video : पुलिस ने समझा बाइक चोर, ये निकले शातिर लुटेरे....

पुलिस इन्हें मामूली बाइक चोर समझी, लेकिन बाद में पूछताछ में पता चला कि ये शातिर लुटेरे हैं

By: Lalit Saxena

Published: 07 Jun 2018, 06:38 PM IST

शाजापुर। चोरों के हौसले बुलंद हैं। फिल्मी स्टाइल में बाइक चोरी की घटनाओं को अंजाम देने में भी वे नहीं हिचकिचा रहे। ऐसी ही एक घटना शाजापुर के समीप हुई। चोरों ने आगरा-मुंबई नेशनल हाईवे के समीप एक गांव में फिल्मी स्टाइल में बाइक चोरी करना चाही, लेकिन ऐनवक्त पर पुलिस ने दबोच लिया। पहले पुलिस इन्हें मामूली बाइक चोर समझी, लेकिन बाद में पूछताछ में पता चला कि ये शातिर लुटेरे हैं और इनके पास धारदार हथियार भी हैं।

कोतवाली पुलिस ने बुधवार को हाईवे पर ग्राम बरवाला के समीप फिल्मी स्टाइल में बाइक चोरी करके भाग रहे चोरों का पीछा करके उन्हें पकड़ लिया। इस मामले में बुधवार देर शाम तक पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की थी। पूछताछ के बाद गुरुवार को आरोपियों को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया गया। पुलिस ने पकड़ाए चोरों से बाइक भी बरामद की है।

ये हैं लुटेरे
मनीष कंजर, धनसिंह कंजर, देवेंद्र कंजर निवासी देवड़ा सुंदरसी जिला शाजापुर। पुलिस ने लूट व डकैती की साजिश करते हुए पकड़ा है। इनके पास चाकू व अन्य हथियार मिले हैं।


'तीसरी आंख' की मुस्तैदी से पुलिस के हत्थे चढ़ा महिला चोर गिरोह
आगर-मालवा. अपरिचित महिलाओं का कोई समूह एक साथ यदि दुकान पर खरीदी करने आए तो उस समय व्यापारी को सचेत हो जाना चाहिए। हो सकता है ग्राहक बनकर आईं ये महिलाएं दुकान में हाथ साफ कर जाएं। कुछ इसी प्रकार की स्थिति मंगलवार को शहर की एक कपड़ा दुकान पर निर्मित हुई। झालावाड़ जिले की कुछ महिलाएं गारमेंट्स दुकान पर कपड़े खरीदने के बहाने दुकानदार को बातों में उलझाती रही और इनके ही साथ वहां खड़ी अन्य महिलाएं धीरे-धीरे कपड़े गायब करती रही। यह वाक्या दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गया। जैसे ही दुकानदार ने फुटेज देखे तो आनन-फानन में पुलिस को सूचना दी गई। दुकानदार की सूचना पर पुलिस ने समय रहते इस महिला चोर गिरोह की ४ महिलाओं को अपनी हिरासत में ले लिया। पूछताछ के दौरान महिलाओं ने चोरी किए गए कपड़े भी पुलिस को सौंप दिए।

देवेंद्र पिता भानुप्रकाश सोनी की हाटपुरा दरवाजे के पास स्थित गारमेंट्स की दुकान पर दोपहर १२ बजे ४ अज्ञात महिलाएं आईं और काउंटर पर तैनात कर्मचारी से कपड़े दिखाने की बात करने लगी। कर्मचारी ने महिलाओं को कपड़े दिखाना आरंभ कर दिया। कर्मचारी जैसे ही रैक से कपड़े निकालकर काउंटर पर रखता तो एक महिला कपड़े को पसंद न पसंद करने की बात करती, दूसरी उसी कपड़े को देखने लगती और तीसरी मौका पाते ही कपड़े को गायब करने में लग जाती है। इस घटना से अनजान कर्मचारी सामान्य ग्राहक की तरह उनसे व्यवहार करते हुए कपड़े दिखाता रहता है लेकिन महिलाएं कोई कपड़ा नहीं खरीदती है और चली जाती है। जब दुकान संचालक सोनी सीसीटीवी फुटेज देखता है तब उसे पता चलता है कि दुकान पर ग्राहक बनकर आईं महिलाएं दुकान से २० हजार के कपड़े चुरा ले गई हैं। सोनी द्वारा घटना से पुलिस को अवगत कराया जाता है। इसी बीच महिलाएं शहर की अन्य दुकानों पर भी जाती हैं।

Show More
Lalit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned