाजपा नगर अध्यक्ष अरनियाकलां, कमल चंद्रवंशी पूर्व सरपंच, दुर्गाप्रसाद सोनानिया ग्राम प्रधान सहित अन्य गणमान्यजन व क्षेत्र के हजारों लोग शामिल रहे।

गांव में गमगीन माहौल
मनोज के निधन से गांव में गमगीन माहौल है. हालात यह है कि जब से निधन की खबर मिली है। गांव में सन्नाटा पसरा हुआ है. हर कोई वर्मा परिवार के दुख में शामिल है। गांव के लोग हर समय मनोज के पिता और रिश्तेदारों के साथ मौजूद रहे। अंतिम संस्कार की तैयारियों में भी गांव के लोग, रिटायर्ड फौजी व अन्य लोगों द्वारा मदद की। लोगों का कहना है कि मनोज भारत माता का बेटा था। वह देश की सेवा में तैनात रहते हुए बलिदानी हुआ है।

मुख्यमंत्री ने पिता को बंधाया ढांढस
पूर्व विधायक बाबूलाल वर्मा ने बलिदानी मनोज के घर पहुंचकर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान को फोन किया। वर्मा ने मुख्यमंत्री को घटना के संबंध में जानकारी देने के साथ ही बताया कि मनोज के पिता तुलसीराम वर्मा भी उनके साथ मौजूद हैं। इस पर मुख्यमंत्री ने तुलसीराम वर्मा से फोन पर चर्चा की। उन्होंने तुलसीराम को ढांढस बंधाया, कहा कि दुख की इस घड़ी में वह और पूरी सरकार उनके साथ हैं। मनोज ने देश सेवा करते हुए अपने प्राणों का आहुति दी है। सभी को उन पर गर्व है।
०००००००

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

India-Central Asia Summit: सुरक्षा और स्थिरता के लिए सहयोग जरूरी, भारत-मध्य एशिया समिट में बोले पीएम मोदीAir India : 69 साल बाद फिर TATA के हाथ में एयर इंडिया की कमानयूपी चुनाव से रीवा का बम टाइमर कनेक्शननागालैंड में AFSPA कानून को खत्म करने पर विचार कर रही केंद्र सरकारजिनके नाम से ही कांपते थे आतंकी, जानिए कौन थे शहीद बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रUP Election 2022: भाजपा सरकार ने नौजवानों को सिर्फ लाठीचार्ज और बेरोजगारी का अभिशाप दिया है: अखिलेश यादवतमिलनाडु सरकार का बड़ा फैसला, खत्म होगा नाईट कर्फ्यू और 1 फरवरी से खुलेंगे सभी स्कूल और कॉलेजपीएम नरेंद्र मोदी कल करेंगे नेशनल कैडेट कॉर्प्स की रैली को संभोधित, दिल्ली के करियप्पा ग्राउंड में होगा कार्यक्रम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.