नहर का पानी सीप में छोड़ा, स्टॉप डैम टूटा होने से बह गया

गर्मियों में आएगी दिक्कत, उठाई जीर्णोद्धार की मांग

 

 

सोंईकला(श्योपुर). सीप नदी का जलस्तर ऊंचा उठाने चंबल नहर से पानी छोड़ा जा रहा है, लेकिन स्टॉप डैम टूट होने के कारण सोंई के निकट ये पानी ठहरने के बजाय टूटे स्टॉप से बह गया है। जिसके चलते आगामी ग्रीष्मकाल में यहां पानी का भराव नहीं रहेगा। यही वजह है कि सोंई व आसपास के लोगों का कहना है कि नदी और गांव का भूजलस्तर बरकरार रखने के लिए स्टॉप डैम का जीर्णौद्धार कराया जाए।

उल्लेखनीय है कि आसपास के गांवों के ग्रामीणों की मांग पर जल संसाधन विभाग के द्वारा करीब 10 साल पूर्व सोंईकलां में पुल के पास सीप नदी पर स्टॉपडैम का निर्माण कराया गया। ग्रामीणों के मुताबिक स्टॉपडैम के निर्माण पर 49 लाख रुपए खर्च हुए।

मगर डेम का निर्माण घटिया स्तर से कराया गया। जिस कारण ये डैम दो साल बाद ही फूट गया। हालांकि विभाग और ग्राम पंचायत ने कई बार मरम्मत भी कराई, लेकिन पहली बारिश में ही धराशायी हो जाता है। जिसके चलते यहां बारिश का पानी नहीं ठहर पाता। वर्तमान में नहर से रिसाव होने वाला पानी सीप नदी में छोड़ा जा रहा है ताकि नागदा से लेकर मानपुर तक सीप में गर्मियों तक पानी भरा है और आसपास का भूजस्तर भी बरकरार है।

ऐसे में सोई के ग्रामीणों की मांग है कि स्टॉप डेम को दुरस्त कराया जाएगा, ताकि नहर का पानी इसमें भरा जा सके और गर्मियों तक यहां पानी का भराव हो सके। ग्रामीणों ने प्रशासन से डैम की मरम्मत की दिशा में प्रभावी कार्रवाई करने की मांग की है।

हमने स्टॉप डैम के निर्माण के लिए स्टीमेट बनाया था और प्रशासन को दे दिया। इसका निर्माण आरईएस को करना है।

सुभाष गुप्ता, कार्यपालन यंत्री, जलसंसाधन विभाग श्योपुर

Vivek Shrivastav Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned