जान का खतरा... यहां भी लगती है समय को लेकर अंधी रेस

जान का खतरा... यहां भी लगती है समय को लेकर अंधी रेस
shajapur highway

Shajapur Desk | Publish: Oct, 03 2016 11:58:00 PM (IST) Shajapur, Madhya Pradesh, India

भोपाल से लटेरी जा रही एक निजी यात्री बस रविवार को शमशबाद के समीप सांपन नदी में गिर गई थी। इस हादसे में बस में सवार 28  यात्रियों में से 10 की मौत हो गई थी। इस तरह का हादसा शाजापुर में भी हो सकता है।

शाजापुर. भोपाल से लटेरी जा रही एक निजी यात्री बस रविवार को शमशबाद के समीप सांपन नदी में गिर गई थी। इस हादसे में बस में सवार 28  यात्रियों में से 10 की मौत हो गई थी। इस तरह का हादसा शाजापुर में भी हो सकता है। ऐसा इसलिए कहना पड़ रहा है क्योंकि यहां पर भी समय को लेकर निजी बस संचालक अंधी रेस लगाते हुए निकलते हैं। जबकि जर्जर हाइवे की स्थिति किसी से भी छुपी नहीं है। अनेक बार हादसे भी हो चुके हैं, इसके बाद भी इसकी ओर कोई ध्यान नहीं देता है। 
गौरतलब है कि शाजापुर के मध्य से निकले राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक-3 पर इन दिनों जानलेवा गड्ढे हो गए हैं। इसके बाद भी निजी बस संचालक अपने समय पर ही यात्रियों को गंतव्य तक लाते-ले-जाते हैं। फिर चाहे बस में सवार यात्रियों की हालत पतली ही क्यों न हो जाए। बड़े-बड़े गड्ढों को नजर अंदाज कर बस चालक तेज रफ्तार से बस चलाते हैं। बस संचालकों का कहना है कि यदि समय पर नियत स्थान पर नहीं पहुंचे तो दूसरी बस का समय हो जाता है और उन्हें परेशानी होती है। हाइवे पर कई बार तेज रफ्तार और खराब सड़क के कारण यात्री बस दुर्घटनाग्रस्त हो चुकी है। कई बार हादसे इतने खतरनाक होते हैं कि जान-माल का भी नुकसान हो जाता है, लेकिन जिस तरह हाइवे पर बसों की रफ्तार रहती है उससे लगता नहीं कि बस चालक को हादसों से कोई फर्क पड़ता हो। 

समय के कारण आए दिन होते है विवाद
बस स्टैंड से दिनभर में शहरी और ग्रामीण रुटों पर करीब 150 से ज्यादा बसें संचालित होती है। आरटीओ से जारी परिमट के अनुसार कई बसों के समय में चंद मिनटों का ही अंतर रहता है। इस कारण से अनेक बस संचालक समय पर पहुंचने की जल्दी में जद्दोजहद रेस लगाते है। क्योंकि बस स्टैंड पर एक-दो मिनट की देरी में आए दिन बस संचालकों के बिच विवाद होते रहते है।

शहर में से निकले हाइवे पर जगह-जगह स्टॉपर लगाए गए है। जिससे वाहनों की रफ्तार कम हो जाए। आए दिन तेज रफ्तार से गुजरने वाले वाहनों को भी रोककर उनकी रफ्तार कम कराई जाती है। हाइवे की हालत सुधारने के लिए भी एनएचएआईको पत्र लिखा है। लगातार प्रयास जारी है कि किसी भी तरह का हादसा न हो। 
पीके व्यास, यातायात प्रभारी-शाजापुर

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned