शिक्षा विभाग में भ्रष्टाचार की खुली पोल, तीन-तीन बीएसए होंगे निलंबित

टीचर्स के प्रमोशन में की गई धांधली
दूसरी बार जांच में हुआ खुलासा
कमिश्नर के आदेश पर हुई थी जांच

By: shivmani tyagi

Updated: 06 Jul 2021, 05:09 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
शामली बेसिक शिक्षा विभाग में कनिष्ठ शिक्षकों को वरिष्ठ बनाने के मामले में बड़ा खेल सामने आया है। भ्रष्टाचार मामले की जांच कर रहे एसडीएम ने दोषी मानते हुए वर्तमान बीएसए गीता वर्मा समेत दो पूर्व बीएसए के निलंबन की संस्तुति की है। इस पूरे मामले में लेखा अधिकारी की भी भूमिका संदिग्ध मानी जा रही है।

यह भी पढ़ें: सपा के 'खेला होई' पर बीजेपी का पलटवार, '2022 में खेला ना होई, अपराधियों का खेला खत्म होई'

दरअसल साल 2017-18 में तत्कालीन बीएसए चंद्रशेखर ने प्राथमिक शिक्षकों को कनिष्ठ से वरिष्ठ शिक्षक के पद पर प्रोन्नति दी थी। कई शिक्षकों ने इस मामले की शिकायत थी। तत्कालीन डीएम इंद्र विक्रम सिंह ने जांच कराई तो आरोप सही पाए गए। साथ ही वरिष्ठ कोषाधिकारी ज्ञानेंद्र पांडे ने लेखाधिकारी राजेंद्र कौशिक को भी दोषी पाया और पूरी रिपोर्ट डीएम को दे दी। इस रिपोर्ट में लेखाधिकारी पर कोई कार्रवाई नहीं की और इस पूरे प्रकरण को ठंडे बस्ते में डाल दिया।

यह भी पढ़ें: एनकाउंटर के डर से थाने पहुंचे वॉन्टेड बदमाश, बोले- आगे से नहीं करेंगे क्राइम, हमें गिरफ्तार कर लो

इसके बाद शामली निवासी अनुज राणा ने इस पूरे प्रकरण की शिकायत कमिश्नर सहारनपुर से कर दी। इसके बाद कमिश्नर सहारनपुर ने इस मामले की रिपोर्ट डीएम जसजीतकौर को सौंपी। डीएम ने जांच के लिए एसडीएम देवेंद्र को नामित किया। एसडीएम देवेंद्र कुमार ने जांच के बाद बताया कि 23 शिक्षकों को कनिष्ठ से वरिष्ठ शिक्षक बनाने के गंभीर मामलों को लंबित रखने के लिए तत्कालीन बीएसए चंद्रशेखर व अनुराधा शर्मा तथा वर्तमान बीएसए गीता वर्मा को कार्रवाई न करने का दोषी पाते हुए तत्काल निलंबन करने की संस्तुति की गई है। जांच में लेखाअधिकारी की भी भूमिका संदिग्ध पाई गई है। एसडीएम देवेंद्र कुमार ने जांच रिपोर्ट डीएम जसजीत कौर को सौंप दी है। डीएम शामली ने बताया कि निलंबन की संस्तुति के बाद अब रिपोर्ट कमिश्नर सहारनपुर को भेजी जा रही है।

यह भी पढ़ें: पारस दूध के प्लांट में अमोनिया गैस का रिसाव, घंटों तक अंदर फंसे रहे 25 कर्मचारी

यह भी पढ़ें: रामपुर में 25 हिंदू परिवारों धर्म परिवर्तन की सूचना पर हंगामा, हिन्दूवादी नेताओं ने किया विरोध

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned