विधायकों की नाजायज मांगों के दबाव में काम कर रहे सीएम-कांग्रेस जिलाध्यक्ष

कांग्रेस जिलाध्यक्ष ने अपनी सरकार और पार्टी पर फिर उठाए सवाल, बोले दिल्ली चुनाव में हार पर अब आत्मचिंतन जरूरी

श्योपुर,
दिल्ली में कांग्रेस की करारी हार पर शीर्ष नेतृत्व पर सवाल उठाते हुए कांग्रेस के जिलाध्यक्ष बृजराज सिंह चौहान ने पार्टी को न केवल आत्मचिंतन करने की बात कही, बल्कि नेतृत्व में बदलाव की मांग करते हुए प्रियंका गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया जैसे ऊर्जावान नेतृत्व की आवश्यकता बताई।


शुक्रवार को प्रेस को जारी एक विज्ञप्ति में चौहान ने कहा कि 2018 के विधानसभा चुनाव में ज्योतिरादित्य सिंधिया के चमत्कारिक नेतृत्व में कांग्रेस की सरकारी बनी, लेकिन उन्हें मुख्यमंत्री न बनाकर कमलनाथ को बना दिया। जब से मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी है, तब से पार्टी संगठन एवं कार्यकर्ताओं की उपेक्षा हो रही है। जिसके चलते कार्यकर्ताओं में मनोबल खत्म हो रहा है। मुख्यमंत्री कांग्रेसी विधायकों की जायज एवं नाजायज मांगों को पूरा करने के लिए दबाव में काम कर रहे हैं। विधायकों को नाजायज तरीके से राशि प्रदान कर उपकृत किया जा रहा है तथा विधायकों द्वारा विधायक निधि वितरण में कमीशन खोरी करने की चर्चा भी कार्यकर्ताओं में हो रही है। मंत्रियों द्वारा भी जिलों के भ्रमण के समय पार्टी कार्यकर्ताओं को दरकिनार किया जा रहा है जिसके कारण प्रदेश में कांग्रेस की साख को बट्टा लग रहा है तथा छवि खराब हो रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के मुख्यमंत्री, मंत्री और विधायकों द्वारा इसी प्रकार पार्टी संगठन एवं कार्यकर्ताओं की भावना अनुसार कार्य नहीं किया जाएगा एवं मनमानी की जाएगी तो पार्टी संगठन विरोध पर उतर आएगा। पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को इन सब को देखने की आवश्यकता है । कार्यकर्ताओं की अपेक्षा इसी प्रकार चलती रही तो आने वाले समय में होने वाले तमाम चुनावों में दिल्ली जैसे कांग्रेस के शर्मनाक प्रदर्शन को जारी रहने से रोकना मुश्किल होगा। चौहान ने कहा कि आज पार्टी को प्रदेश और देश में ऊर्जावान एवं धारदार नेतृत्व की आवश्यकता है।

jay singh gurjar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned