सूर्यास्त के बाद यमुना नदी से रेत खनन का वीडियो वायरल, ठेकेदारों ने मोड़ दी मुख्य जलधारा

Highlights

- सीएम योगी आदित्यनाथ के आदेशों को ठेंगा दिखा रहे खनन कारोबारी
- वीडियो वायरल होने के बाद से खनन कारोबारी में हड़कंप
- स्थानीय प्रशासन मामले पर साधी चुप्पी

By: lokesh verma

Published: 17 Jan 2021, 10:57 AM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

शामली. सीएम योगी आदित्यनाथ ने मुख्यमंत्री बनने के बाद खनन के गोरखधंधे को बंद कराने की दृढ़ता दिखाई थी। इसके साथ ही नीति बनाई और कड़े निर्देश भी जारी किए, लेकिन बात अगर शामली जिले की करें तो यहां कैराना खादर क्षेत्र में कई स्थानों पर सरकार व जिला प्रशासन की ओर से खनन ठेकेदारों को रेत खनन करने की अनुमति दी गई है। इसी बीच गत दिवस शामली जिले में रात्रि में यमुना नदी से खनन करने की एक वीडियो वायरल हुई है, जो कैराना के गांव इससोपुर खुरगान की बताई जा रही है। यहां ठेकेदार तमाम नियमों को ताक पर रखकर खनन का काम जोर-शोर से करा रहा है। यमुना नदी से खनन के लिए पोकलेन मशीन व अन्य भारी भरकम मशीनों का उपयोग किया जा रहा है। इसके अलावा खनन ठेकेदारों ने नियमों को ताक पर रखकर यमुना नदी की जल धारा को भी मोड़ दिया है। इसके बाद भी स्थानीय प्रशासन इस मामले पर चुप्पी साधे हुए है।

यह भी पढ़ें- UP CM Yogi Adityanath पहुंच रहे शामली तैयारियाें में जुटा प्रशासन

यह है पूरा मामला

दरसल, कैराना के यमुना खादर क्षेत्र के गांव इससोपुर खुरगान में पांच साल के लिए रेत खनन पट्टा आवंटित है। यहां एनजीटी के आदेशों का पालन और शासन के दिशा-निर्देशों के अनुरूप ही रेत खनन की अनुमति दी गई है। बावजूद इसके खनन ठेकेदारों ने तमाम नियम-कानूनों को ताक पर रख दिया है। यमुना नदी के भीतर पोकलेन मशीनों व अन्य उपकरणों से मुख्य जलधारा को मोड़ दिया गया है। वैध खनन पट्टे की आड़ में मानकों के विपरीत यमुना नदी से प्रतिदिन लाखों रुपए कीमत का हजारों टन रेत निकाल ले जा रहे है। इसके साथ ही जलधारा के अंदर भी मशीनों को चलाया जा रहा है। खनन ठेकेदारों ने यमुना नदी के अंदर से रेत निकलने के लिए एक रास्ता भी बना दिया है। स्थानीय प्रशासन की ओर से भी इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

प्लास्टिक के कट्टे डालकर यमुना की धारा मोड़ी

कैराना के गांव इस्सोपुर खुरगान में रात में हो रहे रेत खनन की वीडियो वायरल में युवक के द्वारा बताया जा रहा है कि रेत खनन ठेकेदारों ने प्लास्टिक के कटटों में मिट्टी भरकर यमुना के बीच में अस्थाई पुल तैयार कर दिया है, जिससे रेत खनन ठेकेदार ने यमुना की धारा को भी मोड़ दिया है। वही ग्रामीणों ने प्रशासन से कार्रवाई की गुहार लगाई है।

एसडीएम का बयान

वही संबंध में जब कैराना उप जिलाधिकारी उद्भव त्रिपाठी से बात की गई तो उन्होंने बताया कि अगर रात्रि में खनन की कोई वीडियो वायरल हो रही है तो उसकी जांच कराकर संबंधित खनन ठेकेदार के खिलाफ कठोर कानूनी कार्रवाई कराई जाएगी। अभी हमारी जानकारी में कोई वीडियो नहीं आया है। प्रशासन किसी को भी अवैध रेत खनन करने की अनुमति नहीं देता है, ना ही रात्रि में खनन होगा।

यह भी पढ़ें- कड़ाके की सर्दी के बीच कोहरे में विजिबिलिटी हुई जीरो, हादसे रोकने के लिए पुलिस कर रही ये काम

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned