अनाज का परिवहन बना जी का जंजाल, बिगडऩे लगे हालात

केंद्रों पर किसानों से अनाज खरीदने में होने लगी परेशानी

By: Lalit Saxena

Published: 12 May 2018, 07:30 AM IST

शाजापुर. समर्थन मूल्य पर हो रही चना, मसूर और सरसों की खरीदी के कार्य में दिनों दिन आवक तो बढ़ती जा रही है, वहीं खरीदे गए माल के परिवहन की चाल बहुत धीमी है। इससे शाजापुर कृषि उपज मंडी सहित जिले भर के खरीदी केंद्रों पर स्थिति बिगड़ती जा रही है। जल्द ही खरीदी केंद्रों से माल का परिवहन नहीं हुआ तो परेशानी बढ़ सकती है।
जिलेभर में समर्थन मूल्य पर चना, मसूर और सरसों की खरीदी के दौरान अब आवक बढऩे लगी है। जिन किसानों को पूर्वमें एसएमएस मिल गए थे और वे खरीदी केंद्र पर नहीं पहुंच पाए थे, ऐसे किसान भी अब समर्थन मूल्य के खरीदी केंद्रों पर अपनी उपज बेचने के लिए पहुंचने लगे है। ऐसे में लगातार सभी जगह पर आवक बढ़ गई है। हालत यह हो गई है कि कई खरीदी केंद्रों पर अनाज को खरीदने में भी परेशानी होने लगी है। इससे सभी खरीदी केंद्रों के प्रांगण भरते चले जा रहे है।शाजापुर कृषि उपज मंडी की बात की जाए तो यहां पर भी लगातार आवक बढऩे से पूरा प्रांगण भर गया है।

40 हजार बोरे पड़े कृषि मंडी में
शाजापुर कृषि उपज मंडी में शाजापुर, दिल्लौद और धाराखेड़ी तीन सोसायटियों का खरीदी केंद्र है। यहां पर तीनों सोसायटियों में प्रतिदिन चना, मसूर ओर सरसों की मिलाकर करीब 5-6 हजार क्विंटल की आवक हो रही है। मईमाह की शुरुआत से यहां पर आवक बढ़ गई है। इसके विपरित मंडी मेें खरीदकर रखे हुए माल के परिवहन की चाल धीमी है। प्रतिदिन मंडी से करीब एक से डेढ़ हजार क्विंटल माल का ही परिवहन हो रहा है। इस स्थिति में मंडी प्रांगण भरता जा रहा है। वर्तमान में तीनों खरीदी केंद्रों के मिलाकर करीब 20 हजार क्विंटल (40 हजार बोरे) अनाज यहां पर पड़े हुए है।यदि जल्द ही परिवहन की गति को नहीं बढ़ाया गया तो यहां पर समर्थन मूल्य की खरीदी करना मुश्किल हो जाएगा।

जिले के गोदामों में ही रखा जा रहा अनाज
जानकारी के अनुसार जिले के खरीदी केंद्रों पर समर्थन मूल्य पर खरीदे जा रहे चना, मसूर और सरसों का भंडारण जिले में ही किया जा रहा है। जिले के शुजालपुर, कालापीपल सहित अन्य स्थानों से माल को परिवहन करके शाजापुर पहुंचाया जा रहा है। इससे परिवहन में ज्यादा समय भी लग रहा है। हालांकि अधिकारियों का दावा हैकि एक-दो दिन में व्यवस्था पूरी तरह से सुधार ली जाएगी।सभी खरीदी केंद्रों से परिवहन की गति को बढ़ाकर जल्द से जल्द माल को हटवाया जाएगा।

ये बात सही है कि जिले में चना, मसूर और सरसों के परिवहन में परेशानी आ रही है, लेकिन एक-दो दिन में इस परेशानी का दूर कर लिया जाएगा। इसके लिए व्यवस्था की जा रही है।
विवेक तिवारी, जिला विपणन अधिकारी-शाजापुर

Lalit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned