Shamli: जुमे की नमाज में दिखी सोशल डिस्टेंसिंग, केवल पांच लोग ही पहुंचे

Highlights

  • कोरोना को देखते हुए कई जगह बंद रहीं मस्जिदें
  • वेस्ट यूपी के कई जिलों में घरों में अदा की गई नमाज
  • अजान के समय की गई घरों में रहने की अपील

By: sharad asthana

Updated: 27 Mar 2020, 03:53 PM IST

शामली। कोरोना वायरस (Coronavirus) से बचाव के लिए पूरे देश में लाॅकडाउन (Lockdown) लागू है। इसके चलते धार्मिक स्थलों के कपाट बंद हैं। शुक्रवार (Friday) को जुमे की नमाज (Juma Namaz) भी मस्जिदों में सावधानीपूर्वक चार—पांच आदमियों ने पढ़ी। बाकी लोगों ने अपने घर पर नमाज अदा की। नमाज के बाद कोरोना से जल्द निजात दिलाने के साथ ही सुख—शांति की दुआएं मांगी गईं।

यह भी पढ़ें: Lockdown: सड़क किनारे तड़प रही गर्भवती रुखसाना के लिए फरिश्ता बनी पुलिस, अस्पताल पहुंचाने के साथ ही दिया राशन

प्रशासन ने दी थी चेतावनी

लॉकडाउन के दौरान गुरुवार को बुलंदशहर में चोरी छिपे नमाज पढ़ाते दो लोगों को गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद सभी जगह मस्जिदों में नमाज अदा नहीं करने की अपील की गई थी। कई मुस्लिम धर्मगुरुओं ने भी कोरोना से बचाव के लिए घरों में नमाज पढ़ने की अपील की थी। साथ ही प्रशासन ने भी मस्जिदों में नमाज पढ़ने पर केस दर्ज करने की चेतावनी दी थी। इसका असर शुक्रवार को देखा गया। वेस्ट यूपी के सभी जिलों में शुक्रवार को मस्जिदें बंद रहीं और लोगों ने अपने घरों पर जुमे की नमाज अदा की।

यह भी पढ़ें: Lockdown: Noida Police ने अनीस को पहुंचाया उसकी गर्भवती पत्नी के पास, तमन्ना ने बेटे का नाम रखा रणविजय

शामली में भी बरती गई सावधानी

शामली (Shamli) में भी जुमे की नमाज पर पूरी तरह सावधानी बरती गई। नगर की जामा मस्जिद सहित अन्य मस्जिदों में जुमे की नमाज के दौरान चार—पांच आदमियों ने सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखते हुए नमाज अदा की। बाकी लोगों ने अपने घर पर रहकर जोहर की नमाज अदा की। जामा मस्जिद के शाही इमाम मौलाना ताहिर हसन ने कहा कि उन्होंने मस्जिदों में चार—पांच लोगों ने नमाज अदा की है। उन्होंने रात में और सुबह अजान के समय लोगों से अपील थी कि वे अपने घरों पर नमाज अदा करें।

coronavirus
sharad asthana
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned