scriptmukhtar ansari's close miscreant sanjeev jeeva property attached | Yogi government 2.0 : योगीराज में मुख्तार अंसारी के करीबी कुख्यात बदमाश संजीव जीवा कसा शिकंजा, संपत्ति कुर्क | Patrika News

Yogi government 2.0 : योगीराज में मुख्तार अंसारी के करीबी कुख्यात बदमाश संजीव जीवा कसा शिकंजा, संपत्ति कुर्क

Yogi government 2.0 : योगी सरकार 2.0 एक के एक बदमाश के खिलाफ कड़ी कार्रवाई कर रही है। जहां एनकाउंटर में बदमाशों को गोली मारकर पकड़ा जा रहा है तो वहीं कई बदमाशों की संपत्ति भी कुर्क कर ली गई है। इसी कड़ी में मुख्तार अंसारी (Mukhtar ansari) के करीबी बदमाश संजीव जीवा (Sanjeev jeeva) की संपत्ति को भी शामली जिला प्रशासन ने कुर्क कर लिया है।

शामली

Published: April 09, 2022 10:40:31 am

Yogi government 2.0 : उत्तर प्रदेश में योगी सरकार 2.0 बनने के बाद से बदमाशों के खिलाफ तेजी से कार्रवाई हो रही है। बदमाशों की संपत्ति कुर्क करते हुए गैंगस्टर की कार्रवाई लगातार की जा रही है। इसी कड़ी में मुख्तार अंसारी (Mukhtar ansari) के करीबी व शामली के कुख्यात बदमाश संजीव जीवा (Sanjeev jeeva) पर गैंगस्टर की कार्रवाई करते हुए करीब 21 बीघा अवैध संपत्ति कुर्क की गई है। अपराध की दुनिया में संजीव जीवा के खिलाफ 1995 में पहला मुकदमा मुजफ्फरनगर के थाना सिविल लाइन में धारा 302, 394 व 120 बी आईपीसी के तहत दर्ज किया गया था। जीवा के खिलाफ दिल्ली, लखनऊ, मुजफ्फरनगर, फर्रुखाबाद, हरिद्वार, शामली, मेरठ और गाजीपुर में 26 मुकदमे दर्ज हैं। शामली पुलिस और प्रशासन ने अपराध की दुनिया के बेताज बादशाह संजीव जीवा की संपत्ति पर कुर्की की कार्यवाही करते हुए कब्जे में ले लिया है।
mukhtar-ansari-s-close-miscreant-sanjeev-jeeva-property-attached.jpg
Yogi government 2.0 : योगीराज में मुख्तार अंसारी के करीबी कुख्यात बदमाश संजीव जीवा कसा शिकंजा, संपत्ति कुर्क।
दरअसल, उत्तर प्रदेश में खौफ का पर्याय बना संजीव जीवा फिलहाल मैनपुरी जेल में बंद है। संजीव जीवा वह इनामी बदमाश रहा है, जिस पर लूट, डकैती, रंगदारी और हत्या जैसे मुकदमे दर्ज हैं। संजीव जीवा के खिलाफ पहला मुकदमा मुजफ्फरनगर के थाना सिविल लाइन में धारा 302, 394 व 120 बी आईपीसी के तहत दर्ज हुआ था। अपराध के बल पर ही संजीव जीवा ने काफी अवैध संपत्ति अर्जित की है। शामली के गांव आदमपुर में एसडीएम और सीओ सिटी ने मौके पर पहुंचकर संजीव जीवा की लगभग 21 बीघा अवैध जमीन की कुर्की करते हुए कब्जा ले लिया है।
यह भी पढ़ें- सीएम योगी कार्यालय का ट्विटर हैंडल हैक, 34 मिनट में किये दर्जनों ट्वीट

बदमाश अनिल ने संजीव जीवा से ही खरीदी थी एके-47

बता दें कि 5 अप्रैल को शामली पुलिस ने एके-47 के साथ एक बदमाश को गिरफ्तार किया था। पकड़े गए बदमाश अनिल उर्फ पिंटू ने एके-47 व 1300 बुलेट कारतूस की बरामदगी के मामले में संजीव जीवा का ही नाम लिया था, जिसमें उसने कहा था कि संजीव जीवा से ही उसने 11 लाख रुपए में यह एके-47 और बुलेट खरीदी थी। पुलिस ने तीन दिन के अंदर ही अब कुख्यात बदमाश संजीव जीवा की संपत्ति पर भी कब्जा जमा लिया है। उत्तर प्रदेश में योगी की सरकार बनने के बाद बदमाशों पर लगातार कार्यवाही की जा रही है, जिसके चलते बदमाशों में खौफ बना हुआ है।
यह भी पढ़ें- राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण को लेकर हरकत में आई NSG सुरक्षा

जिलाधिकारी बोलीं- गैंगस्टर में की गई कार्यवाही

जिलाधिकारी जसजीत कौर ने बताया कि संजीव जीवा नामी क्रिमिनल पर गैंगस्टर की कार्यवाही की गई है। जीवा की 14ए के तहत गांव आदमपुर में लगभग 21 बीघा अवैध संपत्ति कुर्क की गई है। शामली सीओ सिटी और एसडीएम ने मौके पर जाकर संजीव जीवा की अवैध संपत्ति को कुर्क कर कब्जे में ले लिया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

कर्नाटक के सबसे अमीर नेता कांग्रेस के यूसुफ शरीफ और आनंदहास ग्रुप के होटलों पर IT का छापाPM Modi in Gujarat: राजकोट को दी 400 करोड़ से बने हॉस्पिटल की सौगात, बोले- 8 साल से गांधी व पटेल के सपनों का भारत बना रहापंजाब की राह राजस्थान: मंत्री-विधायक खोल रहे नौकरशाही के खिलाफ मोर्चा, आलाकमान तक शिकायतेंई-कॉमर्स साइटों के फेक रिव्यू पर लगेगी लगाम, जांच करने के लिए सरकार तैयार करेगी प्लेटफॉर्मभाजपा प्रदेश अध्यक्ष का हेमंत सरकार पर बड़ा हमला, कहा - 'जब तक सत्ता से बाहर नहीं करेंगे, तब तक चैन से नहीं सोएंगे'VIP कल्चर पर पंजाब की मान सरकार का एक और वार, 424 वीआईपी को दी रही सुरक्षा व्यवस्था की खत्मIPL के बाद लियम लिविंगस्टोन ने इस टूर्नामेंट में जड़ा सबसे लंबा छक्का, देखें वीडियोओडिशा में "भ्रूण लिंग" जांच गिरोह का भंडाफोड़, 13 गिरफ्तार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.