खरीद केंद्रों पर अव्यवस्थाएं, कम दाम में मंडी में उपज बेच रहे किसान

गत वर्ष के मुकाबले जिले की कृषि उपज मंडियों में इस बार ज्यादा हुई गेहूं, चना और सरसों की आवक

By: jay singh gurjar

Published: 16 May 2020, 08:13 PM IST

श्योपुर,
कोरोना महामारी के बीच किसानों की मुसीबतें ज्यादा बढ़ रही हैं। एक तो खरीद केंद्रों पर व्यवस्थाओं के अभाव में किसानों को लंबी-लंबी कतारों में लगना पड़ रहा है, वहीं मंडियों में भी उपज के पूरे दाम नहीं मिल रहे हैं। विशेष बात यह है कि जिले में समर्थन मूल्य के खरीद केंद्रों पर व्यवस्थाएं नहीं होने और मनमाने तरीके से उपज रिजेक्ट किए जाने के चलते किसान कम भाव में अपनी उपज मंडियों में ही बेच रहे हैं।

यही वजह है कि मंडियों में गत वर्ष के मुकाबले इस बार गेहूं, चना और सरसों की ज्यादा आवक हुई है। जिले की सभी कृषि मंडियों में 14 मई तक की स्थिति में वर्ष 2019 में गेहूं की आवक 1 लाख 82 हजार 10 क्ंिवटल हुई थी, लेकिन इस बार ये मात्रा 1 लाख 91 हजार 880 क्ंिवटल पहुंच गई है। वहीं गत वर्ष सरसों की आवक 39 हजार 660 क्ंिवटल हुई थी, वो इस बार बढ़कर 80 हजार 750 क्ंिवटल हो गई है। हालांकि चना की स्थिति लगभग बराबर सी है, लेकिन चना के खरीद केंद्रों पर किसानों को काफी परेशानियां उठानी पड़ रही हैं।


1८ मई से सभी किसानों के लिए खुलेगी मंडी
लॉकडाउन के चलते अभी तक कृषि मंडियों में सीमित किसानों को पंचायतवार बुलाया जा रहा था, लेकिन अब किसानों की मांग पर 1८ मई से सभी किसानों के लिए मंडी खोलने के निर्देश कलेक्टर राकेश कुमार श्रीवास्तव ने जारी कर दिए हैं।

jay singh gurjar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned