38 दिन में 20 हजार से खरीदा, अब चार दिन में पांच हजार किसानों से गेहूं खरीदने की चुनौती

जिले में गेहूं खरीद केंद्रों पर लगी लंबी लाइनें, 26 मई है खरीदी की अंतिम तारीख, किसानों की बढ़ी चिंताएं

By: jay singh gurjar

Published: 23 May 2020, 01:34 PM IST

श्योपुर,
जिले में गेहूं खरीदी अंतिम दौर में है, तब भी व्यवस्थाएं नहीं सुधर रहीं हैं। अब भी केंद्रों पर लंबी-लंबी कतारें लगी हैं। वहीं अब किसानों की चिंताएं और बढ़ गई हैं, क्योंकि खरीदी की अंतिम तारीख में महज चार दिन शेष बचे हैं, जबकि अभी लगभग पांच हजार किसान गेहूं बेचने के इंतजार में हैं। विशेष बात यह है कि बीते 38 दिनों में 20 हजार किसानों ने गेहूं बेचा, लेकिन अब महज चार दिन में 5 हजार किसान कैसे बेच पाएंगे।


जिले में गत 15 अप्रैल से गेहूं खरीदी चल रही है और 22 मई तक के 38 दिनों में 79 केंद्रों पर 20 हजार 56 9 किसानों ने गेहूं बेचा है। जबकि इस बार गेहूं विक्रय के लिए 25 हजार 291 किसानों ने अपना पंजीयन कराया है। इस लिहाज से अभी 4 हजार 722 किसान का नंबर नहीं आया है। हालांकि शुक्रवार की सुबह तक 25 हजार 194 किसानों को मैसेज जारी हो चुके हैं, लेकिन खरीदी की अंतिम तारीख 26 मई है, लिहाजा इन चार दिनों में कैसे खरीदी हो पाएगी, जबकि केंद्रों पर पहले ही लंबी-लंबी कतारें लगी हैं और किसानों का सात से आठ दिन में नंबर आ रहा है। ऐसे में किसान परेशान हैं। किसानों का कहना है कि खरीदी की तारीख बढऩी चाहिए, ताकि सभी पंजीकृत किसानों का गेहूं बिक सके। अभी तक जिले में 20 लाख 72 हजार 770 क्ंिवटल गेहूं की खरीदी की जा चुकी है, जिसमें 17 लाख 28 हजार क्ंिवटल का उठाव हो चुका है।


कई किसानों के नहीं बन रहे कल्टीवेटर
जहां खरीदी की तारीख नही बढ़ी है, वहीं सहकारिता आयुक्त के आदेश के बाद अब पुराने मैसेजों पर खरीदी नहीं हो रही है, जिससे किसानों के कल्टीवेटर(भुगतान पर्ची) नहीं बन पा रहे हैं। परिणामस्वरूप किसानों का भुगतान अटक गया है। यही नहीं कई किसान पुराने मैसेजों से गेहूं बेचने में वंचित रह गए हैं।

jay singh gurjar Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned