यहां में चोरी हो गई 95 करोड़ रुपए की बिजली

यहां में चोरी हो गई 95 करोड़ रुपए की बिजली
यहां में चोरी हो गई 95 करोड़ रुपए की बिजली

jay singh gurjar | Updated: 12 Oct 2019, 12:34:38 PM (IST) Sheopur, Sheopur, Madhya Pradesh, India

-बीते छह माह में 13 करोड़ यूनिट बिजली चोरी में चली गई, बिजली कंपनी को लगी 95 करोड़ की चपत
-श्योपुर जिले में बिजली कंपनी के तमाम दावों और करोड़ों रुपए के आधारभूत कार्य होने के बाद भी बिजली चोरी पर नहीं लग सकी लगाम
-हर माह बिजली की कुल खपत में से महज आधी से भी कम बिजली की हो पा रही बिलिंग, उसमें भी वसूली आधी-अधूरी

श्योपुर,
भले ही बिजली कंपनी बकाया बिलों की वसूली के लिए अभियान चलाकर बकायादारों के कनेक्शन काटने और नोटिस देने की कार्यवाही कर ही हो, लेकिन श्योपुर जिले में बिजली चोरी पर लगाम नहीं लग पा रही है। स्थिति यह है कि बीते छह माह में जिले में 13 करोड़ यूनिट से अधिक बिजली चोरी हो गई, जिसके एवज में कंपनी को लगभग 95 करोड़ रुपए की चपत लगी है।

मध्यप्रदेश मध्यक्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी द्वारा श्योपुर में बिजली सप्लाई दी जाती है। बताया गया है कि चालू वित्तीय वर्ष 2019-20 में अप्रेल से सितंबर तक के पहले छह महीनों में जिले में विद्युत सबस्टेशनों से 38 करोड़ 29 लाख 72 हजार यूनिट बिजली सप्लाई की गई है। लेकिन इन्हीं छह महीनों में कंपनी ने विक्रय यूनिट के बिल जारी किए, वो हैं 24 करोड़ 6 8 लाख 6 1 हजार यूनिट बिजली के ही। यानि शेष 13 करोड़ 6 1 लाख 11 हजार यूनिट बिजली चोरी या छीजत में चली गई है। ऐसे में औसतन 7 रुपए प्रति यूनिट (घरेलू, कमॢशयल आदि अलग-अलग श्रेणियों में बिजली के रेट अलग-अलग होते हैं) से भी इसकी राशि का आंकलन किया जाए तो लगभग 95 करोड़ रुपए हो रहा है। जाहिर जिले में बिजली चोरी के नाम पर बिजली कंपनी को करोड़ों रुपए की चपत लग रही है। हालांकि पिछले बरसों में करोड़ों रुपए के प्रोजेक्ट धरातल पर उतारे गए, लाइनों में केबलीकरण हुआ और तमाम दावे किए गए, लेकिन विभागीय मैदानी अमले की लापरवाही से बिजली चेारी की स्थिति जस की तस है।

पिछले दो महीनों में ही 41-42 फीसदी बिलिंग
जिले में बीते छह माह में जहां 13 करोड़ यूनिट से अधिक की बिजली चोरी हो गई है। वहीं बीते दो माह की ही स्थिति देखें तो सबस्टेशनों के हुई बिजली सप्लाई के एवज में बिजली कंपनी 41 से 42 फीसदी ही बिलिंग कर पाई है और 58 से 59 फीसदी बिजली चोरी में चल गई। बताया गया है कि अगस्त माह में जहां 41.16 फीसदी की बिलिंग हो पाई है, जबकि सितंबर में 42.6 8 फीसदी। बिजली कंपनी के सूत्रों की माने तो घरेलू कनेक्शनों के साथ ही पंप कनेक्शनों में भी चोरी हो रही है। पंप कनेक्शनों में तो स्थिति ये है कि 5 एचपी की मोटर पर लिए गए कनेक्शन पर 12 एचपी तक की मोटर चलाई जा रही हैं। जाहिर है इसमें विभाग के मैदानी अमले की मिलीभगत होने की संभावनाओं से भी इंकार नहीं किया जा सकता है।

बिल जमा नहीं करने से बढ़ रहा बकाया का आंकड़ा
बिजली चोरी होने के साथ ही जिले में बिजली बिलों की जमा करने की स्थितियों में भी सुधार नहीं आया है। हालांकि बिजली कंपनी के अफसर शहर सहित जिले भर में कनेक्शन काटने और वसूली का अभियान चला रहे हैं, लेकिन बकाया का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है। वर्तमान में जिले भर के सभी तरह के बिजली उपभोक्ताओं पर 251 करोड़ 6 1 लाख रुपए बकाया है, जिसमें घरेलू कनेक्शनों पर 124 करोड़ 78 लाख, पंप कनेक्शनों पर 8 4 करोड़ 2 लाख, व्यवसायिक कनेक्शनों पर 29 करोड़ 6 2 लाख रुपए बकाया है।


स्थितियां सुधारने प्रयासरत
यह बात सही है कि बिजली चोरी की स्थिति है, फिर भी इसमें हम लगातार प्रयासरत हैं, जिसके चलते काफी सुधार भी आया है। वहीं बिलों की वसूली में पहले की तुलना में काफी सुधार आया है और हम इसके लिए लगातार अभियान चला रहे हैं।
दिनेश सुखीजा
महाप्रबंधक, बिजली कंपनी श्योपुर

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned