तीन दिन में भी शुरू नहीं हो पाए पूरे केंद्र, 40 फीसदी केंद्रों के खुलने का इंतजार

46 केंद्रों पर तीन दिन में 94 किसानों से खरीदा 2700 क्विंटल गेहूं, किसानों की मैपिंग नहीं होने से नए केंद्र शुरू होने में आ रही परेशानी

By: jay singh gurjar

Published: 18 Apr 2020, 07:00 AM IST

श्योपुर,
लॉकडाउन के बीच किसानों को राहत देने के लिए भले ही सरकार ने 15 अप्रैल से समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी प्रारंभ करा दी हो, लेकिन तीन दिन बाद भी जिले में पूरे 79 केंद्र शुरू नहीं हो पाए हैं। स्थिति यह है कि तीन दिन बाद भी 40 फीसदी केंद्र खुलने के इंतजार में है। हालांकि अफसर सभी व्यवस्थाएं चाक चौबंद बताते हैं, लेकिन धरातलीय स्थिति यह है कि पंचायतस्तर पर केंद्र खोलने के आदेश के चलते किसानों की मैपिंग नहीं हो पाई है, जिससे केंद्र अधर में लटके हुए हैं। यही वजह है कि किसान अपना गेहूं बेचने में परेशान हेा रहे हैं, क्योंकि खुली मंडी में भी कम किसान बुलाए जा रहे हैं और वहां भी गेहूं के भाव कम है।


जिले में समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी के लिए प्रशासन ने 79 केंद्र निर्धारित किए हैं, जिसमें इस बार 20 नए केंद्र हैं। लेकिन शुक्रवार की दोपहर तक इन 79 केंद्रों में से महज 46 केंद्र ही प्रारंभ हो पाए हैं। विशेष बात यह है कि इनमें 31 केंद्र तो सायलो नागदा और सलमान्या के है, यानि एकल केंद्र महज 15 ही खुल पाए हैं, जबकि 33 केंद्रों को अभी खुलने का इंतजार है। बताया गया है कि नए केंद्र बनाए जाने के बाद किसानों की मैपिंग की जानी है, लेकिन अभी तक मैपिंग नहीं होने से ये केंद्र शुरू नहीं हो पाए हैं। जिसके कारण संबंधित क्षेत्र के किसानों को गेहूं विक्रय के लिए इंतजार करना पड़ रहा है। वहीं दूसरी ओर बीते तीन दिनों में शुरू हुए 46 केंद्रों पर 94 किसानों से 2770 क्ंिवटल गेहूं की खरीद हो चुकी है। विशेष बात यह है कि खरीद केंद्रों पर मैसेज से बुलाए जा रहे किसानों के गेहूं की मात्रा काफी कम निर्धारित की है, जिससे किसान परेशान हैं। इसी केा लेकर किसानों ने गेहूं विक्रय की मात्रा बढ़ाने की मांग की है। इस संबंध में जिला आपूर्ति अधिकारी एनएस चौहान का कहना है कि सभी केंद्रों पर व्यवस्थाएं हो गई हैं और भोपाल से जैसे जैसे किसानों केा मैसेज आ रहे हैं, वैसे वैसे केंद्रों पर खरीदी शुरू हो गई है।


मंडी में भी भाव गिरे, किसानों के साथ दोहरी मार
जहां एक ओर जिले में गेहूं के समर्थन मूल्य के कांटे पूरी तरह नहीं खुल पाए हैं, वहीं दूसरी ओर मंडियों में भी गेहूं के भाव काफी कम है। जिससे किसान परेशान हैं। शुक्रवार को श्योपुर मंडी मेंं ही गेहूं के दाम 1551 से 1790 रुपए प्रति क्ंिवटल तक रहे। वहीं चना 3730 से 3900 और सरसों 3990 से 3998 तक बिकी। जबकि तीनों ही उपज की समर्थन मूल्य काफी ज्यादा है। ऐसे में किसानों के साथ दोहरी मार हो रही है।


कलेक्टर-सीइओ ने लिया जायजा
जिले में गेहूं खरीदी के लिए बनाए जा रहे केंद्रों की धरातलीय स्थिति जानने शुक्रवार को कलेक्टर प्रतिभा पाल और जिपं सीइओ हर्ष सिंह ने वीरपुर क्षेत्र का भ्रमण किया। इस दौरान उन्होंने वीरपुर और ओछापुरा केंद्रों का निरीक्षण किया। दोनों अधिकारियों ने अधीनस्थों केा व्यवस्थाएं दुरुस्त करने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए गेहूं खरीदी के निर्देश दिए।

jay singh gurjar Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned