कुपोषण से लडऩे तैयार होगा एक्शन प्लान, जिले के 55 फीसदी बच्चे कुपोषित

महिला एवं बाल विकास मंत्री का श्योपुर में कुपोषण रोकने पर फोकस

By: Anoop Bhargava

Published: 19 Jan 2019, 11:13 AM IST

अनूप भार्गव
श्योपुर। जिले में कुपोषण को समाप्त करने के लिए एक्शन प्लान तैयार किया जा रहा है। इसके लिए महिला एवं बाल विकास मंत्री इमरती देवी सेवानिवृत्त चिकित्सकों से सुझाव ले रही हैं। सुझाव के अनुरूप नीति तैयार कर कुपोषण से लडऩे का काम शुरू किया जाएगा। पत्रिका से खास चर्चा करते हुए महिला एवं बाल विकास मंत्री इमरती देवी से इस बात का खुलासा किया। उनका कहना था कि श्योपुर जिले में कुपोषण से लडऩे पर उनका फोकस सबसे ज्यादा है। क्योंकि इस जिले में कुपोषण से सबसे ज्यादा मौत होती हैं।
उन्होंने कहा है कि जिले के अधिकारियों से भी एक्शन प्लान तैयार करने को कहा गया है। इसके साथ ही पोषण आहार पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। एनआरसी में भर्ती होने वाले बच्चों की माताओं को पैसा न मिलने के सवाल पर महिला एवं बाल विकास मंत्री इमरती देवी ने कहा कि भर्ती बच्चों की माताओं के पैसा बढ़ाने की योजना भी है। उल्लेखनीय है कि जिले में हर माह अति कम वजन के तीन हजार से अधिक बच्चे सामने आते हैं वहीं गंभीर कुपोषित बच्चों की संख्या 400 के करीब होती है।
55 फीसदी बच्चे कुपोषित
नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे-4(एनएफएचएस-4) 2015-16 की रिपोर्ट के अनुसार श्योपुर जिले में पांच वर्ष तक के 55 फीसदी बच्चे कुपोषित हैं। इतना ही नहीं हर माह कम वजन के 18 हजार से ज्यादा बच्चे सर्वे में सामने आते हैं। गंभीर कुपोषित बच्चों की संख्या 348 से 400 के आसपास रहती है।
जिले की स्थिति
माह अक्टूबर
कम वजन 19107
अति कम वजन 3458
गंभीर कुपोषित 409
माह नवम्बर
कम वजन 18659
अति कम वजन 3344
गंभीर कुपोषित 380
माह दिसम्बर
कम वजन 18755
अति कम वजन 3412
गंभीर कुपोषित 348

Anoop Bhargava
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned